Anant Chaturdashi 2021: अनंत चतुर्दशी पर क्यों किया जाता है गणेश विसर्जन? जानिए रोचक कथा

अनीता जैन ,वास्तुविद Published by: विनोद शुक्ला Updated Sun, 19 Sep 2021 06:30 AM IST

सार

दस दिनों तक उनकी पूजा-आराधना की जाती है, बप्पा को तरह-तरह के भोग लगाए जाते हैं और पूरे गणेश उत्सव के बाद धूमधाम के साथ गणेश जी को अनंत चतुर्दशी के दिन जल में विसर्जित कर दिया जाता है।
गणेश विसर्जन 2021:
गणेश विसर्जन 2021: - फोटो : PTI
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

भाद्रपद मास की शुक्लपक्ष की चतुर्थी से अनंत चतुर्दशी तक चलने वाला दस दिन का गणेश महोत्सव बड़े धूमधाम के साथ मनाया जाता है। चतुर्थी के दिन भक्त अपने घरों, सार्वजनिक स्थानों और कार्यालयों में भगवान गणेश की मूर्ति स्थापित करने के साथ गणेश उत्सव की शुरुआत करते हैं। दस दिनों तक उनकी पूजा-आराधना की जाती है, बप्पा को तरह-तरह के भोग लगाए जाते हैं और पूरे गणेश उत्सव के बाद धूमधाम के साथ गणेश जी को अनंत चतुर्दशी के दिन जल में विसर्जित कर दिया जाता है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि आखिर क्यों हम बप्पा को दस दिन तक पूजने के बाद विर्सजन ही करते हैं और इसके पीछे की कहानी क्या है?
विज्ञापन


विघ्न-बाधाओं को करते हैं दूर
गणेश विसर्जन के पीछे एक रोचक कथा है कि गणेश महोत्सव के आखिरी दिन भगवान गणेश अपने माता-पिता भगवान शिव और देवी पार्वती के साथ कैलाश पर्वत पर लौटते हैं। गणेश चतुर्थी का उत्सव जन्म, जीवन और मृत्यु के चक्र के महत्व को बताता है। गणेश, जिन्हें नई शुरुआत के भगवान के रूप में भी जाना जाता है, बाधाओं के निवारण के रूप में भी पूजा जाता है। इसलिए जब गणेशजी की प्रतिमा को विसर्जन के लिए बाहर ले जाया जाता है तो वह अपने साथ घर की अनेकों प्रकार की नकारात्मक शक्तियों एवं विघ्न-बाधाओं को भी दूर कर देते है।




महाभारत से जुड़ा है प्रसंग
धार्मिक मान्यता है कि गणेशजी ने ही महाभारत जैसे महान ग्रंथ को लिखा था। कथा के अनुसार जब ऋषि वेदव्यास जी ने संपूर्ण महाभारत के दृश्य को अपने अंदर आत्मसात तो कर लिया परंतु वे लिखने में असमर्थ थे इसलिए उन्हें किसी ऐसे दिव्यआत्मा की आवश्यकता थी, जो बिना रुके पूरी महाभारत लिख सकें। तब उन्होंने ब्रह्मा जी से प्रार्थना की। ब्रह्मा जी ने वेदव्यासजी को सुझाव दिया कि गणेश जी बुद्धि के देवता हैं वे आपकी सहायता अवश्य करेंगे। तब उन्होंने गणेश जी से महाभारत लिखने की प्रार्थना की। गणपति बप्पा को लेखन में विशेष दक्षता हासिल है, उन्होंने महाभारत लिखने के लिए स्वीकृति दे दी। ऋषि वेदव्यास ने चतुर्थी के दिन से लगातार दस दिनों तक महाभारत का पूरा वृतान्त गणेश जी को सुनाया जिसे गणेश जी ने अक्षरशः लिखा।

महाभारत पूरी होने के बाद जब वेदव्यास जी ने अपनी आखें खोली तो देखा कि गणेश जी के शरीर का तापमान बहुत अधिक हो गया था। उनके शरीर के तापमान को कम करने के लिए वेदव्यास जी ने गणेश जी के शरीर पर मिट्टी का लेप किया, मिट्टी सूख जाने के बाद उनका शरीर अकड़ गया और शरीर से मिट्टी झड़ने लगी तब भी ऋषि वेदव्यास ने गणेश जी को सरोवर में ले जाकर मिट्टी का लेप साफ किया था और उनको सरोवर में डुबकी लगवाई। कथा के अनुसार जिस दिन गणेश जी ने महाभारत को लिखना आरंभ किया था, वह भादों मास की शुक्लपक्ष की चतुर्थी का दिन था, और जिस दिन महाभारत पूर्ण हुई वह अनंत चतुर्दशी का दिन था। तभी से गणेश जी को दस दिनों तक बिठाया जाता है और ग्याहरवें दिन गणेश उत्सव के बाद बप्पा का विसर्जन किया जाता है।  

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स,स्वास्थ्य संबंधी सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00