विज्ञापन
विज्ञापन
गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

बीएड की वार्षिक परीक्षा में बुशहर कॉलेज की पारुल हिमाचल में अव्वल

हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय की ओर से आयोजित बीएड की वार्षिक परीक्षा सत्र 2018-20 में बुशहर बीएड कॉलेज कलना (नोगली) की पारुल नेगी ने प्रदेश भर में पहला...

21 अक्टूबर 2021

Digital Edition

पर्यटन: शिमला में मनाइए पहला करवाचौथ, होटलों में 40 फीसदी तक मिलेगी छूट

हिमाचल प्रदेश की राजधानी हिल्सक्वीन शिमला में नव विवाहित जोड़े इस वीकेंड पर पहले करवाचौथ को यादगार बना सकते हैं। पहली बार पर्यटन विकास निगम के अलावा शहर के निजी होटलों और ट्रेवल एजेंट्स एसोसिएशन ने नव विवाहित जोड़ों के लिए डिस्काउंट पैकेज जारी किए हैं। हर साल करवाचौथ पर बड़ी संख्या में कपल शिमला पहुंचते हैं। इस साल करवाचौथ वीकेंड पर रविवार को आ रहा है, जिसके चलते हजारों की संख्या में कपल शिमला पहुंचने की उम्मीद है।

वीकेंड पर होटलों में 90 फीसदी ऑक्यूपेंसी रहने की उम्मीद है। 30 से 40 फीसदी कमरे एडवांस बुक हो गए हैं। शहर के होटलों ने करवाचौथ पर रूम बुकिंग पर 40 फीसदी तक डिस्काउंट की घोषणा की है। टूरिज्म इंडस्ट्री स्टेक होल्डर्स एसोसिएशन के मुख्य सलाहकार गोपाल अग्रवाल का कहना है कि शिमला के रिज मैदान पर होने वाला करवाचौथ इवेंट देश भर में प्रसिद्ध है। इसलिए होटलों ने रूम बुकिंग पर डिस्काउंट जारी किया है। 
... और पढ़ें
शिमला शहर। शिमला शहर।

हिमाचल: 40 दिन शेष, कैसे लगेगी लाखों लोगों को कोविड वैक्सीन की दूसरी डोज

हिमाचल प्रदेश सरकार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से 30 नवंबर तक पूरे प्रदेश में पात्र लोगों को कोविड वैक्सीन की दूसरी डोज लगाकर पहला राज्य बनने का वायदा किया है, लेकिन लक्ष्य हासिल करने में लोगों की आनाकानी सरकार के लिए मुश्किल पैदा कर रही है। 30 नवंबर को चालीस दिन शेष होने के बावजूद प्रदेश के 25 लाख से ज्यादा लोगों ने अभी दूसरी डोज नहीं लगवाई है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के गृह जिले मंडी और कांगड़ा में पांच लाख से ज्यादा लोगों ने दूसरी डोज नहीं लगवाई है। शिमला से लेकर सिरमौर, सोलन जिले में भी दूसरी डोज न लगवाने वालों की संख्या दो लाख से ज्यादा है। किन्नौर जिला पहले ही लक्षित आबादी को दूसरी डोज लगाकर देशभर में पहला जिला बन चुका है।

लाहौल-स्पीति भी इसी महीने तक यह लक्ष्य हासिल कर लेगा। यह तब है जब कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए केंद्र से लेकर प्रदेश की सरकार तक तैयारियों में जुटी है। हालांकि, कोविड के कम होते मामलों और पहली डोज के बाद संक्रमित होने वालों में मृत्यु दर कम होने की वजह से लोगों में अब इस बीमारी का खौफ कम होने लगा है। बुधवार को मुख्य सचिव की सभी जिलों के उपायुक्तों के साथ हुई बैठक में भी यह कारण सामने आया था। इसके बाद अब सरकार पंचायत स्तर पर घर घर जाकर लोगों को दूसरी डोज लगवाने के लिए भी प्रेरित करने का अभियान शुरू करने की तैयारी में जुटी है। सूत्रों के अनुसार सरकार का लक्ष्य है कि वह हर हाल में 30 नवंबर तक लक्ष्य हासिल कर ले ताकि प्रधानमंत्री से किए वायदे को पूरा किया जा सके। 

कहां कितनों को अभी भी लगनी है दूसरी डोज
जिला                            संख्या (लाख में)
मंडी                                5.50
कांगड़ा                            5.05
सोलन                            3.68
शिमला                            2.98
सिरमौर                            2.07
हमीरपुर                            1.40
कुल्लू                                1.60
ऊना                                1.70
बिलासपुर                        1.08
चंबा                                0.65
कुल                                25.73

अमर उजाला अपील
अमर उजाला हिमाचल प्रदेश के सभी जनमानस से अपील करता है कि लोग तय तारीख पर कोविड वैक्सीन की दूसरी डोज लगवाएं और हिमाचल प्रदेश को देश दुनिया में गौरवान्वित करने में अपना योगदान दें। 
... और पढ़ें

कोरोना: हिमाचल में नौवीं कक्षा की छात्रा समेत चार संक्रमितों की मौत, 24 घंटों में 202 नए पॉजिटिव मरीज

हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला स्लेटी की नौवीं कक्षा की कोरोना पॉजिटिव एक छात्रा की मौत हो गई। कोरोना से जिस छात्रा की मौत हुई है, वह हमीरपुर मेडिकल कॉलेज में उपचाराधीन थी। स्कूल खुलने के बाद 27 सितंबर से 21 अक्तूबर तक 126 विद्यार्थी पॉजिटिव आ चुके हैं, जबकि मौत का पहला मामला है। विभागीय अधिकारियों ने बताया कि जिस छात्रा की मौत हुई है, वह 12 अक्तूबर से स्कूल नहीं आई थी। विभाग ने एहतियातन स्कूल में छात्रों और शिक्षकों के अलावा आसपास के क्षेत्र में 159 लोगों की कोरोना जांच की है। स्कूल को 48 घंटों के लिए बंद कर दिया है।

ये भी पढ़ें:
हिमाचल शिक्षा बोर्ड छह दिसंबर से आयोजित करेगा 10वीं और 12वीं कक्षा की प्रैक्टिकल परीक्षाएं

सीएमओ कांगड़ा डॉ. गुरदर्शन गुप्ता ने बताया कि एहतियातन तौर पर विद्यार्थियों, शिक्षकों व गांव के लोगों के कोरोना जांच के लिए 159 सैंपल लिए गए हैं, जिनकी रिपोर्ट शुक्रवार को आएगी। उधर, सैनिक स्कूल सुजानपुर के दो विद्यार्थी भी संक्रमित हुए हैं। इसके अलावा गुरुवार को तीन और लोगों की मौत हो गई। वहीं 24 घंटों के दौरान प्रदेश में 202 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज आए हैं। कांगड़ा जिले में दो बुजुर्ग और शिमला में एक बुजुर्ग की मौत हुई है। शिक्षा विभाग से मिले आंकड़ों के अनुसार गुरुवार को ऊना में 19, कांगड़ा में नौ, मंडी में तीन और हमीरपुर में कुल पांच विद्यार्थी संक्रमित हुआ है। 

लाहौल-स्पीति भी हुआ कोरोना मुक्त
उधर, प्रदेश में कोरोना मृतकों का आंकड़ा 3715 पहुंच गया है। प्रदेश में अब तक कोरोना के 222138 मामले आ चुके हैं। इनमें से 216954 ठीक हो चुके हैं। कोरोना सक्रिय मामले 1452 हो गए हैं। इसमें से बिलासपुर जिले में 90, चंबा 12, हमीरपुर 303, कांगड़ा 523, किन्नौर नौ, कुल्लू 29, लाहौल-स्पीति शून्य, मंडी 183, शिमला 88, सिरमौर शून्य, सोलन 39 और ऊना में 176 सक्रिय मामले हैं। बीते 24 घंटों के दौरान 140 मरीज ठीक हुए हैं और कोरोना की जांच के लिए 7105 लोगों के सैंपल लिए गए। वहीं, सिरमौर जिले के बाद अब लाहौल-स्पीति भी कोरोना मुक्त हो गया है। जिले में सक्रिय केस शून्य हो गए हैं। 
... और पढ़ें

बड़ी कार्रवाई: मंडल अध्यक्ष जुब्बल-कोटखाई समेत भाजपा के 13 नेता छह साल के लिए निष्कासित

भारतीय जनता पार्टी के हिमाचल प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद सुरेश कश्यप ने जुब्बल-कोटखाई विधानसभा क्षेत्र में होने जा रहे उपचुनाव के बीच संगठन में अनुशासनहीनता के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है। उन्होंने पार्टी विरोधी गतिविधियों का संज्ञान लेते हुए 13 नेताओं को भाजपा मंडल से छह साल के लिए निष्कासित कर दिया है। भाजपा ने मंडल अध्यक्ष गोपाल जवैईक, मंडल महामंत्री सतीश पिरटा, भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य यशवीर जस्टा, युवा मोर्चा महासू के जिला अध्यक्ष अंकुश चैहान, युवा मोर्चा महासू के जिला महामंत्री सुशील कदशोली, युवा मोर्चा के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य संदीप गांगटा, विशेष आमंत्रित सदस्य जिला महासू रविंद्र चैहान, मंडल उपाध्यक्ष जुब्बल-कोटखाई अशोक जस्टा, जिला उपाध्यक्ष जिला महासू देवेंद्र श्याम, मंडल उपाध्यक्ष रामप्रकाश गईठा, मंडल कार्यसमिति सदस्य चेतन कडैइक, राजेश चैहान और अनिल काल्टा को पार्टी ने निष्कासित कर दिया है। इन नेताओं पर भाजपा प्रत्याशी नीलम सरैईक के खिलाफ प्रचार करने और पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने पर कार्रवाई की गई है।
... और पढ़ें

नई व्यवस्था: हिमाचल में चुनावी क्षेत्रों से सटे जिलों में भी बिना अनुमति नहीं होंगी राजनीतिक गतिविधियां

हिमाचल भाजपा अध्यक्ष एवं सांसद सुरेश कश्यप
हिमाचल प्रदेश की तीन विधानसभा सीटों और एक लोकसभा सीट पर हो रहे उपचुनाव के बीच भारत निर्वाचन आयोग ने बड़ा निर्णय लिया है। इसके तहत अब चुनावी क्षेत्रों से सटे जिलों में भी अगर किसी राजनीतिक दल या प्रत्याशी को चुनावी कार्यक्रम आयोजित करना है तो उन्हें इसके लिए भी संबंधित जिले के जिला निर्वाचन अधिकारी से अनुमति लेनी होगी। आयोग ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं और सभी राजनीतिक दलों व जिला निर्वाचन अधिकारियों को आदेशों का पूरी तरह से पालन करने के लिए कह दिया है।

ये भी पढ़ें:
लाहौल-स्पीति: बातल में फंसे 80 पर्यटक और स्थानीय लोग, सभी सुरक्षित, हवाई सर्वे से मिली जानकारी

चुनाव आयोग को शिकायत मिली थी कि कुछ राजनीतिक दल चुनाव वाले क्षेत्रों से सटे अन्य क्षेत्रों में राजनीतिक कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं, जिनसे चुनावी प्रक्रिया में असर पड़ रहा है। चूंकि अभी तक चुनाव वाले संबंधित जिले तक ही आदर्श आचार संहिता (एमसीसी) लागू थी इसलिए अन्य जिले में हो रहे कार्यक्रम को रोका नहीं जा सकता था। लेकिन इस विषय को आयोग ने गंभीरता से लेते हुए अब स्पष्ट कर दिया है कि सटे हुए जिले में भी किसी भी तरह के चुनावी कार्यक्रम के आयोजन पर आदर्श आचार संहिता, कोविड निर्देश और खर्च निगरानी संबंधी जरूरी व्यवस्था लागू रहेगी। 

आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की 28 शिकायतों का निपटारा
 मुख्य निर्वाचन अधिकारी हिमाचल प्रदेश सी पालरासु ने बताया कि मंडी लोकसभा क्षेत्र, फतेहपुर, अर्की व जुब्बल-कोटखाई विधानसभा क्षेत्रों के उपचुनाव के दृष्टिगत संबंधित जिलों में लागू आदर्श आचार संहिता की अनुपालना सुनिश्चित करने के कड़े निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि उपनिर्वाचन प्रक्रिया के दौरान आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन से संबंधित शिकायतों के समयबद्ध व त्वरित निपटारे के लिए जिला निर्वाचन अधिकारियों और संबंधित विभागों के स्तर पर आवश्यक कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। निर्वाचन विभाग के पास अभी तक 47 शिकायतें प्राप्त हुई हैं, जिनमें से 28 शिकायतों का निपटारा कर दिया गया है। 
... और पढ़ें

हादसा: हिमाचल-उत्तराखंड सीमा पर त्यूनी में गिरी कार, पांच की मौत, युवती घायल

हिमाचल-उत्तराखंड सीमा पर जौनसार बावर के त्यूनी में एक कार अनियंत्रित होकर करीब 400 मीटर गहरी खाई में गिर गई। हादसे में पांच लोगों की मौत हो गई, जबकि एक युवती घायल है। मृतक दंपती समेत तीन लोग एक ही परिवार से और दो लोग रिश्तेदार बताए जा रहे हैं। घायल युवती को इलाज के लिए रोहड़ू अस्पताल रेफर कर दिया गया है। त्यूनी थानाध्यक्ष संदीप पंवार ने बताया कि संजय गुरुवार सुबह अपनी कार से पांच अन्य लोगों के साथ पंद्रानू गांव से बानपुर गांव की ओर जा रहे थे। इसी दौरान कार अनियंत्रित होकर खाई में जा गिरी। हादसे में कार सवार पांच लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि आंचल पुत्री संजय घायल हो गई।

मृतकों में पति-पत्नी, बेटा और दो अन्य लोग शामिल हैं। हादसे की खबर लगते ही त्यूनी थाना पुलिस और स्थानीय ग्रामीण रेस्क्यू के लिए घटनास्थल पर पहुंचे। कड़ी मशक्कत के बाद शवों को निकाला और युवती को अस्पताल भेजा। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र त्यूनी में पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिए गए हैं। मृतकों की पहचान संजय (49) पुत्र स्व. शंकरनाथ निवासी ग्राम बानपुर (पंद्राणु), बबली देवी (44) पत्नी संजय, निखिल (13) पुत्र संजय, जगदीश (34) पुत्र दुलाराम और अमित (23) पुत्र किशोरीनाथ के रूप में हुई। इनमें अमित शिमला जिले के चिडगांव थाना क्षेत्र के नडुंला गांव का रहने वाला है।
... और पढ़ें

हिमाचल के मलपुर और टाहलीवाल में होगी धान की खरीद, विभाग ने लिया फैसला

भारतीय खाद्य निगम हिमाचल प्रदेश के बद्दी के मलपुर और ऊना के टाहलीवाल में धान की खरीद शुरू करेगा। सूबे में धान खरीद के लिए सात मंडियां पहले से ही काम कर रही हैं। नालागढ़ के एसडीएम महेंद्रपाल गुर्जर ने बताया कि खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग ने घोषणा जारी करके जिला ऊना में टकराला में एक मंडी तथा सोलन जिले में नालागढ़ में एक मंडी संचालित की जा रही है। अब तक नालागढ़ में 1561 किसानों का पंजीकरण किया गया है। टकराला में 605 किसानों को पंजीकृत किया गया है, जबकि नालागढ़ में 49 और टकराला में 81 किसानों से खरीद की गई है।

खरीद केलिए अधिक से अधिक दुकानों को सभी सुविधाओं के साथ खोला जाए, जो प्रशासन की रिपोर्ट के अनुसार उपलब्ध कराई गई हैं। ऊना जिला के औद्योगिक क्षेत्र, टाहलीवाल मे प्लाट नंबर 53-55, तथा सोलन जिला के मल्लपुर बद्दी मे औद्योगिक शेड में धान की खरीद के लिए मंडी तैयार है। उपरोक्त स्थानों पर एक और मंडी खोलना आवश्यक है। भारतीय खाद्य निगम प्लॉट संख्या 53-55, टाहलीवाल ऊना और बद्दी के मल्लपुर मे जनता और किसानों के हित तत्काल प्रभाव से खरीद करेगा।
... और पढ़ें

हिमाचल: किन्नौर के छितकुल में लापता पांच ट्रैकरों के शव मिले, चार की तलाश जारी

उत्तरकाशी के हर्षिल से छितकुल के लम्खागा दर्रे की ट्रैकिंग पर निकले लापता 11 ट्रैकरों में से पांच के शव मिल गए हैं। सेना ने गुरुवार को दो घायलों को रेस्क्यू कर लिया है जबकि चार अभी लापता हैं। मौसम खराब होने की वजह से शवों को हेलीकॉप्टर से रेस्क्यू नहीं किया गया है। एक घायल मिथुन को सेना अपने साथ उत्तरकाशी ले गई है जबकि दूसरे का इलाज सेना के कैंप में चल रहा है। सेना अब शुक्रवार को शवों को निकालने के साथ लापता चार लोगों की तलाश करेगी। कुल 17 लोगों के दल में से छह पोर्टर खुद ही सांगला पहुंच गए थे। इन्होंने ही 11 पर्यटकों के फंसे होने की सूचना दी थी।
 
उत्तरकाशी के हर्षिल से 14 अक्तूबर को 11 ट्रैकरों और छह पोर्टरों का एक दल किन्नौर के छितकुल के लिए निकला था। 17 और 18 अक्तूबर को किन्नौर में भारी बर्फबारी में 11 पर्यटक दर्रे में फंस गए और वे टेंट लगाकर यहीं रुक गए। नेपाल मूल के छह पोर्टर पैदल ही सांगला के लिए बर्फ में निकल गए।

पोर्टर 20 अक्तूबर को सांगला थाने पहुंचे और जिला प्रशासन को सूचित किया। बीते दिन पैदल रेस्क्यू अभियान में आईटीबीपी और प्रशासन की टीम को सफलता नहीं मिली। गुरुवार को उत्तराखंड के उत्तरकाशी से आए सेना के एक हेलीकॉप्टर से सर्च अभियान चलाया गया। पांच शव और दो घायल उन्हें मिल गए। घायलों को तो रेस्क्यू कर लिया गया लेकिन शवों को उठाने से पहले मौसम खराब हो गया और हेलीकॉप्टर लौट गया। 

उपायुक्त किन्नौर आबिद हुसैन सादिक ने बताया कि सेना ने सात ट्रैकरों को रेस्क्यू किया है, जिनमें पांच की मौत हो चुकी है, दो का उपचार चल रहा है, जबकि 4 अभी लापता हैं। इससे पहले लम्खागा दर्रे से होकर छितकुल से सांगला की ओर छह पोर्टर पहुंचे थे। इनमें से चार पोर्टर तुलसी काफले, सुरेंद्र तिमेलासेना, विष्णु पोखरे और बलीराम पैदल सांगला थाना पहुंचे। चारों नेपाली मूल के पोर्टर फिलहाल सांगला थाने में ही हैं।

उन्होंने कहा कि लम्खागा दर्रे में तीन फीट बर्फबारी होने से 11 ट्रैकर एक अस्थायी टेंट में रुक गए। 6 पोर्टर टेंट की सुविधा न होने पर चलते-चलते भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल के नित्थल थाच के पास जा पहुंचे। यहां पहुंचकर उन्होंने आईटीबीपी से मदद मांगी कि हमारे 11 लोग लम्खागा दर्रे में बर्फ में फंसे हैं, लेकिन आईटीबीपी ने उन्हें आदेश आने के बाद ही रेस्क्यू करने की बात कही।
... और पढ़ें

लाहौल-स्पीति: बातल में अभी भी फंसे हैं पर्यटकों समेत 80 लोग, सभी सुरक्षित

पिछले दिनों हिमाचल प्रदेश के जनजातीय जिला लाहौल-स्पीति में हुई बर्फबारी के बाद पर्यटक विभिन्न जगहों पर फंस गए थे। पर्यटकों की खोज के लिए गुरुवार को सेना ने चंद्रा घाटी, बातल, छोटा दड़ा आदि जगहों में हवाई सर्वेक्षण किया। इस दौरान पाया गया कि बातल में अभी भी पर्यटकों समेत 80 लोग फंसे हैं। हालांकि ये सभी लोग सुरक्षित हैं। इनके खाने-पीने की व्यवस्था की गई है। चंद्रताल क्षेत्र में हवाई सर्वे से साफ हुआ है कि चंद्रताल क्षेत्र में केवल एक वाहन मौजूद है। उपायुक्त नीरज कुमार ने सेना के हवाले से बताया कि सेना के हेलीकॉप्टर ने चंद्रताल क्षेत्र का हवाई सर्वेक्षण किया। तस्वीरों से स्पष्ट है कि बातल में पर्यटकों के वाहन मौजूद हैं। 

बचाव दल लोगों के पास पहुंचा
वहीं, एसडीएम व एसडीपीओ काजा के नेतृत्व में बचाव टीम बातल में फंसे लोगों के पास पहुंच गई है। वहीं, एसपी लाहौल-स्पीति मानव वर्मा ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि ग्रांफू-काजा मार्ग पर स्थित चाचा-चाची ढाबा के दोरजे बोध और हिशे छोमो पिछले 40 वर्षों से निस्वार्थ भाव से लोगों की सेवा कर रहे हैं।  दोनों 17 अक्तूबर से फंसे हुए 80 लोगों को खाना खिला रहे हैं और उनकी देखभाल भी कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें:
हिमाचल: एक कोरोना संक्रमित विद्यार्थी की मौत, अब तक 126 संक्रमित

किन्नौर में 150 बिजली ट्रांसफार्मर ठप, लाहौल में 12 सड़कें बंद
वहीं, प्रदेश के जनजातीय जिलों किन्नौर और लाहौल-स्पीति में जारी बर्फबारी ने लोगों के लिए आफत खड़ी कर दी है। प्रदेश में वीरवार को 165 बिजली ट्रांसफार्मर ठप रहे। इसमें सबसे अधिक बिजली ट्रांसफार्मर 150 किन्नौर और 15 लाहौल-स्पीति जिले में ठप हो गए हैं। दोनों जिलाें के कई क्षेत्रों में अंधेरा पसर गया है। वीरवार को कुल्लू में एक और लाहौल-स्पीति जिले में 12 सड़कें बंद रहीं। लाहौल-स्पीति जिले में 12 पेयजल योजनाएं भी वीरवार को बंद रही। किन्नौर में बर्फबारी के कारण सेब की फसल को भारी नुकसान हुआ है। कई जगह सेब के पेड़ जड़ से उखड़ गए हैं। किन्नौर में सेब की फसल खराब होने से बागवानों को लाखों रुपये का नुकसान उठाना पड़ रहा है। 
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00