बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव
Myjyotish

बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

सोलन के व्योम बिंदल ने यूपीएससी में पाया 141वां स्थान

हिमाचल प्रदेश के सोलन शहर के वार्ड-6 निवासी व्योम बिंदल ने यूपीएससी की परीक्षा में 141वां स्थान प्राप्त किया।

25 सितंबर 2021

Digital Edition

मौसम: हिमाचल में 30 सितंबर तक बारिश जारी रहने के आसार, भूस्खलन से तीन कारें क्षतिग्रस्त

हिमाचल प्रदेश में 30 सितंबर तक मौसम खराब रहने के आसार हैं। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के अनुसार इस दौरान  राज्य के विभिन्न भागों में बारिश के आसार हैं। केंद्र के अनुसार मैदानी और मध्यम ऊंचाई वाले भागों में बारिश और ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी का अनुमान है। वहीं, प्रदेश में न्यूनतम तापमान सामान्य से 1 से 2 डिग्री सेल्सियस अधिक दर्ज किया गया है जबकि अधिकतम तापमान सामान्य है। उल्लेखनीय है कि अभी भी मंडी जिला में पांच और कुल्लू में दो सड़कें बंद हैं। 
 
ये भी पढ़ें: शिमला: घंडल में नेशनल हाईवे-205 पर बनेगा बैली ब्रिज, मंत्री के आदेश पर काम शुरू

वहीं, राजधानी शिमला में भूस्खलन का सिलसिला जारी है। शहर के उपनगर पंथाघाटी में भूस्खलन होने के बाद सड़क पर आए मलबे से दो कारें क्षतिग्रस्त हो गई हैं। दोनों वाहन सड़क किनारे पहाड़ी के नीचे पार्क थे। एक कार की छत, जबकि दूसरे वाहन के बंपर को नुकसान पहुंचा है। रविवार को लोक निर्माण विभाग ने सड़क से मलबे को हटा दिया है। कारों को काफी नुकसान पहुंचा है। उधर, रविवार को प्रशासन और पुलिस की टीम ने मौका का निरीक्षण किया। 
  
हाईवे पर पहाड़ी दरकी
उधर, जालंधर-मंडी वाया धर्मपुर नेशनल हाईवे पर रविवार दोपहर करीब 12:30 बजे लौंगणी के पास पहाड़ी दरक गई। इससे सड़क से गुजर रही एक कार भूस्खलन की चपेट में आ गई। कार में बैठे चालक ने मुश्किल से जान बचाई। उसे मामूली चोटें आई हैं। भूस्खलन के बाद मार्ग बंद हो गया। तीन घंटे के बाद हाईवे को बहाल कर दिया गया है। रविवार को मौसम साफ होने के चलते धूप खिली थी। धर्मपुर के खैलग निवासी बाबूराम दोपहर कार से अपने घर धर्मपुर लौट रहे थे।

जैसे ही वह लौंगणी के पास पहुंचे तो पहाड़ से चट्टानें और पेड़ सड़क पर गिरने लगे। भूस्खलन की चपेट में आने से कार भी मलबे में दब गई। घटना की सूचना मिलने पर मौके पर लोगों का जमावड़ा लग गया। कड़ी मशक्कत के बाद कार को बाहर निकाला गया। बाबूराम ने बताया कि उन्हें संभलने का मौका तक नहीं मिला। कार पर मलबा गिरने से नुकसान पहुंचा है। उन्हें हल्की चोटें आई हैं लेकिन जान बच गई। एनएचए के कनिष्ठ अभियंता अमरजीत शर्मा ने बताया कि लौंगणी के पास हाईवे बाधित हुआ था। अब हाईवे को बहाल कर दिया है। 
... और पढ़ें
भूस्खलन से कारें क्षतिग्रस्त भूस्खलन से कारें क्षतिग्रस्त

सोलन: धन्नी देवी के घर पले थे केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल के ताया मोहन लाल, पढ़ें पूरा मामला

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल के बयान के बाद हिमाचल प्रदेश की सुबाथू छावनी के इतिहास में एक नया अध्याय जुड़ गया है। केंद्रीय वाणिज्य, उद्योग, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री पीयूष गोयल की दादी कपूरी देवी सुबाथू छावनी में ही अपना लंबा वक्त गुजार चुकी हैं। हालांकि, मंत्री पीयूष गोयल ने हिमाचल दौरे के दौरान अपनी दादी की भूली बिसरी यादों का जिक्र करते हुए दो बार सुबाथू जाने की इच्छा भी व्यक्त की, लेकिन दादी के घर की पूरी जानकारी न होने की बात कहें या प्रोटोकाल के अनुसार समय का अभाव पीयूष गोयल अपनी पैतृक जन्म भूमि के दर्शन करने से वंचित रहे हैं। हिमाचल दौरे में लगातार सुबाथू में उनकी दादी के होने का जिक्र के बाद दिलचस्प कहानी सामने आई है। इसकी पुष्टि मंत्री पीयूष गोयल की भाभी कुसुम गोयल ने की है। वह इन दिनों पुणे में रहती हैं।


ये भी पढ़ें: 
मौसम: हिमाचल में 30 सितंबर तक बारिश जारी रहने के आसार, भूस्खलन से तीन कारें क्षतिग्रस्त

कुसुम गोयल ने बताया कि मंत्री पीयूष गोयल और उनके भाई कमल गोयल की सुबाथू में एक नहीं, बल्कि दो दादियां रहती थीं। जिनका नाम कपूरी देवी और धन्नी देवी था। अपने पारिवारिक इतिहास को दोहराते हुए उन्होंने बताया कि पीयूष गोयल के पिता का नाम वेद प्रकाश गोयल और ताया मोहन लाल गोयल था।  जिनकी बचपन की कहानी फिल्म जिस देश में गंगा रहता है में किरदार निभा रहे गोविंदा से काफी मिलती है। उन्होंने बताया कि कपूरी देवी के बच्चों का जन्म होते ही निधन हो जाता था। इसके बाद ज्योतिषियों ने शिशु के जन्म लेते ही किसी और के घर में पालने का उपाय बताया। ऐसे में रड़ियाणा निवासी धन्नी देवी उनके घर में दूध लेकर आया करती थीं।

जिसे कपूरी देवी ने अपने बड़े बेटे मोहन लाल गोयल का जन्म होते ही पालन पोषण के लिए दे दिया। लगभग 1926 के आसपास की इस सच्चाई को बताते हुए धन्नी देवी के पोते देवराज तनवर ने बताया कि उनके पिता बेलीराम सहित पीयूष गोयल के ताया मोहन लाल गोयल व उनके पिता वेदप्रकाश गोयल की यादें उनके पैतृक घर से जुड़ी हैं। उन्होंने बताया कि मंत्री पीयूष गोयल की भाभी कुसुम गोयल उनकी बुआ की बेटी हैं। दोनों परिवारों के बीच आज भी बातचीत होती रहती है। उन्होंने कहा कि मंत्री पीयूष गोयल जब भी सुबाथू आना चाहें, उनकी दादी के घर में उनका पूरा स्वागत किया जाएगा। उन्होंने बताया कि जब पीयूष गोयल के पिता व उनके ताया जी 10 वर्ष के हो गए थे तो दादी कपूरी देवी अंबाला में शिफ्ट हो चुकी थीं। लेकिन उसके बाद भी उनके ताया मोहन लाल गोयल का रिश्ता परिवार से रहा। 2007 में उनके ताया का निधन हो चुका है। लेकिन आज भी परिवार की तार सुबाथू से पक्के धागों की तरह जुड़े हैं। 
... और पढ़ें

शिमला: चार योजनाओं के लाभार्थियों से संवाद करेंगे पीएम नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी केंद्रीय व हिमाचल प्रदेश सरकार प्रायोजित स्कीमों स्वावलंबन, हिमकेयर, उज्ज्वला योजना और प्राकृतिक खेती के लाभार्थियों से वर्चुअल संवाद करेंगे। प्रदेश सरकार अगले महीने 8 अक्तूबर को यह कार्यक्रम करना चाहती है। अब प्रदेश सरकार की ओर से प्रधानमंत्री कार्यालय को तिथि फाइनल करने संबंधित पत्राचार किया गया है। कार्यक्रम को लेकर मुख्य सचिव राम सुभग सिंह की अध्यक्षता में एक बैठक हो चुकी है। सोमवार को भी इस बारे में अधिकारियों से विचार विमर्श होना है। हिमाचल में इन योजनाओं से लाखों लोग लाभान्वित हुए हैं। उज्ज्वला योजना के तहत हिमाचल में गृहणियों को रसोई गैस वितरित की गई है। इसमें गरीब महिलाओं को सिलिंडर के साथ गैस चूल्हा भी दिया गया है। हिमाचल ऐसा राज्य है, जहां हर घर में रसोई गैस है।

ये भी पढ़ें:
मंडी: चलती कार पर गिरीं चट्टानें, बाल-बाल बचा चाल

इसके साथ ही हिमकेयर योजना के तहत लोगों का निशुल्क उपचार हो रहा है। लोग एक साल में पांच लाख रुपये तक इलाज करा सकते हैं। इसी तरह स्वावलंबन योजना के तहत लोगों को रोजगार सृजित करने के लिए सब्सिडी दी जा रही है। कोरोना वैक्सीन की पहली डोज में हिमाचल देश के पहले स्थान पर आने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 6 लोगों से संवाद किया था। गरीब जन कल्याण अन्न योजना में भी प्रधानमंत्री ने लोगों से संवाद करना था लेेकिन व्यस्तता के चलते केंद्रीय खाद्य आपूर्ति मंत्री ने हिमाचल आकर गरीब लोगों से संवाद किया। अब हिमाचल सरकार स्वावलंबन, हिमकेयर, उज्ज्वला योजना और प्राकृतिक खेती लाभार्थियों से संवाद करने को लेकर कार्यक्रम आयोजित करने जा रही है।
... और पढ़ें

हिमाचल के 200 युवाओं को रोजगार देगी निजी कंपनी, शाहपुर में कैंपस इंटरव्यू

औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई) शाहपुर में हीरो मोटोकॉर्प कंपनी आईटीआई डिप्लोमा धारक युवक-युवतियों को रोजगार देगी। औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान शाहपुर के प्रधानाचार्य डॉ. तरुण कुमार ने बताया कि कैंपस साक्षात्कार 27 सितंबर को होंगे। इसमें कंपनी 18 से 26 वर्षीय युवक-युवतियों को नौकरी का मौका देगी। 27 सितंबर को साक्षात्कार के माध्यम से 200 युवक एवं युवतियों का हरिद्वार प्लांट उत्तराखंड के लिए चयन किया जाएगा। कैंपस साक्षात्कार सुबह 10:30 बजे शुरू होगा और साक्षात्कार पूर्ण होने तक चलेगा।  उप प्रबंधक अनिल कुमार ने कहा कि कैंपस साक्षात्कार में 18 से 26 वर्ष के बीच आईटीआई एनसीवीटी और एससीवीटी के माध्यम से फिटर, डीजल मेकेनिक, मोटर मेकेनिक व्हीकल, टर्नर, मशीनिस्ट, वेल्डर, ट्रैक्टर मेकेनिक व्यवसायों में आईटीआई उत्तीर्ण युवा भाग ले सकते हैं।


कंपनी प्रशिक्षुओं को पहले एक साल के लिए ट्रेनी के तौर पर रखेगी। इसके बाद कंपनी की नीतियों (परफॉर्मेंस) पर पास होने पर नियमितीकरण किया जा सकता है। प्रशिक्षु अपना आधार कार्ड, रोजगार कार्यालय का पंजीकरण पत्र, हिमाचली प्रमाण पत्र, शिक्षा व तकनीकी शिक्षा से संबंधित समस्त प्रमाण पत्र और दो पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ साथ लाएं। आईटीआई शाहपुर के ट्रेनिंग व प्लेसमेंट ऑफिसर नीलम रानी ने कहा कि कैंपस साक्षात्कार में अभ्यर्थी को कोविड-19 प्रोटोकॉल के नियमों का पूरी तरह से पालन करना होगा। 
... और पढ़ें

ऊना: वीरेंद्र कंवर बोले- अमेजन और फ्लिपकार्ट पर बेचे जाएंगे देसी उत्पाद

200 युवाओं को रोजगार देगी निजी कंपनी
हिमाचल प्रदेश सरकार के ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने कहा कि शीघ्र ही हिमाचल में हिम ईरा ब्रांड की 100 से अधिक दुकानें राज्य के विभिन्न स्थानों पर मुख्य सड़क मार्गों पर खोली जाएंगी। इन उत्पादों को बड़े स्तर पर विक्रय करने के लिए ऑनलाइन माध्यम से भी जोड़ा जाएगा। शनिवार देर शाम को ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत स्वयं सहायता समूहों की ओर से निर्मित उत्पादों की प्रदर्शनी एवं बिक्री के लिए ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज विभाग के क्षेत्रीय मेले का समापन मंत्री वीरेंद्र कंवर ने किया। समापन समारोह में छठे राज्य वित्तायोग के अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती भी विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। 18 से 25 सितंबर तक चले 8 दिवसीय मेले के दौरान हिमाचल के विभिन्न जिलों से 50 स्वयं सहायता समूहों ने स्वनिर्मित उत्पादों का प्रदर्शन किया व विक्रय किया।

ये भी पढ़ें: कुल्लू:
सीएम जयराम बोले- बस यह ‘छिकड़ा’ उतरना चाहिए, ताकि हम दशहरा मना पाएं

मंत्री ने कहा कि स्वयं सहायता समूहों के उत्पादों को ऑनलाइन प्लेटफार्म पर बेचने की तैयारी चल रही है। अमेजन और फ्लिपकार्ट के माध्यम स्वयं सहायता समूहों की ओर से निर्मित उत्पाद बेचे जाएंगे। मेले में महिला स्वयं सहायता समूह की ओर से निर्मित तेल, सेवियां, बड़ियां, सिरका, शहद, पापड़, मसाले, चटनी, जैम, आचार, मिठाई, हल्दी व जूते सहित बांस के उत्पादों की बिक्री की गई। इससे पूर्व उपायुक्त राघव शर्मा ने मुख्यातिथि का स्वागत किया। एडीसी डॉ. अमित कुमार शर्मा, जिला भाजपा अध्यक्ष मनोहर लाल शर्मा, जिला परिषद उपाध्यक्ष कृष्ण पाल शर्मा, मंडलाध्यक्ष कुटलैहड़ मास्टर तरसेम, पीओ डीआरडीए संजीव ठाकुर, उपनिदेशक पशुपालन डॉ. जय सिंह सेन, जिला पंचायत अधिकारी सरवण कुमार, बीडीओ ऊना रमनवीर सिंह चौहान और अन्य मौजूद रहे।

कंवर ने हटली में 40 प्रशिक्षुओं को बांटे प्रमाण पत्र
ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने हटली में डिप्लोमा इन एग्रीकल्चर एक्शन सर्विस फोर इनपुट डीलर्स के द्वितीय वर्ष के 40 प्रशिक्षुओं को प्रमाण पत्र बांटे। प्रशिक्षुओं को यह डिप्लोमा कोर्स आतमा परियोजना के तत्वावधान में करवाया गया। कंवर ने कहा कि आधुनिक खेती के लाभ से जो किसान परिचित नहीं हैं, आतमा योजना के अंतर्गत ऐसे किसानों को आधुनिक खेती के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। इस योजना का उद्देश्य छोटे स्तर के किसानों को आत्मनिर्भर बनाना है। उनकी आय को दोगुना करना है। मंत्री ने कहा कि किसान वैज्ञानिक खेती को अपनाकर कम खर्च में अच्छी पैदावार कर सकते हैं। उन्होंने कृषि विभाग से आह्वान किया कि वह किसानों को जागरुक करें। कीटनाशक दवाइयों को फसल लगने में कितनी मात्रा में डालें, कौन सा बीज प्रयोग करें के बारे में जानकारी दें। कार्यक्रम में हंसवाहिनी सांस्कृतिक कलामंच ऊना द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया। इस अवसर पर मुच्छाली के प्रधान विजय शर्मा, उपप्रधान अजय शर्मा, बीडीसी सदस्य जोगिंद्र देव आर्य, पूर्व जिला परिषद सदस्य सोमदत्त, प्रोजेक्ट डायरेक्टर आतमा डॉ रविंदर सिंह जसरोटिया, डिप्टी प्रोजेक्ट डायरेक्टर आतमा डॉ. राजेश राणा, डॉ. जेएल शर्मा और अन्य मौजूद रहे।
... और पढ़ें

कुल्लू: सीएम जयराम बोले- बस यह ‘छिकड़ा’ उतरना चाहिए, ताकि हम दशहरा मना पाएं

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि उन्होंने भी अपने हाथों से कोट की पट्टी बनाई है। उन्होंने कहा कि एक दौर था जब सबके घरों के आंगन में खड्डियां नजर आती थीं। मैं भी ऐसे  ही परिवार से हूं। कुल्लू और मंडी वाले ऊनी कोट काफी पसंद करते हैं। कई बार तो जून के महीने में भी कोट पहन लेते हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना से सावधान रहने की जरूरत है। बस यह छिकड़ा (मास्क) उतरना चाहिए जिससे हम दशहरा भी मना पाएं। जयराम के ऐसा कहते ही पूरे अटल सदन में ठहाके लगना शुरू हो गए। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जिला मुख्यालय स्थित अटल सदन में रविवार को पूर्ण राज्यत्व के स्वर्णिम जयंती वर्ष के उपलक्ष्य में सेवा व समर्पण अभियान के अंतर्गत हस्तशिल्प एवं हथकरघा कारीगरों के साथ एक संवाद कार्यक्रम में संबोधित कर रहे थे।

इस कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल भी मौजूद थे। जयराम ने कहा कि प्रदेश के कारीगरों को प्रोत्साहित करने की दिशा में आवश्यक कदम उठाए गए हैं। पिछले 50 सालों में काफी बदलाव आया है। कुल्लवी टोपी सिर्फ कुल्लू तक ही सीमित नहीं अब हिमाचली बन चुकी है। दिल्ली की संसद में कुल्लवी टोपी अक्सर देखी जा सकती है। कोई भी राष्ट्राध्यक्ष जब भारत आता है तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कुल्लवी टोपी व मफलर से उनका स्वागत करते हैं। इससे हिमाचल प्रदेश का गौरव बढ़ता है। इससे पहले हथकरघा व हस्तशिल्प पर एक लघु वृत्तचित्र भी दिखाया गया। 
... और पढ़ें

खुद को कुंवारा बताकर कोर्ट में की शादी, पता चलने पर महिला ने पुलिस में दी शिकायत

हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले की एक महिला ने पति पर शारीरिक तौर पर प्रताड़ित करने और जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाया है। महिला ने पुलिस थाना चंबा में इसकी शिकायत भी दर्ज करवाई है। पुलिस ने मामला दर्ज कर छानबीन शुरू दी है। जानकारी के अनुसार महिला चंबा जिले के एक गांव की रहने वाली है। महिला ने बयान दिया है कि उसके साथ राजपुरा के एक व्यक्ति ने खुद को कुंवारा बताकर नवंबर 2019 में उसके साथ कोर्ट मैरिज की, जबकि उसकी शादी पहले हो चुकी थी।

उसका एक बच्चा भी है। इस बात का पता उसे शादी के बाद लगा। इसके बाद महिला ने अपने पति को पूछा, लेकिन वह अब उसे शारीरिक तौर पर प्रताड़ित कर रहा है। जान से मारने की धमकी दे रहा है। पुलिस ने महिला की शिकायत के आधार पर मामला दर्ज कर लिया है। एसपी अरुल कुमार ने बताया कि पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। 
... और पढ़ें

मंडी: चलती कार पर गिरीं चट्टानें, बाल-बाल बचा चालक

जालंधर-मंडी वाया धर्मपुर नेशनल हाईवे पर रविवार दोपहर करीब 12:30 बजे लौंगणी के पास पहाड़ी दरक गई। इससे सड़क से गुजर रही एक कार भूस्खलन की चपेट में आ गई। कार में बैठे चालक ने मुश्किल से जान बचाई। उसे मामूली चोटें आई हैं।भूस्खलन के बाद मार्ग बंद हो गया। तीन घंटे के बाद हाईवे को बहाल कर दिया गया है। रविवार को मौसम साफ होने के चलते धूप खिली थी। धर्मपुर के खैलग निवासी बाबूराम दोपहर कार से अपने घर धर्मपुर लौट रहे थे। जैसे ही वह लौंगणी के पास पहुंचे तो पहाड़ से चट्टानें और पेड़ सड़क पर गिरने लगे।

भूस्खलन की चपेट में आने से कार भी मलबे में दब गई। घटना की सूचना मिलने पर मौके पर लोगों का जमावड़ा लग गया। कड़ी मशक्कत के बाद कार को बाहर निकाला गया। बाबूराम ने बताया कि उन्हें संभलने का मौका तक नहीं मिला। कार पर मलबा गिरने से नुकसान पहुंचा है। उन्हें हल्की चोटें आई हैं लेकिन जान बच गई। एनएचए के कनिष्ठ अभियंता अमरजीत शर्मा ने बताया कि लौंगणी के पास हाईवे बाधित हुआ था। अब हाईवे को बहाल कर दिया है। 
... और पढ़ें

हिमाचल: बिलासपुर में तीन दिन बाद शुरू होगा हाइड्रो इंजीनियरिंग कॉलेज

लंबे इंतजार के बाद बिलासपुर के बंदला का हाइड्रो इंजीनियरिंग कॉलेज तीन दिन बाद शुरू होने जा रहा है। 26 सितंबर को कॉलेज में प्रथम वर्ष के विद्यार्थियों को पढ़ाने वाले प्रोफेसर पदभार संभालेंगे। 29 सितंबर से प्रथम वर्ष के प्रवेश के लिए काउंसलिंग शुरू हो जाएगी। अक्तूबर के आखिरी सप्ताह में हाइड्रो इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रथम वर्ष की कक्षाएं शुरू होंगी। इसकी पुष्टि तकनीकी शिक्षा निदेशक विवेक चंदेल ने की है।

बिलासपुर के बंदला में 62.08 बीघा भूमि पर 105 करोड़ की लागत से बनकर तैयार हाइड्रो इंजीनियरिंग कॉलेज की कक्षाएं अक्तूबर के अंतिम सप्ताह में शुरू हो जाएंगी। ऑल इंडिया काउंसलिंग फॉर टेक्निकल एजुकेशन (एआईसीटीई) की हरी झंडी मिलने के बाद कांगड़ा जिले के नगरोटा बगवां से प्रथम वर्ष की कक्षाएं बंदला शिफ्ट की जा रही हैं।

पिछले चार साल से बंदला में भवन निर्माण कार्य पूरा न होने और मूलभूत ढांचे की कमी के चलते एआईसीटीई की मंजूरी न मिलने के पर बिलासपुर में कक्षाएं शुरू नहीं करवाई जा रही थी। इस कारण नगरोटा बगवां से ही पहला बैच निकल गया। अब बंदला में कक्षाएं शुरू करने के लिए होस्टल, प्रिंसिपल रूम से लेकर क्लासरूम तक सब तैयार है। जो कार्य बचा है, वह अक्तूबर अंत तक पूरा हो जाएगा। 

29 सितंबर से कॉलेज में प्रवेश के लिए तीन राउंड में काउंसलिंग प्रक्रिया शुरू होगी। हाइड्रो इंजीनियरिंग कॉलेज जब पूरी तरह संचालित हो जाएगा तो इसमें 4 ट्रेड की डिग्री मिलेगी। हर ट्रेड में 60-60 सीटें होंगी। हर बैच में 240 हाइड्रो इंजीनियर पास आउट होंगे। प्रदेश के एकमात्र हाइड्रो इंजीनियरिंग कॉलेज में मेकेनिकल, सिविल, इलेक्ट्रॉनिक और कंप्यूटर साइंस ट्रेड में पढ़ाई होगी। प्रथम वर्ष में सिविल और इलेक्ट्रिकल की कक्षाएं ही शुरू होंगी। इस दौरान 120 विद्यार्थी अध्ययनरत होंगे। संवाद

बिलासपुर के बंदला में प्रथम वर्ष की कक्षाएं शुरू होंगी। जरूरत के हिसाब से प्रोफेेसर नियुक्त होंगे। नगरोटा में दूसरे, तीसरे और चौथे वर्ष की पढ़ाई चल रही है। 29 से काउंसलिंग शुरू होगी और अक्तूबर के अंत में प्रथम वर्ष की कक्षाएं शुरू होंगी। - विवेक चंदेल, तकनीकी शिक्षा निदेशक 
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X