लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Himachal Pradesh ›   Shimla News ›   Parking will be available in Yellow Line but five conditions will have to be fulfilled

Yellow Line Parking: शिमला में येलो लाइन में पार्किंग तो मिलेगी लेकिन पूरी करनी पड़ेंगी पांच शर्तों

अमर उजाला ब्यूरो, शिमला Published by: शिमला ब्यूरो Updated Wed, 07 Dec 2022 12:22 PM IST
सार

शिमला में  येलो लाइन में पार्किंग के लिए आवेदन करने वाले लोगों को नगर निगम की पांच शर्तें पूरी करनी होंगी। इनमें एक शर्त पूरे साल का एकमुश्त शुल्क 18 फीसदी जीएसटी के साथ भरना होगा भी शामिल है। यह शुल्क 11,328 रुपये बनता है।

येलो लाइन पार्किंग(सांकेतिक)
येलो लाइन पार्किंग(सांकेतिक) - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन

विस्तार

हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में  येलो लाइन में पार्किंग के लिए आवेदन करने वाले लोगों को नगर निगम की पांच शर्तें पूरी करनी होंगी। इनमें एक शर्त पूरे साल का एकमुश्त शुल्क 18 फीसदी जीएसटी के साथ भरना होगा भी शामिल है। यह शुल्क 11,328 रुपये बनता है। शर्तों के पूरा होने पर ही पूरा साल वाहन पार्क करने की सुविधा मिल पाएगी। ऐसा न करने पर नगर निगम कभी भी पार्किंग का आवंटन रद्द कर देगा। पार्किंग के लिए आवेदन करने वाले वाहन मालिकों को नगर निगम इस बारे में पत्र भी जारी करने जा रहा है। इस पत्र में यह शर्तें दी गई हैं। पहली शर्त यह है कि पत्र मिलने के तीन दिन के भीतर पूरे साल का एकमुश्त शुल्क नगर निगम में जमा करवाना होगा। 18 फीसदी जीएसटी के साथ यह शुल्क 11,328 रुपये बनता है।



तीन दिन में शुल्क जमा न होने पर दूसरे व्यक्ति को पार्किंग दी जाएगी। दूसरी शर्त यह है कि एक परिवार से एक ही व्यक्ति को पार्किंग सुविधा मिलेगी। यदि परिवार का दूसरा सदस्य भी पार्किंग लेता है तो शिकायत मिलने पर आवंटन रद्द कर दिया जाएगा। तीसरी शर्त के अनुसार जिस वाहन के लिए पार्किंग आवंटित होगी, उसकी जगह दूसरी गाड़ी पार्क नहीं हो सकेगी। चाहे यह गाड़ी उसी वाहन मालिक की क्यों न हो? नगर निगम एक साल के लिए येलो लाइन पार्किंग का आवंटन करेगा। एक साल बाद यह पार्किंग नगर निगम को वापस देनी होगी। येलो लाइन में जिस गाड़ी को जहां पर पार्किंग मिलेगी वहां उसका नंबर अंकित किया जाएगा ताकि विवाद न हो।


एमसी सिर्फ पैसा बटोरेगा, वाहन की रखवाली खुद ही करनी होगी
निगम की चौथी शर्त के अनुसार येलो लाइन में गाड़ी पार्क करने की जिम्मेदारी खुद वाहन मालिक की होगी। यदि आवंटित की गई पार्किंग में कोई दूसरी गाड़ी खड़ी होती है तो उसे हटाने के लिए नगर निगम जिम्मेदार नहीं होगा। हां, इतना जरूर है कि वाहन मालिक नगर निगम से मिली पार्किंग आवंटन की रसीद दिखाकर पुलिस से मदद ले सकता है। इस पार्किंग में गाड़ी चोरी होने या नुकसान होने के लिए भी वाहन मालिक खुद जिम्मेदार होगा।

पार्किंग स्थल के नुकसान की करनी पड़ेगी भरपाई
पांचवीं शर्त यह है कि यदि कहीं येलो लाइन पार्किंग के स्थल को कोई नुकसान होता है तो उसकी भरपाई भी वाहन मालिक को करनी होगी। नगर निगम पार्किंग स्थल को होने वाले नुकसान का पैसा आवंटित वाहन मालिक से वसूलेगा। नगर निगम की संपदा शाखा के अधीक्षक अमरचंद ने बताया कि आवेदनकर्ताओं को जल्द पत्र भेजे जा रहे हैं ताकि लोग शुल्क जमा कर पार्किंग सुविधा ले सके। नगर निगम में 1342 गाड़ियों की पार्किंग के लिए अब तक 450 से ज्यादा लोग आवेदन कर चुके हैं।

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00