Hindi News ›   Spirituality ›   Religion ›   Ramadan: importance of the Islamic Holy Month

रमजान 2017ः एक गलती से भी टूट जाता है रोजा, जानें इससे जुड़े सख्त नियम

amarujala.com- Presented by: किरण सिंह Updated Sun, 28 May 2017 05:07 PM IST
Ramadan: importance of the Islamic Holy Month
विज्ञापन
ख़बर सुनें
पवित्र माह रमजान शुरू हो चुका है। रमजान इस्लामी कैलेंडर का नवां महीना होता है, जो नए चांद के साथ ही शुरू होता है और 29 या 30 दिन बाद ही नए चांद के सा‌थ ही खत्म होता है।
विज्ञापन


रमजान महीने के दौरान एक महीने तक रोजे रखे जाते हैं। नए चांद के साथ शुरू हुआ ये पवित्र 29 या 30 दिन नए चांद के साथ ही खत्म होते है और जिस दिन रमजान का महीना खत्म होता है उसके अगले दिन ईद उल फितर मनाई जाती है। वैसे रोजे रखना आसान नहीं होता। इसके लिए सख्त नियमों का पालन किया जाता है और एक छोटी सी गलती से भी रोला टूट जाता है। 

अगली स्लाइड में जानें रोजे के सख्त नियम

- रोजे रखने के दौरान खाना के बारे में भी नहीं सोचा जाता।

-  बदनामी करना, लालच करना, झूठ बोलना, पीठ पीछे बुराई करना और झूठी कसम खाने से रोजा टूट जाता है।

- रोजे रखने वाले मुसलमान सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त के दौरान कुछ भी नहीं खाते।

- सूरज निकलने से पहले सहरी की जाती है, मतलब सूरज निकलने से पहले ही खाना पीना किया जा सकता है।

- रोजदार सहरी के बाद सूर्यास्त तक कुछ नहीं खाते और सूरज अस्त होने के बाद इफ्तार करते हैं। इफ्तार में रोजा खोला जाता है।

- रमजान के पवित्र माह में पांच बार की नमाज और कुरान पढ़ी जाती है।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स,स्वास्थ्य संबंधी सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00