एचपीयू शिमला: पीजी में खाली रह गईं कई सीटें, विवि ने फिर मांगे आवेदन

अमर उजाला नेटवर्क, शिमला Published by: अरविन्द ठाकुर Updated Fri, 08 Oct 2021 06:35 PM IST

सार

इन पीजी कोर्स में एमटेक और एमए संस्कृत ऐसे कोर्स हैं, जिनमें कभी भी सीटें खाली नहीं रहती थी, लेकिन इस बार सीटें खाली रहने की नौबत आ गई है।
एचपीयू शिमला  (फाइल फोटो)
एचपीयू शिमला (फाइल फोटो) - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

विवि में पीजी की कई सीटें खाली रह गई हैं। इन सीटों के लिए विवि को आवेदक ही नहीं मिल पा रहे हैं। खाली सीटों को भरने के लिए एचपीयू ने फिर से आवेदन मांगे हैं। अभ्यर्थी 18 अक्तूबर तक आवेदन कर सकते हैं। पीजी के आठ कोर्सों के लिए विश्वविद्यालय को विद्यार्थी ढूंढे नहीं मिल पा रहे हैं। 
विज्ञापन


इन पीजी कोर्स में एमटेक और एमए संस्कृत ऐसे कोर्स हैं, जिनमें कभी भी सीटें खाली नहीं रहती थी, लेकिन इस बार सीटें खाली रहने की नौबत आ गई है। इधर, एमए पापुलेशन स्टडीज, एमटेक, एमएससी डाटा साइंस एंड आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, एमए डिफेंस एंड स्ट्रेटैजिक स्टडीज एमएबीई, पीजी डिप्लोमा इन पापुलेशन स्टडीज और एमए आर्कियोलॉजी एंड एंनिश्यिेंट हिस्ट्री कोर्स की सीटें भी खाली रह गई हैं। विवि के डीएस की ओर से जारी अधिसूचना के अनुसार सीटों पर क्वालीफाइंग एग्जाम में प्राप्तांक की मेरिट के आधार पर ही प्रवेश दिया जाएगा। 


दूसरे विभागों की नॉन सब्सिडाइज्ड सीटें भरने के लिए दी है छूट
विवि ने कई विभागों में खाली नॉन सब्सिडाइज्ड सीटें भरने के लिए प्रवेश परीक्षा में प्राप्तांक की छूट देकर भरने की प्रक्रिया भी जारी रखी है। डीएस कार्यालय की ओर से जारी निर्देशों के अनुसार सब्सिडाइज्ड और नॉन सब्सिडाइज्ड सीटों के लिए आवेदन करने पर प्रवेश न पाने वाले विद्यार्थियों को अपनी श्रेणी बदलकर 700 रुपये फीस जमा करवाकर प्रवेश लेने का मौका दिया है।

वहीं, कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए कोर्सों की खाली सीटों को भरने के लिए प्रवेश परीक्षा में न्यूनतम अंक की शर्त पूरा न करने पर अंकों में रियायत दी है। जिसके मुताबिक विभिन्न विभागों में सीटें भरने की प्रक्रिया जारी है। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00