Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Agra ›   locust swarm attack in mainpuri

मैनपुरी में टिड्डी दलों ने फिर बोला हमला, रातभर पीछे दौड़ते रहे कृषि विभाग के अधिकारी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, मैनपुरी Published by: मुकेश कुमार Updated Sat, 11 Jul 2020 04:19 PM IST

सार

  • टिड्डी दल की सूचना पर रातभर दौड़ते रहे कृषि विभाग के अधिकारी, एक दल को किया खात्म, दो दलों ने किया पलायन 
टिड्डियों का झुंड
टिड्डियों का झुंड - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

मैनपुरी जिले में शुक्रवार की रात टिड्डी दल ने तबाही मचाई। रात में ही सूचना पर कृषि विभाग के अधिकारी दौड़ते रहे। सतर्कता से जहां एक दल को रात में ही खत्म कर दिया गया तो वहीं दो दल शनिवार को सुबह कई क्षेत्रों में होते हुए सीमावर्ती जिलों में प्रवेश कर गए। हालांकि कृषि विभाग अलर्ट पर है। किसानों को भी आगाह किया है। 

विज्ञापन

 
शुक्रवार रात को नौ बजे फिरोजाबाद क्षेत्र से पांच सौ मीटर लंबे एक टिड्डी दल ने जिले में प्रवेश किया। कृषि विभाग को इसकी सूचना मिलते ही उप कृषि निदेशक डीवी सिंह और जिला कृषि अधिकारी डॉ. गगन दीप सिंह मौके पर पहुंच गए। 



रात तकरीबन 11 बजे से कृषि विभाग की टीम के साथ अधिकारियों ने घिरोर क्षेत्र में टिड्डी दल की तलाश शुरू की। लगभग डेढ़ घंटे की तलाश के बाद मधन गांव के पास खेतों में बैठा ये झुंड को मिल गया। इस दौरान किसान भी टीम के मदद के लिए साथ रहे। 

कीटनाशक का छिड़काव कराया गया

टीम के साथ आई दमकल की गाड़ी से क्लोरोपाइरीफोस दवा का स्प्रे कर इस झुंड को नष्ट कर दिया गया। इसके बाद टीम आसपास के गांव नगला भजन, नगला खेरिया, शाहजहांपुर आदि में रात दो बजे तक तलाश करती रही। कहीं भी टिड्डी न मिलने के बाद अधिकारी वापस लौट आए। 

शनिवार सुबह फिर अधिकारियों को दल की सूचना मिली। पता चला कि पांच-पांच सौ मीटर लंबे दो और दलों ने भी जिले में हमला किया है। एक दल बेवर और भोगांव क्षेत्र में सक्रिय था तो दूसरा दल किशनी और करहल क्षेत्र में। दिन होने के चलते ग्रामीण टिड्डियों को शोर करके उड़ाते रहे। 

एक दल जहां बिछवां, भोगांव, बेवर में होता हुआ दोपहर बाद फर्रुखाबाद की ओर निकल गया तो वहीं दूसरा दल दन्नाहार, किशनी, करहल, जागीर क्षेत्र में होता हुआ कन्नौज की ओर निकल गया। इससे कृषि विभाग ने राहत की सांस ली है। 

टिड्डी धान के लिए बड़ा खतरा 

जिले में बड़े पैमाने पर धान की खेती की जाती है। अब धान की रोपाई का काम भी शुरू हो गया है। ऐसे में अब अगर टिड्डी आती है तो फसलों को बड़ा नुकसान होगा। अब तक तो खाली खेत होने के चलते बहुत अधिक नुकसान नहीं हुआ। इसकी चिंता कृषि विभाग और किसानों को भी सता रही है। 

अंडों की भी तलाश जारी 

कृषि विभाग ने जहां टिड्डी का एक दल खत्म कर दिया तो वहीं दो दल जिले की सीमा से बाहर निकल गए। इसके बाद भी कृषि विभाग परेशान है, क्योंकि रात में दलों के आने से उनके अंडे देने की आशंका अधिक है। अगर टिड्डी दलों ने अंडे दिए हैं तो उन्हें नष्ट कराना बहुत जरूरी है।

जिला कृषि अधिकारी डॉ गगन दीप सिंह ने बताया कि एक टिड्डी दल को दवा का स्प्रे कर रात में ही  खत्म कर दिया गया था। दो दल जिले की सीमा से अलग-अलग दिशाओं में चले गए हैं। अगर कहीं भी टिड्डी की सूचना मिले तो तत्काल सूचित करें। 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00