बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव
Myjyotish

बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

योगी मंत्रिमंडल का विस्तार: एक कैबिनेट और छह राज्य मंत्री शामिल, पांच महीने की मशक्कत के बाद चुने गए ये सात चेहरे

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार का बहुप्रतिक्षित मंत्रिमंडल का दूसरा विस्तार रविवार शाम हो गया। योगी मंत्रिमंडल में एक कैबिनेट मंत्री और छह राज्य मंत्रियों के रूप में सात नए चेहरों को शामिल किया गया है। कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद ने कैबिनेट मंत्री की शपथ ली। बलरामपुर के विधायक पलटूराम, सोनभद्र के ओबरा से विधायक संजीव कुमार, गाजीपुर विधायक संगीता बिंद, मेरठ से विधायक दिनेश खटीक, आगरा से विधायक धर्मवीर प्रजापति और बरेली के बहेड़ी से विधायक छत्रपाल गंगवार को राज्यमंत्री के रूप शपथ ली। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और भाजपा ने विधानसभा चुनाव-2022 में मिशन 350 के लक्ष्य को पूरा करने के लिए विधान परिषद में सदस्यों के मनोनयन से लेकर मंत्रिमंडल विस्तार में अति पिछड़े, अति दलित वर्ग को प्रतिनिधित्व देकर सामाजिक समीकरण को साधा है।

प्रदेश में पंचायत चुनाव के बाद से ही योगी मंत्रिमंडल के विस्तार की अटकलें शुरू हो गई थीं। मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर लखनऊ से लेकर दिल्ली तक कई बार बैठकों का दौर चला। 23 सितंबर को मुख्यमंत्री आवास पर हुई भाजपा के चुनाव प्रभारी धर्मेन्द्र प्रधान और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में हुई भाजपा कोर कमेटी की बैठक में मंत्रिमंडल विस्तार पर सहमति बनी। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के रविवार को लखनऊ लौटने के बाद शाम को मंत्रिमंडल विस्तार का कार्यक्रम तय हो गया। रविवार शाम छह बजे राजभवन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, डॉ. दिनेश शर्मा, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और प्रदेश प्रभारी राधा मोहन सिंह की मौजूदगी में  आयोजित कार्यक्रम में राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने एक कैबिनेट और छह राज्यमंत्रियों को शपथ ग्रहण कराई। मंत्रिमंडल विस्तार में सामाजिक समरसता और संतुलन का खास ध्यान रखा गया है। पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती के एक दिन बाद हुए मंत्रिमंडल विस्तार में दीनदयाल के अंत्योदय के सपनों को साकार करते हुए खटीक, बिंद, प्रजापति जैसे अति पिछड़े और अति दलित वर्ग को प्रतिनिधित्व दिया गया है जिन्हें कभी अवसर नहीं मिला था।




क्षेत्रीय संतुलन बनाया
योगी आदित्यनाथ ने आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर अपनी टीम में क्षेत्रीय संतुलन बनाए रखा है। मंत्रिमंडल विस्तार में पश्चिमी यूपी के शाहजहांपुर, आगरा, मेरठ और बरेली से एक-एक मंत्री बनाया गया है। जबकि पूर्वांचल के गाजीपुर, सोनभद्र और अवध के बलरामपुर से एक मंत्री बनाया गया है।

60 मंत्रियों की संख्या पूरी
प्रदेश सरकार के रविवार को हुए मंत्रिमंडल विस्तार के बाद मंत्रिमंडल के 60 सदस्यों की संख्या पूरी हो गई। योगी सरकार में अब 24 कैबिनेट मंत्री, 9 राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार, 27 राज्यमंत्री हैं।

22 अगस्त को हुआ था पहला विस्तार
योगी सरकार में मंत्रिमंडल का पहला विस्तार 22 अगस्त 2019 को हुआ था। उसय समय मंत्रिमंडल की सदस्य संख्या 56 हुई थीं। उसमें 25 कैबिनेट, 9 राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार और 22 राज्यमंत्री थे। लेकिन बीते डेढ़ वर्ष में कोरोना संक्रमण से कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान, कमला रानी वरुण और राज्यमंत्री विजय कश्यप का निधन होने से तीन पद खाली हो गए थे।

मंत्रिमंडल में चार महिला बरकरार
योगी मंत्रिमंडल में चार महिला मंत्रियों की संख्या बरकरार रखी गई है। दिवंगत कमला रानी वरुण के निधन के बाद गाजीपुर विधायक डॉ. संगीता बलवंद बिंद को मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है। नीमिला कटियार, स्वाति सिंह और गुलाबदेवी पहले से मंत्रिमंडल में शामिल हैं।
... और पढ़ें
योगी मंत्रिमंडल में सात नए चेहरे शामिल योगी मंत्रिमंडल में सात नए चेहरे शामिल

बुखार का कहर: आगरा में तीन और बच्चों की मौत, 12 दिन में 23 मासूमों की जा चुकी है जान

आगरा जिले में रविवार को तीन बच्चियों ने बुखार से दम तोड़ दिया। बीते 12 दिन में 23 बच्चों की मौत हो चुकी है। फिर भी अफसर बेखबर बने हुए हैं। मौत होने के बाद ही शिविर और जांच कराई जा रही है। अभी तक पिनाहट में सबसे ज्यादा आठ मरीजों की मौत हुई है। बाह में पांच, बरहन में चार, फतेहपुर सीकरी में चार और टेढ़ी बगिया में दो बच्चों की मौत हो चुकी है। 

ताजपुर में बुखार से बालिका की मौत
फतेहपुर सीकरी के ताजपुर निवासी दिलशाद की छह साल की बेटी आयत की बुखार से मौत हो गई, इसे दो दिन से बुखार आ रहा था। शनिवार को सीएचसी से रेफर करने पर परिजन उसे भरतपुर लेकर गए थे। बच्ची की मौत के बाद स्वास्थ्य विभाग ने शिविर लगाकर 65 लोगों की जांचकर दवाएं दीं। 

सीएचसी प्रभारी डॉ. विनोद कुमार ने बताया कि बच्ची शमसाबाद स्थित लाखरानी गांव में ननिहाल गई थी, वहां बुखार आने के बाद यहां आई थी। एंटी लारवा का छिड़काव कराते हुए संदिग्ध के नमूने लिए हैं। पूर्व सांसद बाबूलाल चौधरी परिजनों से मिले और सांत्वना दी। 
... और पढ़ें

कन्नौज: मुकदमा दर्ज होने के तीन दिन बाद भी दबंगों की गिरफ्तारी न होने से ग्रामीणों में दहशत, लगाए मकान बिकाऊ के पोस्टर

कन्नौज जिले के छिबरामऊ में मुकदमा दर्ज होने के तीन दिन बाद भी दबंग ग्राम प्रधान व उसके भाई की गिरफ्तारी न होने से सराय गूजरमल गांव के लोग दहशत में हैं। खुलेआम घूम रहे प्रधान और उसके भाई के खौफ के चलते गांव के 21 लोगों ने अपने घरों के बाहर मकान बिकाऊ का पोस्टर चस्पा कर दिया है।

हालांकि पुलिस इस मामले में एक युवक को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है। नगर से जुड़े ग्राम सराय गूजरमल में रविवार को 21 मकानों के बाहर मकान बिकाऊ होने के पोस्टर लगे हुए दिखाई दिए। ग्रामीणों का कहना है कि गांव के प्रधान की गुंडई और मारपीट से उनकी जान को खतरा है।

जिससे वह अपना घर बेंचकर पलायन को मजबूर हो गए हैं। बता दें कि सराय गूजरमल निवासी नरेश चंद्र ने गांव में कराए गए विकास कार्यों की जांच कराने के लिए शिकायत की थी। जिस पर एडीओ पंचायत यशकरन सिंह, सचिव अनुराधा जांच के लिए गई थी।
... और पढ़ें

बनारस में दोहरा हत्याकांडः रोटी के एक टुकड़े ने ली दो की जान, सुहाग की रक्षा में पत्नी की मौत

वाराणसी के लोहता थाना रहीमपुर नई बस्ती मोहल्ले में रविवार सुबह बड़े भाई ने अपने छोटे भाई और उसकी पत्नी की हथौड़े से वारकर हत्या कर दी। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी बड़ा भाई और उसकी पत्नी घर से भाग निकले। रोज के घरेलू झगडे़ और आपसी रंजिश में हुई हत्या की सूचना पाकर मौके पर पहुंची लोहता पुलिस और फॉरेंसिक टीम ने साक्ष्य इकट्ठा किए। पुलिस अधीक्षक ग्रामीण और सीओ सदर ने भी घटनास्थल का जायजा लिया और हत्यारोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की दो टीमें गठित कीं। मां जुलेखा की तहरीर पर आरोपी बेटे और बहू के खिलाफ पुलिस ने हत्या का मुकदमा दर्ज किया है।
 
पुलिस के अनुसार, भदोही के स्वर्गीय महबूब अली का परिवार छह-सात साल पूर्व लोहता के नई बस्ती में आकर बस गया था। महबूब अली के पांच पुत्र हैं। एक दुबई में रहता है, चार रहीमपुर में रहते हैं। बेटों में तीसरे नंबर का नियाज भदोही में एक वारदात के बाद से जेल में निरुद्ध है। घर में बड़ा भाई निजामुद्दीन, छोटा भाई निसार व नसीर रहते हैं। देखें अगली स्लाइड्स...
... और पढ़ें

आगरा: सीजीएसटी की टीम ने 102 करोड़ की चोरी के मास्टरमाइंड को किया गिरफ्तार, फर्जी बिल दिखाकर लिया था आईटीसी

मृतक दंपती (फाइल फोटो)।
आगरा में 126 फर्जी फर्म खोलकर 700 करोड़ रुपये का कारोबार करने वाले मास्टरमाइंड नितिन वर्मा को सेंट्रल जीएसटी की टीम ने रविवार को गिरफ्तार कर लिया। आवास विकास कालोनी निवासी नितिन वर्मा ने फर्जी इनवॉइस जारी कर 102 करोड़ रुपये की टैक्स चोरी और इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) लिया था। सीजीएसटी टीम ने उसे गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया।

रविवार को केंद्रीय वस्तु एवं सेवा कर (सीजीएसटी) आयुक्तालय आगरा के कमिश्नर ललन कुमार के निर्देशन में की गई कार्रवाई में 700 करोड़ रुपये के फर्जी कारोबार का मास्टरमाइंड नितिन वर्मा को गिरफ्तार कर लिया गया। नितिन ने साल 2017 से 2019 के बीच फर्जी आधार नंबर और पैन नंबर से करीब 126 फर्जी फर्म अलग-अलग राज्यों में पंजीकृत कराई और उनके बीच बिना माल का लेनदेन किए 700 करोड़ के फर्जी इनवाइस, बिल और ई वे बिल जारी करके 102 करोड़ के टैक्स की चोरी और आइटीसी क्लेम कर ली। आवास विकास कालोनी निवासी नितिन वर्मा को रविवार सुबह उसके घर से गिरफ्तार कर शाम को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया है।

यह कार्रवाई संयुक्त आयुक्त भवन मीना के मार्गदर्शन में सहायक आयुक्त अनिल शुक्ला, अधीक्षक ऋषि देव सिंह और संजय कुमार, निरीक्षक सतीश कुमार सिंह, कपिल कुमार, विपिन कुमार, अजय सोनकर, अनुराग सोनी ने अंजाम दी।

आधार कार्ड लेकर जालसाजी से बनाई फर्म
मास्टरमाइंड नितिन वर्मा ने 126 फर्जी कंपनियां बनाकर इस घोटाले को अंजाम दिया था। इसमें उसने ऐेसे लोगों के आधार कार्ड लिए, जो सीधे साधे थे। उन्हें पता ही नहीं कि उनके आधार कार्ड से फर्जी फर्म खोली गई है। सीजीएसटी की जांच में उसके खुद के दो आधार कार्ड मिले, जिन पर उसके पिता के नाम अलग अलग दर्ज हैं। उसका एक साथी चंद्रप्रकाश कृपलानी जनवरी 2020 में सीजीएसटी गिरफ्तार कर चुकी है। तब 400 करोड़ के लेन देन की आशंका थी। कर्नाटक, महाराष्ट्र, तेलंगाना, आंध्रप्रदेश, मध्य प्रदेश समेत कई राज्यों में उसने फर्जी फर्म पंजीकृत कराईं और 6 माह बाद करोड़ो कें ई-बे बिल, आईटीसी क्लेम कर बंद कर देता था।
... और पढ़ें

यूपी चुनाव : आप ने घोषित किए 70 उम्मीदवार, किसानों को फ्री बिजली बाकियों को 300 यूनिट फ्री, बकाया बिल माफ करने का किया वादा

आम आदमी पार्टी ने विधानसभा चुनाव को लेकर पहले चरण में 100 सूची जारी करने के बाद रविवार को दूसरे चरण में 70 उम्मीदवार घोषित कर दिए हैँ। प्रदेश प्रभारी राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने सभी उम्मीदवारों को बधाई देते हुए कहा कि पार्टी का वादा है कि 300 यूनिट फ्री बिजली, बकाया बिल माफ, किसानों की बिजली फ्री और 24 घंटे बिजली आपूर्ति दी जाएगी।

प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह ने सूची जारी करते हुए बताया कि लखनऊ की मलिहाबाद से ललित वाल्मीकि और बीकेटी से पंकज यादव, लखनऊ पूरब से विजय कुमार सिंह को बनाया प्रत्याशी बनाया गया है। गोंडा के कटरा से हरिनाथ सिंह, सदर से सुधांशु मिश्रा, गौरा से संजय कुमार पाठक को प्रत्याशी बनाया गया है। इसी तरह अन्य जिलों में भी दो से तीन विधानसभा क्षेत्र के उम्मीदवार घोषित किए गए हैं। प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह ने बताया कि सूची में 29 पिछड़े वर्ग से, 19 ब्राह्मण, 13 दलित और 5 मुस्लिम नेताओं को टिकट दिया गया है। सूची में डॉक्टर, इंजीनियर, अधिवक्ता आदि शामिल हैं। सि दौरान राष्ट्रीय प्रवक्ता दिलीप पांडेय और प्रदेश प्रवक्ता महेंद्र सिंह भी मौजूद रहे।
... और पढ़ें

UP Cabinet Expansion: ‘सात’ से सियासी चक्रव्यूह का सातवां द्वार भेदने की तैयारी, जातीय असंतुलन दूर करने पर ध्यान

ओवैसी बोले: यूपी में नहीं है मुसलमानों का कोई नेता, बैंडबाजे की तरह इस्तेमाल कर रहे सियासी दल

एआईएमआईएम (ऑल इंडिया मजलिसे इत्तेहादुल मुस्लीमीन) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने रविवार को जाजमऊ में आयोजित सभा में सभी सियासी दलों पर जमकर हमला बोला। बड़ी संख्या में मौजूद लोगों के बीच उन्होंने कहा कि भाजपा, सपा और बसपा मुसलमानों को सिर्फ इस्तेमाल कर रही हैं।

इन दलों के बीच मुसलमानों की हालत बैंड बजाने वालों जैसी हो गई है, जिसकी जरूरत दूल्हे को शाही कुर्सी पर बैठाने के बाद खत्म हो जाती है। कहा कि यदि अपनी सियासी अहमियत बनानी है तो अपने (एआईएमआईएम) लिए वोट करें।

ओवैसी ने कहा कि यूपी में ठाकुरों, ब्राह्मणों, यादवों, अनुसूचित जातियों का एक बड़ा नेता जरूर है, लेकिन मुसलमानों का कोई भी ऐसा नेता नहीं है, जो उनके की हक की बात करता हो। उन्होंने सीसामऊ विधायक इरफान सोलंकी और कैंट विधायक सोहिल अंसारी का नाम लिए बगैर कहा कि यहां के मुस्लिम विधायकों ने सीएए और एनआरसी के खिलाफ कभी भी आवाज नहीं उठाई।
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X