Hindi News ›   Spirituality ›   Religion ›   maharas story of kirshna

जब रुकी चन्द्रमा की गति और एक रात में बीते 6 महीने

Updated Sat, 31 Oct 2015 04:07 PM IST
maharas story of kirshna
विज्ञापन
ख़बर सुनें

महारास श्रीकृष्ण की अद्भुत लीलाओं में से एक है। इसकी कल्पना गोपियों ने वृंदावन में मार्गशीर्ष के महीने में की थी। गोपियों ने वृंदावन में यमुना की रेत पर एक माह तक लगातार देवी कात्यायनी की पूजा की और रोज जाप किया। उनके प्रेम और तप के कारण प्रभु कृष्ण को आना ही पड़ा।

विज्ञापन


वहां प्रत्येक गोपी के साथ अलग-अलग रूप धारण कर कृष्ण ने महारास रचाया। इस महारास के गीत भागवत के दशम स्कंध में रास पंच अध्यायी के रूप से वर्णित किया हैं। महारास पूरे छह माह तक चला और यह रात्रि अहोरात्रि कहलाई।

और ठहर गया आसमान में चांद

maharas story of kirshna2
कृष्‍ण का यह महारास देखकर चंद्रमा भी अपनी सुध-बुध गंवा बैठा और अपलक दृष्टि से इस महारास का साक्षी बना रहा जिसके चलते वह अपनी गति भूल गया। इस रास के कारण ही महरास एक महोत्सव के रूप में मनाया जाता है।

पढ़ें, शादी की उम्र हो गई है तो लड़के यह 7 गलत‌ियां न करें

मंदिरों में ठाकुर जी को श्वेत वस्‍त्र पहनाए जाते हैं। खीर, बूरे का प्रसाद लगाया जाता है साथ ही इस दिन दर्शन मध्यरात्रि तक खुले रहते हैं। केवल महरास पर बांके बिहारी ठाकुर जी बंसी धारण करते हैं।

वर्ष में केवल एक बार ही प्रभु को इस दिन बंसी धारण करते देखा जा सकता है। दर्शनार्थियों का तांता लगा रहता है। मान्यता यह भी है कि महारास के दिन चंद्रमा अपनी सभी 16 कलाओं को बिखेरता है ऐसे में रात्रि को घी और बूरा अथवा खीर रात भर चांदनी रात में रखने और सुबह खाने से सांस के रोग में बड़ी राहत मिलती है।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स,स्वास्थ्य संबंधी सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00