किडनेपर निकले कैंट के होटल से पकड़े गए दो युवक

किडनेपर निकले कैंट के होटल से पकड़े गए दो युवक Updated Wed, 28 Sep 2016 01:10 AM IST
छह लुटेरे पकड़े
छह लुटेरे पकड़े - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो
विज्ञापन
ख़बर सुनें
कैंट रेलवे स्टेशन के पास होटल अग्रवाल पैलेस एंड रेस्तरां से उठाए गए चार युवक आतंकी नहीं थे। इनमें से दो किडनेपर निकले और दो अपहृत। दोनों अपहृत को होटल में बंधक बनाकर रखा गया था। इन्हें छोड़ने के लिए 15-15 लाख फिरौती की डिमांड की गई थी। इसमें से लगभग नौ लाख मिल चुके थे। दिल्ली के रोहिणी थाना की क्राइम ब्रांच ने उन्हें गिरफ्तार कर उनसे दोनों अपहृत को मुक्त कराए।
विज्ञापन

बता दें, कैंट के इस होटल से रविवार सुबह चार बजे चार लोग उठाए गए थे। उन्हें गिरफ्तार करने के लिए आई टीम ने होटल में हथियार तान दिए गए थे। टीम होटल के सीसीटीवी की डीवीआर भी ले गई थी। इसके चलते खुफिया एजेंसियां भी टेंशन में आ गई थीं। पुलिस सूत्रों ने बताया कि अपहरण के आरोपियों में पश्चिमी बंगाल के दार्जिलिंग का सुनील कुमार थापा (34) और चेन्नई का मौहम्मद अली (32) शामिल हैं। बता दें, होटल से मिली दो आईडी में एक सुनील कुमार थापा की थी। इन्होंने दो लोगों को अपहरण कर यहां बंधक बना रखा था। अपहृतों में मेघालय के लालनसइंग (42) और  मिजोरम के सी. जोसांगलियाना उर्फ विलियम (36) शामिल हैं। इनमें आपस में रिश्ता भी है। विलियम चाचा है और लालनसइंग भतीजा। 

लालनसइंग की पत्नी डोरोथी और विलिम की पत्नी जेसिका ने शिलांग (मेघालय) में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। 24 सितंबर को दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा से मदद मांगी। सर्विलांस पर उनकी लोकेशन आगरा की ट्रेस हुई। इसके सहारे पुलिस होटल तक पहुंची और दोनों पकड़ कर अपहृत मुक्त करा लिए। फिरौती के रूप में लगभग नौ लाख रुपये उनके खाते में जमा कराए थे।

पुलिस अफसरों ने एनआईए तक को मिलाए फोन
आगरा। मंगलवार को आगरा पुलिस के अफसरों ने दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल, क्राइम ब्रांच, सीबीआई, एनआईए के अलावा यूपी एटीएस और एसटीएफ के आला अफसरों से संपर्क किया। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच से यह जानकारी मिली कि आगरा में दबिश रोहिणी की क्राइम ब्रांच ने दी थी। अपहरण के इस मामले की जांच रोहिणी थाना पुलिस कर रही है।

नशे के कारोबार से जुड़ा है मामला
पुलिस सूत्रों ने बताया कि लालनसइंग असम राइफल का पूर्व सेनाकर्मी है। उसकी मुलाकात सुनील कुमार थापा से हुई। दोनों में प्रतिबंधित नशीले पदार्थ के कारोबार पर बात हुई। इसमें विलियम भी जुड़ गया। सुनील ने दोनों को चैन्नई के गनी भाई और मीरा से मिलवाया। आशीष नाम के शख्स से 30 लाख का माल मंगाया गया। डिलीवरी मुरादाबाद में हुई । यहां माल चेक किया गया तो इसमें खाने-पीने का सामान मिला। इस पर गनी भाई ने लालनसइंग और विलियम को बंधक बना लिया। छोड़ने की एवज में 30 लाख मांगे।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00