विज्ञापन
विज्ञापन
गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

चंबा: पत्नी ने पड़ोसी के साथ मिलकर की थी पति और तीन बच्चों की हत्या, कुबूला जुर्म

हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले के उपमंडल चुराह के करातोट में पत्नी ने अपने पड़ोसी के साथ मिलकर पति और तीन बच्चों की हत्या करने का जुर्म कुबूल कर लिया है। घर में हुए अग्निकांड में चार लोगों की मौत के मामले का पुलिस पूछताछ में नया खुलासा हुआ। पुलिस ने मंगलवार को दोनों आरोपियों को कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने दोनों को 15 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। पुलिस अधीक्षक अरुल कुमार ने बताया कि पूछताछ में आरोपी महिला नूरा ने बताया कि उसने अपने पति मोहम्मद रफी पर पड़ोसी जमात अली के साथ मिलकर कुल्हाड़ी से हमला किया, जिससे उसकी मौत हो गई।


ये भी पढ़ें:
मौसम: हिमाचल में दो अक्तूबर तक बरसेंगे बादल, आज इन जिलों में बारिश के आसार

इसके बाद 13 सितंबर की रात पड़ोसी के साथ मिलकर नूरा ने घर में आग लगा दी, जिससे कमरे में सो रहे उसके तीनों बच्चों जैतून (6), समीर (4) और डेढ़ वर्षीय जुलेखा की दम घुटने से मौत हो गई। मारने के बाद उसी कमरे में पति को भी लेटा दिया था, जिसमें यह बताया गया कि पति की भी जलने से मौत हो गई। पुलिस ने कुल्हाड़ी को भी बरामद कर लिया है। एसपी ने बताया कि पुलिस कड़ी से कड़ी जोड़ते हुए जल्द पूरे मामले से पर्दा उठाएगी। आरोपी महिला और पड़ोसी के बीच प्रेम प्रसंग का मामला बताया जा रहा है। इससे पहले मृतक मोहम्मद रफी के पिता नूरदीन ने पुलिस को बताया था कि उसकी बहू और पड़ोसी ने उसके बेटे और उसके बच्चों की सोची-समझी साजिश के तहत हत्या की है।

ये भी पढ़ें: उपचुनाव: हिमाचल के आठ जिलों में आदर्श आचार संहिता लागू, तबादलों से लेकर नई घोषणाओं पर रोक 

मृतक के पिता ने पुलिस से मामले की गहनता से तफ्तीश कर दोषियों को सलाखों के पीछे धकेलने की गुहार लगाई थी। शिकायत के आधार पर पुलिस ने गहनता से जांच करते हुए मृतक की पत्नी नूरा और पड़ोसी जमात अली से पूछताछ की। उनके हावभाव में बदलाव देखते हुए शक के आधार पर पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार किया। साथ ही उनसे सख्ती से पूछताछ की, जिस पर दोनों ने जुर्म कुबूल कर लिया। बताया जा रहा है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी मोहम्मद रफी के सिर के पीछे तेजधार हथियार से वार होने की पुष्टि हुई है।
... और पढ़ें

शिमला में दो अफगान नागरिक गिरफ्तार, नौ हजार करोड़ के हेरोइन मामले से जुड़े हैं तार

राजस्व आसूचना निदेशालय (डीआरआई) ने गुजरात के मुंद्रा बंदरगाह से जब्त की गई हेरोइन की खेप की जांच के संबंध में रविवार-सोमवार की रात राजधानी शिमला स्थित एक होटल से दो अफगान नागरिकों को गिरफ्तार किया है। इन दोनों की सीधे तौर पर हेरोइन की बड़ी खेप को भारत पहुंचाने में अहम भूमिका मानी जा रही है। सूत्रों ने बताया कि रात करीब ढाई बजे डीआरआई की दिल्ली की एक टीम ने छोटा शिमला स्थित एक होटल में दबिश दी। टीम ने यहां पहले से मौजूद दो अफगान नागरिकों को पूछताछ के  लिए हिरासत में लिया और करीब तीन घंटे पूछताछ और कागजी कार्रवाई पूरी करने के बाद दोनों को लेकर सुबह साढ़े छह बजे दिल्ली रवाना हो गई। 

जानकारी के अनुसार डीआरआई ने करीब दस दिन पहले गुजरात के मुंद्रा पोर्ट से कंटेनर में छुपाकर लाई जा रही तीन हजार किलो हेरोइन की बड़ी खेप को पकड़ा था। इस खेप की करीब नौ हजार करोड़ रुपये कीमत आंकी गई है। सूत्रों का कहना है कि मामले की जांच कर रही डीआरआई ने इस संबंध में पिछले तीन दिन में तीन लोगों को अपनी गिरफ्त में लिया है। इन्हीं से हुई पूछताछ के आधार पर जांच अधिकारियों को शिमला में दो अफगान नागरिकों के छुपने की जानकारी मिली थी। दिल्ली की टीम ने छोटा शिमला पुलिस के कुछ कर्मियों के साथ मिलकर इस कार्रवाई को अंजाम दिया। शिमला में हुई इस कार्रवाई की जानकारी बेहद कम लोगों को दी गई। पुलिस के आला अधिकारियों को भी पूरी कार्रवाई के बाद जानकारी दी गई।
... और पढ़ें

शिमला के रिज पर दो गुटों में मारपीट, जमकर चले लात-घूंसे

मारपीट का वीडियो वायरल: सुरक्षाकर्मी की वर्दी फाड़ी, लहूलुहान कर्मचारी के सिर पर लगे तीन टांके

ज्वालामुखी मंदिर में कर्मचारियों और श्रद्धालुओं के बीच कथित मारपीट का वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। पता चला है कि श्रद्धालुओं ने प्रदेश सरकार की ओर से निर्धारित नियमों की न केवल उल्लंघना की, बल्कि ड्यूटी पर तैनात कर्मचारियों के साथ मारपीट कर उनको घायल भी कर दिया।

मिली जानकारी के मुताबिक मंदिर में तैनात सुरक्षा कर्मचारी हंसराज की वर्दी फाड़ दी गई, लाठियों से भी उसे पीटा गया। हंसराज ने बताया कि मंदिर बंद करने का समय 10 बजे सरकार की ओर से निर्धारित किया गया है। कुछ लोग 10:20 बजे तक मंदिर में घूमते रहे। उन्हें बार-बार बाहर जाने के लिए कहा गया, तो सुरक्षा कर्मचारियों से उलझ गए। मंदिर के एक अन्य कर्मचारी नरेश कुमार भंडारी के सिर पर चोट लगी है। उन्हें तीन टांके लगे हैं।

तहसीलदार दीनानाथ ने बताया कि 16 अक्तूबर रात 10:10 पर सुरक्षाकर्मी का फोन आया था। अवगत करवाया कि मंदिर बंद करने का समय हो चुका है और श्रद्धालु प्रांगण नहीं छोड़ रहे। उन्होंने कर्मी पर किसी डंडे से भी हमला किया। इसके बाद पुलिस को जानकारी दी गई।
... और पढ़ें
पुलिस (फाइल फोटो) पुलिस (फाइल फोटो)

हमीरपुर: मानव भारती विवि फर्जी डिग्री मामले में पीएमओ ने दिए जांच के आदेश

हिमाचल प्रदेश के बड़े फर्जी डिग्री घोटाले को लेकर सुजानपुर के विधायक राजेंद्र राणा की शिकायत पर प्रधानमंत्री कार्यालय ने इस मामले पर कार्रवाई के आदेश दिए हैं। भारत सरकार के कार्मिक और लोक शिकायत, पेंशन मंत्रालय की ओर से पत्र संख्या 353/6/2021-एबीपी के माध्यम से की शिकायत पर मानव भारती विश्वविद्यालय के फर्जी डिग्री घोटाले पर कार्रवाई के निर्देश की सूचना विधायक राजेंद्र राणा को भी भेजी गई है।

सचिव शिक्षा मंत्रालय शास्त्री भवन नई दिल्ली की ओर से मामले की गंभीरता को देखते हुए स्पष्ट किया गया है कि इस मामले में कार्रवाई के लिए निर्देश प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से दिए गए हैं। विधायक राजेंद्र राणा ने मानव भारती विश्वविद्यालय के फर्जी डिग्री घोटाले को उठाया है। फर्जी डिग्री कांड को प्रदेश का अब तक का सबसे बड़ा घोटाला बताया है। 
... और पढ़ें

शिमला: हाटू मंदिर में सैलानियों ने की हवाई फायरिंग, दो को हिरासत में लिया

हिमाचल प्रदेश के शिमला जिले के नारकंडा स्थित हाटू मंदिर में हरियाणा के सैलानियों ने हवाई फायरिंग की और पुजारी को धमकाया। वारदात दुर्गाष्टमी के दिन की है। पुलिस ने मुकदमा दर्जकर छानबीन शुरू कर दी है। मंदिर कमेटी की शिकायत पर पुलिस ने दो सैलानियों को हिरासत में लिया है। पकड़े गए आरोपियों में एक निजी स्कूल का संचालक और दूसरा स्कूल का सिक्योरिटी इंचार्ज बताया जा रहा है। इनसे एक पिस्तौल, एक बंदूक और 12 गोलियां बरामद की गई हैं। हाटू माता मंदिर प्रबंधन समिति के अध्यक्ष भूपेंद्र ठाकुर और भंडारी हेतराम राजटा ने बताया कि बुधवार को दुर्गा अष्टमी के दिन मंदिर में विशेष पूजा-अर्चना का आयोजन था। बड़ी संख्या में श्रद्धालु मंदिर पहुंचे थे।

दोपहर बाद करीब पौने तीन बजे मंदिर के पुजारी शौचालय गए तो वहां पर्यटकों ने हवाई फायर कर दी। पुजारी ने जब ऐसा करने से रोका तो पर्यटकों ने पुजारी को गले और कंधे से पकड़ लिया और खाई में धकेलने की धमकी देने लगे। पुजारी किसी तरह जान बचा कर मंदिर के भीतर पहुंचा और मंदिर समिति के सदस्यों को जानकारी दी। समिति के सदस्य मंदिर से बाहर आए और पुलिस को शिकायत दी।  सैलानी भाग न सके इसके लिए सड़क पर समिति सदस्यों ने अपनी गाड़ियां आड़ी तिरछी लगा दीं। मंदिर प्रबंधन समिति के भंडारी हेतराम राजटा ने बताया कि दो गाड़ियों में हरियाणा के आठ सैलानी मंदिर पहुंचे थे। दो शराब के नशे में थे।

टूरिस्टों ने तीन हवाई फायर किए जिससे लोगों में दहशत फैल गई। मंदिर आने वाले श्रद्धालुओं से भी इन टूरिस्टों ने दुर्व्यवहार किया। डीएसपी रामपुर चंद्रशेखर कायथ ने बताया कि आरोपी अभिषेक कुमार निवासी गांव आसलवास मरहठा, तहसील एवं जिला भिवानी हरियाणा और कुलदीप सिंह गांव गोठला तहसील लोहारू जिला भिवानी को हिरासत में लिया है। इनके पास से लाइसेंसी हथियार बरामद किए हैं। घटना के सभी पहलुओं की जांच की जा रही है। 

खाई में फेंकने की दी धमकी : शर्मा
मंदिर के पुजारी ललित शर्मा ने बताया कि पूजा के बाद शौचालय जाने पर टूरिस्टों को हवाई फायर करते देखा तो उन्हें ऐसा करने से रोका। दो टूरिस्टों ने मुझे पकड़ लिया और खाई में फेंकने की धमकी देने लगे। वह 15 साल से मंदिर में पुजारी हैं। पहली बार ऐसी घटना हुई है। आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए।

प्रदेश में प्रवेश के समय हो जांच : ठाकुर
मंदिर प्रबंधन समिति के अध्यक्ष भूपेंद्र ठाकुर ने कहा कि पिस्तौल और बंदूकों के साथ 
सैलानियों का प्रदेश में आना चिंताजनक है। प्रदेश की सीमाओं पर प्रवेश के समय पर्यटकों और उनके वाहनों की जांच होनी चाहिए। हिमाचल शांति प्रिय पर्यटन स्थल है। हुड़दंग करने वालों पर कड़ी कार्रवाई जरूरी है। हर साल जेठ माह के पहले रविवार (जेठा इतवार) को मंदिर में माता का आशीर्वाद लेने के लिए हजारों लोग जुटते हैं। 
... और पढ़ें

हिमाचल: बिलासपुर के प्रिंसिपल समेत एक दर्जन पूर्व सैनिकों की डिग्रियां फर्जी, विजिलेंस ने किया भंडाफोड़

मानव भारती विश्वविद्यालय के बाद अब बिहार की मगध यूनिवर्सिटी में भी फर्जी डिग्रियों का भंडाफोड़ हुआ है। फर्जी डिग्रियां हासिल करने वालों में हिमाचल प्रदेश के डेढ़ दर्जन लोग भी शामिल हैं। इनमें एक स्कूल प्रिंसिपल और एक दर्जन पूर्व सैनिक भी शामिल बताए जा रहे हैं। जिला बिलासपुर के रहने वाले एक स्कूल प्रिंसिपल की तो बीएससी, एमएससी और बीएड तीनों डिग्रियां फर्जी पाई गई हैं। हमीरपुर विजिलेंस की चार सदस्यीय टीम ने बिहार के मगध विश्वविद्यालय पहुंचकर 17 डिग्रियों की जांच की। विश्वविद्यालय के कुलपति ने सभी 17 डिग्रियों को फर्जी बताया है। करीब एक हफ्ता विश्वविद्यालय में जांच-पड़ताल करने के बाद अब यह टीम बिहार से हिमाचल प्रदेश लौट आई है। इस मामले में अब बड़ी कार्रवाई की तैयारी हो रही है।

विजिलेंस में एफआईआर दर्ज होने के साथ ही फर्जी डिग्रियों के सहारे नौकरियां हासिल करने वाले सरकारी कर्मचारियों की बर्खास्तगी होगी। हालांकि इससे पूर्व मार्च 2018 में भी विजिलेंस टीम बिहार की मगध यूनिवर्सिटी में फर्जी डिग्रियों की जांच कर चुकी है। उस दौरान संबंधित डिग्री धारकों का कोई रिकॉर्ड विश्वविद्यालय में नहीं मिला था, लेकिन एफआईआर के बाद भी उस दौरान भी कोई कार्रवाई नहीं हुई थी। अभी भी शिक्षा विभाग दोषी अध्यापकों पर कार्रवाई करने से पूर्व विजिलेंस की एफआईआर का इंतजार कर रहा है। हालांकि विशेषज्ञों की मानें तो अध्यापकों की फर्जी डिग्रियां पाए जाने पर शिक्षा विभाग दोषी अध्यापकों पर कार्रवाई करने में सक्षम है। बता दें कि वर्ष 2004-05 में प्रदेश शिक्षा विभाग में अध्यापकों की भर्तियां हुई थीं।

इसमें करीब दो दर्जन अभ्यर्थियों ने बिहार की मगध यूनिवर्सिटी से बिना परीक्षा दिए फर्जी सर्टिफिकेट और डिग्रियों के आधार पर नौकरी हासिल की। इस मामले की शिकायत राज्य सतर्कता एवं भ्रष्टाचार रोधी ब्यूरो शिमला में की गई। इसके बाद हमीरपुर से विजिलेंस टीम मार्च 2018 में मगध विवि पहुंची। टीम ने एक हफ्ते तक विवि में अध्यापकों की डिग्रियों से जुड़े रिकॉर्ड खंगाले, लेकिन उन्हें न तो अध्यापकों के प्रवेश और न ही परीक्षाओं से जुड़े दस्तावेज मिले। इसके बाद विजिलेंस ने रिपोर्ट मार्च में ही विजिलेंस मुख्यालय शिमला में जमा करवाई, लेकिन तीन साल बीत जाने के बाद भी शिक्षा विभाग ने कोई कार्रवाई नहीं की। इस मामले में एफआईआर के बाद कोर्ट में चालान पेश होना था, लेकिन अब दोबारा जांच होने और रिपोर्ट शिमला कार्यालय में जमा होने के बाद फर्जी डिग्री धारक सरकारी कर्मचारियों पर सख्त कार्रवाई होनी तय है।

फर्जी डिग्रियों की जांच के लिए चार सदस्यीय टीम बिहार की मगध यूनिवर्सिटी भेजी गई थी, टीम वापस आ चुकी है। मगध यूनिवर्सिटी के अधिकारियों ने माना है कि 17 हिमाचली डिग्री धारकों का विश्वविद्यालय में कोई भी रिकॉर्ड नहीं है।- लालमन शर्मा, डीएसपी, राज्य सतर्कता एवं भ्रष्टाचार रोधी ब्यूरो, हमीरपुर
... और पढ़ें

शिमला: करोड़ों की फिरौती मामले में चार्जशीट दाखिल, चार लोगों को बनाया आरोपी

फर्जी डिग्रियों का भंडाफोड़(सांकेतिक)
राजधानी शिमला के बहुचर्चित करोड़ों की फिरौती के मामले में मुख्य आरोपी गुरूचरण सिंह ग्रोवर समेत चार लोगों के खिलाफ पुलिस ने चार्जशीट दाखिल कर दी है। मामला 23 जुलाई 2019 में पेश आया था। मालरोड स्थित होटल कारोबारी को 10 करोड़ रुपये की रकम न देने पर परिवार के सदस्य समेत बच्चों को जान से मारने की धमकी को लेकर पत्र मिला था। जांच में सामने आया कि मुख्य आरोपी के साइबर कैफे में काम करने वाली महिला कर्मचारी ने धमकी भरा पत्र लिखा था। होटल कारोबारी को लिखे गए धमकी भरे पत्र की लिखावट की एफएसएल जांच के बाद पुलिस इस गुत्थी को सुलझाने का दावा कर रही है।

अभी तक की जांच में ऐसा माना जा रहा था कि होटल कारोबारी को भेजा गया धमकी भरा पत्र जुता कारोबारी ने लिखा है। लेकिन, जब पत्र की एफएसएल जांच करवाई गई तो पत्र की लिखावट मुख्य आरोपी के साइबर कैफे में काम कर रही युवती की निक ली। मुख्य आरोपी साइबर कैफे संचालक ने बड़ी होशियारी से साजिश को अंजाम दिया। पुलिस की गिरफ्त में ना आए इसके लिए मुख्य आरोपी ने पहले तो महिला कर्मचारी से पत्र की गलतियों (क्रेक्शन) को ठीक करवाने के मकसद से दोबारा लिखवाया।

इसके बाद में असल पत्र को फोटो स्टेट करवाया और होटल कारोबारी तक पत्र पहुंचाने के लिए कैफे में काम कर रहे दूसरे कर्मी को पत्र स्पीड पोस्ट करने भेजा। लेकिन, पुलिस जांच में झुठ ज्यादा दिन तक नहीं छुप पाया और पुलिस ने मामले की सच्चाई सामने लाई। फिलहाल, मुख्य आरोपी के साइबर कैफे में काम करने वाले दोनों कर्मियों को पुलिस ने सरकारी गवाह बनाया है। पुलिस अधीक्षक डॉ. मोनिका भटुंगरू ने बताया कि पत्र में लिखावट के नमूने मिल गए है और चार्जशीट दाखिल कर दी गई है।

यह था पूरा मामला
एजी ऑफिस से सेवानिवृत्त और होटल कारोबारी को 23 जुलाई 2019 की शाम मैनेजर ने स्पीड पोस्ट से आए एक पत्र थमाया। इसमें पत्र भेजने वाले का पता सीता राम मुर्गा गैंग सेक्टर-22 लिखा हुआ था। कारोबारी ने पत्र खोलकर देखा तो होश उड़ गए। इसमें पोतों की कीमत 10 करोड़ लगाई गई थी और लिखा कि पोतों और घरवालों की जिंदगी चाहता है तो 15 अगस्त से पहले मांगी गई राशि दे। पत्र में लिखा था कि उनके दो मासूम पोतों को सामने मार देंगे।

दीवाली से पहले फिरौती की रकम देने की धमकी देकर लिखा था कि पुलिस को बताने पर अंजाम बुरा होगा। होटल कारोबारी का लोअर बाजार में आर्टिफिशल ज्वैलरी की शॉप भी है। पुलिस जांच में पाया गया कि यह लैटर मालरोड के मुख्य डाकघर से जारी हुआ है। यह लैटर 22 जुलाई को दोपहर 2 बजकर 12 मिनट पर पोस्ट हुआ है। इसके बाद पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर एक युवक को गिरफ्तार किया था। पूछताछ के बाद मामले में पुलिस ने साइबर कैफे संचालक और जुता कारोबारी को गिरफ्तार किया गया था।
... और पढ़ें

छात्रवृत्ति घोटाले में सीबीआई की हिमाचल के चार संस्थानों पर दबिश

265 करोड़ रुपये से अधिक के छात्रवृत्ति घोटाले में सीबीआई ने गुरुवार को ऊना, घुमारवीं, परवाणू और बद्दी संस्थान में दबिश देकर रिकॉर्ड कब्जे में लिया। सीबीआई अब तक घोटाले में संलिप्त 27 निजी संस्थानों में से 16 का रिकॉर्ड कब्जे मेें ले चुकी है। इनकी एक ही चार्जशीट बनाने की तैयारी है। 11 संस्थानों पर पहले से ही कार्रवाई चल रही है। सीबीआई की ओर से इन संस्थानों के अधिकारियों से पूछताछ जारी है।

उल्लेखनीय है कि 2013 से 2017 में मेधावी छात्रों के लिए 265 करोड़ रुपये की छात्रवृत्ति में गड़बड़ी हुई। इनमें से 16 करोड़ प्री मैट्रिक और 250 करोड़ पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति थी। 27  बड़े संस्थानों ने 90 फीसदी से ज्यादा राशि फर्जीवाड़े से हड़प ली। 
... और पढ़ें

शिमला: फर्जी डिग्री मामले में चार लोगों से सीआईडी ने की पूछताछ

बहुचर्चित फर्जी डिग्री मामले की जांच में सीआईडी ने पिछले कुछ दिनों में चार लोगों से पूछताछ की है। इनमें कुछ विश्वविद्यालय के कर्मचारी-अधिकारी तो एक वह शख्स बताया जा रहा है, जिस पर फर्जी डिग्री लेने का शक है। बड़े चेहरों को गिरफ्त में लेने के बाद अब जांच टीम कड़ी से कड़ी मिलाने में जुटी है। सूत्रों के अनुसार जांच में अब एजेंटों के साथ-साथ खरीदारों पर भी फोकस किया जा रहा है, ताकि उनसे डिग्री की बिक्री के और साक्ष्य जुटाए जा सकें।

जिन मामलों में साक्ष्य मिल गए हैं, उनकी वित्तीय ट्रेल भी निकाली जा रही है। बता दें कि अभी तक जांच एजेंसी को 45 हजार से ज्यादा फर्जी डिग्रियाें के संबंध में साक्ष्य मिले हैं। इनकी फोरेंसिक जांच रिपोर्ट भी पुष्टि कर रही है। ऐसे में अब जांच टीम जल्द चार्जशीट दाखिल करने के लिए भी कवायद में जुटी है। बता दें कि मुख्य आरोपी राजकुमार राणा के अलावा तीन दर्जन से ज्यादा लोगों से इस मामले में पूछताछ हो चुकी है।
... और पढ़ें

छात्रवृत्ति घोटाले की जांच के लिए हिमाचल के टाहलीवाल में सीबीआई ने दी दबिश

छात्रवृत्ति घोटाले को लेकर मंगलवार को सीबीआई ने हिमाचल प्रदेश के ऊना जिले के टाहलीवाल की एक बैंक शाखा में दबिश दी। सीबीआई की टीम ने बैंक में विद्यार्थियों के खातों की जांच की है और कुछ रिकॉर्ड भी कब्जे में लिया है। सीबीआई की दबिश से इलाके में हड़कंप मचा रहा।करीब 250 करोड़ छात्रवृत्ति घोटाले के तार जिले के एक शिक्षण संस्थान के साथ जुड़े हुए पाए गए हैं। सीबीआई इस मामले में गिरफ्तारी भी कर चुकी है। अब इस मामले में तहकीकात जारी है। इस मामले में अब सामने आया है कि शिक्षा निदेशालय से साल 2013-14 से 2016-17 तक मात्र छह निजी संस्थानों को 127 करोड़ की छात्रवृत्ति राशि जारी हुई है। अधिकारियों की मिलीभगत से 266 निजी संस्थानों को कुल छात्रवृत्ति राशि का 80 फीसदी बजट दिया गया।

जबकि 2506 सरकारी व निजी संस्थानों को सिर्फ 20 फीसदी छात्रवृत्ति बजट ही दिया गया। चार सालों में सबसे अधिक आईटीएफटी चंडीगढ़ को 39 करोड़ और दूसरे नंबर पर हिमालयन ग्रुप ऑफ प्रोफेशनल इंस्टीट्यूट कालाअंब को 35 करोड़ जारी किए गए। विद्या ज्योति ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन को 15 करोड़, केसी ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन पंडोगा को 13 करोड़, केसी ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन नवांशहर को 12 करोड़ और सुखविंद्र ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन दूनेरा को 10 करोड़ की छात्रवृत्ति राशि जारी की गई। अब इस मामले में सीबीआई जांच कर रही है। जिले के एक शिक्षण संस्थान के साथ तार जुड़े हुए होने के कारण सीबीआई टीम यहां भी जांच पड़ताल कर रही है।
... और पढ़ें

वन विभाग ने कसा शिकंजा: अवैध खनन करते सात वाहन पकड़े, 43 हजार जुर्माना

वन मंडल नाहन के तहत आने वाले क्षेत्रों में विभाग की टीम ने दबिश देकर अवैध खनन करने के मामले में कार्रवाई की। विभाग की टीम ने कालाअंब-पांवटा साहिब नेशनल हाईवे पर कार्रवाई करते हुए सात वाहन संचालकों पर साढ़े 43 हजार का जुर्माना ठोका। विभाग ने हरिपुरखोल और साथ लगते हिस्सों में कार्रवाई को अंजाम दिया। इससे अवैध खनन कर सामग्री ले जा रहे वाहन संचालकों में हड़कंप मच गया। 

जानकारी के मुताबिक वन विभाग नाहन मंडल की टीम गश्त पर तैनात थी। इस बीच वन विभाग की टीम ने अवैध रूप से खनन सामग्री ले जा रहे सात वाहनों को पकड़ा, जिसमें चार टिपर, दो पिकअप व एक ट्रैक्टर शामिल है। वन विभाग की टीम ने संबंधित सभी वाहनों पर कार्रवाई करते हुए 43500 का जुर्माना किया।

वन विभाग की इस कार्रवाई में वन रक्षक विशाल कुमार, विनोद कुमार व अनिल कुमार शामिल रहे। मामले की पुष्टि करते हुए वन विभाग के एसीएफ वेद प्रकाश ने बताया कि सात वाहनों से 43500 का जुर्माना वसूला गया है। सभी वाहन अवैध रूप से खनन सामग्री ले जाते हुए टीम ने पकड़े हैं। उन्होंने कहा कि भविष्य में भी इस तरह की कार्रवाई जारी रहेगी।

गौरतलब है कि जिला सिरमौर में खासकर पांवटा साहिब में यमुना व गिरि नदियों के साथ-साथ नाहन के आसपास के नदी नालों में लंबे समय से अवैध खनन किया जा रहा है। हालांकि समय-समय पर संबंधित विभाग की ओर से कार्रवाई अमल में लाई जाती रही है लेकिन बावजूद इसके अवैध खननकारियों के हौसले बुलंद हैं।
... और पढ़ें

शिमला के बाद कुल्लू से जुड़े नौ हजार करोड़ के हेरोइन मामले के तार, एक गिरफ्तार

गुजरात के मुंद्रा बंदरगाह से जब्त की गई हेरोइन की खेप मामले के तार अब शिमला के बाद कुल्लू से भी जुड़ गए हैं। राजस्व आसूचना निदेशालय की टीम ने दो दिन पहले शिमला में दो अफगान नागरिकों को पकड़ने के बाद बुधवार को कुल्लू में भी एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है।  आसूचना निदेशालय ने कुल्लू में तीन लोगों से पूछताछ के बाद एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। उसे कुल्लू कोर्ट से ट्रांजिट रिमांड लेने के बाद मुंबई ले जाया गया है। बताया जा रहा है कि गिरफ्तार व्यक्ति के तार गुजरात के मुंदरा बंदरगाह से जब्त की गई नौ हजार करोड़ रुपये की हेरोइन मामले से जुडे़ हैं।

डीआरआई की एक टीम सोमवार रात को कुल्लू पहुंची थी। जिला मुख्यालय के एक निजी होटल में रुके तीन लोगों से हेरोइन मामले में कड़ी पूछताछ की गई। राजस्व आसूचना निदेशालय के अधिकारियों ने पहले होटल में बाद में एसयूआई के कार्यालय में पूछताछ की है। इसमें एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया। बुधवार को उसे कोर्ट में पेश किया गया। पुलिस अधीक्षक गुरदेव शर्मा ने कहा कि राजस्व आसूचना निदेशालय की टीम एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर ले गई है। टीम ने कुल्लू पुलिस से मदद मांगी थी जो उसे दी गई। गिरफ्तार किया गया व्यक्ति उत्तर प्रदेश का रहने वाला है। 
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00