बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
अपार धन की प्राप्ति हेतु कामिका एकादशी को कराएँ श्री लक्ष्मी-विष्णु जी का विष्णुसहस्त्रनाम-फ्री, रजिस्टर करें
Myjyotish

अपार धन की प्राप्ति हेतु कामिका एकादशी को कराएँ श्री लक्ष्मी-विष्णु जी का विष्णुसहस्त्रनाम-फ्री, रजिस्टर करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

आगरा में जलभराव से स्मारक को नुकसान: रामबाग में घुसा नाले का पानी, मुगलकालीन दीवार ढही

आगरा में मुगल बादशाह बाबर द्वारा बनवाए गए देश के पहले चारबाग शैली के मुगलिया बाग रामबाग में नाला उफनाने से गंदा पानी बगीचे में भर गया। जलभराव के कारण गुरुवार को स्मारक की मुगलकालीन ककैया ईंटों की दीवार ढह गई। 

यमुनापार के क्षेत्रों का गंदा पानी संरक्षित स्मारक की दीवार से सटे नाले के उफनाने के कारण यहां भर गया है, जिस कारण पर्यटक दुर्गंध से बेहाल हो गए। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने इस मामले में नेशनल हाईवे अथॉरिटी और नगर निगम से कार्रवाई की मांग की है।

संरक्षित स्मारक है रामबाग
समरकंद की चार बाग शैली में बने पहले बागीचे रामबाग की यह दुर्दशा इससे सटे नाले के कारण हुई है। बारिश में चोक पड़ा नाला स्मारक की दीवार के नजदीक उफना तो दीवार ढह गई और नाले का पानी अंदर भर गया। 
... और पढ़ें

आगरा: दो साल बाद मुस्लिम कर सकेंगे उमराह, ताजनगरी से हर साल जाते हैं पांच हजार लोग

हजयात्रा जहां ईद उल अजहा के महीने में होती है, वहीं ज्यादातर लोग रमजान के मुबारक महीने में उमराह करने सऊदी अरब पहुंचते हैं। आगरा के हिंदुस्तानी बिरादरी के अध्यक्ष डॉ. सिराज कुरैशी बताते हैं कि साल के 11 माह में उमराह कभी भी किया जा सकता है। सात बार उमराह करने पर हज का सवाब मिलता है। 

आगरा से हर साल करीब पांच हजार से ज्यादा लोग उमराह करने सऊदी अरब जाते हैं। अब करीब दो साल बाद उमराह पर जाने की इजाजत मिली है। इससे जो लोग हज से वंचित रह गए हैं, वह कम से कम उमराह कर सकेंगे। इसमें भी पाक मक्का- मदीना की जियारत की जाती है। 

भारतीय मुस्लिम विकास परिषद के समी आगाई बताते हैं कि उमराह की बुकिंग ज्यादातर दिल्ली के ट्रेवल एजेंट करते हैं। इसमें आठ से 15 दिन तक की धार्मिक यात्रा होती है। अब ताजनगरी में परिवार केसाथ उमराह करने का चलन बढ़ गया है। लोग अपने परिवार केसाथ धार्मिक यात्रा पर जाते हैं। 
... और पढ़ें

पारस अस्पताल प्रकरण: ऑक्सीजन बंद कर मेरी बहन की हत्या की... पीड़ित ने एसएसपी को भेजा प्रार्थनापत्र

आगरा के न्यू राजामंडी के मालवीय कुंज निवासी प्रदीप ग्रोवर ने श्री पारस अस्पताल प्रबंधन पर अपनी बहन मीना ग्रोवर की ऑक्सीजन बंद कर हत्या का आरोप लगाते हुए एसएसपी को कार्रवाई के लिए रजिस्टर्ड डाक से प्रार्थनापत्र भेजा है। प्रार्थनापत्र में कहा है कि बहन मीना ग्रोवर (62) को स्वास्थ्य खराब होने के कारण 21 अप्रैल को श्री पारस अस्पताल में भर्ती कराया था। डॉ. अरिन्जय जैन ने बहन को कोरोना संक्रमित बताया। अन्य जांच भी कराई गईं। 

इसके बाद मीना का इलाज शुरू हुआ। डॉक्टर ने बताया कि मीना के स्वास्थ्य में लाभ हो रहा है। 26 अप्रैल को सुबह तकरीबन चार बजे कर्मचारी का फोन आया। उसने कहा कि अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी हो गई है। इस वजह से आपको अस्पताल में ऑक्सीजन की व्यवस्था करनी होगी। इस पर अस्पताल प्रबंधन को ऑक्सीजन उपलब्ध करा दी गई। कुछ घंटों पर बाद ही स्टाफ ने बहन मीना की मौत की जानकारी दी।

यह आरोप लगाया
उनका आरोप है कि सात जून को वायरल वीडियो से पता चला कि अस्पताल में 26 अप्रैल की पांच मिनट के लिए ऑक्सीजन की सप्लाई बंद कर दी गई थी। इससे मरीजों की मृत्यु हो गई। प्रदीप ग्रोवर ने आरोप लगाया कि डॉक्टर ने जानबूझकर मारने के उद्देश्य से पांच मिनट के लिए ऑक्सीजन बंद कर दी। ऑक्सीजन न मिल पाने के कारण उनकी बहन मीना ग्रोवर की मृत्यु हो गई। प्रदीप ग्रोवर ने डॉक्टर के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की गुहार लगाई है।

पीड़ित भटकने को मजबूर 
युवा अधिवक्ता संघ के मंडल अध्यक्ष नितिन वर्मा ने बताया कि पारस अस्पताल के मामले में कई और पीड़ितों ने एसएसपी ऑफिस में प्रार्थनापत्र दिया है। मगर, किसी का मुकदमा दर्ज नहीं किया गया है। पीड़ित लगातार भटकने को मजबूर हैं। शहर में आए दिन श्री पारस अस्पताल के खिलाफ प्रदर्शन भी हो रहे हैं। 
... और पढ़ें

ये कैसी स्मार्ट सिटी: ताजनगरी की सड़कों से बारिश का पानी उतरा तो सामने आई यह हकीकत

आगरा में रिमझिम बारिश के बाद बुधवार की नदियां बन गईं शहर की सड़कों से जब गुरुवार को पानी उतरा तो इन पर गड्ढे उभर आए। जिन सड़कों पर सीवर और पानी की लाइन बिछाई गई थी, वह चार फीट तक धंस गईं और गहरे चौड़े गड्ढे हो गए। लोहामंडी-बोदला रोड, पश्चिमपुरी, मारुति एस्टेट-बोदला रोड, कमला नगर, दयालबाग, सिकंदरा-बोदला रोड पर बड़े-बड़े गड्ढे उभर आए, जिनसे बचने के लिए लोग दिनभर जद्दोजहद करते रहे। गुरुवार को न केवल गड्ढों, बल्कि पानी उतरने के बाद नालों की सिल्ट के कारण सड़कों पर कीचड़ और मिट्टी से दलदल हो गया, जिस वजह से शहर के चार लाख से ज्यादा लोग परेशान रहे। 

इन जगहों पर गड्ढों में समाई सड़क
बारिश के बाद बोदला रोड, हलवाई की बगीची, मारुति एस्टेट, हरीश नगर के सामने 80 फुट रोड, जेल रोड, कमला नगर, गढ़ी भदौरिया और मदिया कटरा रोड पर कैलाशपुरी मोड़ तक गड्ढों ने वाहन सवारों को परेशान किया। बोदला रोड पर मारुति एस्टेट चौराहे से बोदला चौराहे के बीच 15 जगहों पर गहरे गड्ढे हो गए। शांति पुरम कॉलोनी मोड़ के सामने गड्ढे के कारण इस रोड पर एक ही लेन पर दोनों तरफ का ट्रैफिक निकलता रहा, वहीं मारुति एस्टेट से अलबतिया रोड पर जाने के लिए जैन मंदिर रोड पर 400 मीटर तक सड़क गड्ढों में समा गई। 
... और पढ़ें
आगरा की सड़कों का हाल आगरा की सड़कों का हाल

श्री पारस अस्पताल दमघोंटू मॉकड्रिल: आईएमए ने भी माना, 26 अप्रैल को हुई 10 मरीजों की मौत

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) की जांच समिति ने 26 अप्रैल को अस्पताल में 10 मरीजों की मौत मानते हुए रिपोर्ट तैयार कर रही है। समिति श्री पारस अस्पताल में दमघोंटू मॉकड्रिल की सच्चाई पता नहीं कर पाई। समिति का तर्क है कि प्रशासन से मरीजों की बीएचटी, सीसीटीवी फुटेज मिलते तो इसकी हकीकत सामने आती। 
आईएमए की जांच समिति के सदस्यों ने बताया कि डॉ. अरिन्जय जैन की ओर से उपलब्ध कराई गई सूची के 91 मरीजों और उनके परिजनों से बात की। 10 मरीजों के परिजनों ने मृत्यु प्रमाणपत्र उपलब्ध कराए हैं, जिसमें मौत का स्थान श्री पारस अस्पताल दर्ज है। बाकी के रामबाग के एक मरीज ने 26 को ही अस्पताल में मौत होने की कही लेकिन उसका अस्पताल स्टाफ ने मृत्यु प्रमाणपत्र नहीं बनाया। इसके चलते उसकी मौत अस्पताल में नहीं मानी है। सभी 10 मृतकों के नाम, पते और मृत्यु प्रमाणपत्र के साथ संलग्न कर रिपोर्ट बनाई जा रही है। 
समिति के सदस्यों का कहना है कि 26 अप्रैल को दमघोंटू मॉकड्रिल की सच्चाई तभी सामने आ पाती, जब प्रशासन 26 और 27 अप्रैल की सीसीटीवी फुटेज और कंप्यूटर डाटा से मरीजों की बीएचटी (बेड हेड टिकट) उपलब्ध कराती। इससे 96 और 91 मरीजों में कौन सी संख्या सही है, यह भी पता चल जाता। लेकिन प्रशासन ने इनमें से कोई भी साक्ष्य उपलब्ध नहीं कराया। ऐसे में मौजूदा साक्ष्यों पर ही रिपोर्ट बनाई जा रही है। 
... और पढ़ें

आगरा में मां-बच्चों की हत्या का मामला: आरोपी अंशुल पर 25 हजार का इनाम, तलाश में जुटी पुलिस

आगरा के कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला कूंचा साधूराम में रेखा राठौर और उसके तीन बच्चों की हत्या के दो आरोपी संतोष राठौर और वीरू जेल भेजे जा चुके हैं। तीसरा हत्यारोपी अंशुल राठौर अब तक फरार है। उसकी गिरफ्तारी के लिए आसपास के जिलों में पुलिस टीम दबिश देने में लगी हैं। एसएसपी मुनिराज जी. ने फरार आरोपी अंशुल पर 25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया है।

संबंधित खबर- 
आगरा में कलियुग के 'कंस' की क्रूरता: जिसकी कलाई पर बांधी राखी, उसने ही काटे मां और तीन बच्चों के गले

हत्याकांड को अंजाम 21 जुलाई को दिया गया था। रेखा, उनके बेटे वंश, पारस और बेटी माही की हत्या की गई थी। 22 जुलाई की सुबह चारों के शव घर में मिले थे। 27 जुलाई को पुलिस ने हत्याकांड का खुलासा किया। रेखा के रिश्ते के भाई संतोष राठौर और उसके दोस्त वीरू को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। तीनों आरोपी हत्याकांड के बाद साथ ही चित्रकूट गए थे। 
... और पढ़ें

बारिश ने बदली आगरा शहर की सूरत: 24 घंटे बाद भी भरा है पानी, खोखले निकले मेयर के दावे, देखें तस्वीरें

पूरे शहर की सड़कें नदियों में बदल गईं। शहर के मोहल्ले तलैया बन गए, लेकिन शहर के मेयर का दावा था कि पानी जितनी तेजी से भरा, उतनी तेजी से निकल भी गया। जबकि हकीकत में शहर की 30 से ज्यादा जगहें ऐसी रहीं, जहां सड़कों पर पानी 24 घंटे बाद भी भरा रहा। गलियों में जलभराव के कारण लोग घरों से निकलने की स्थिति में नहीं हैं। नाले-नालियों का गंदा पानी सड़कों पर भरा हुआ है, लेकिन मेयर की तरह अफसरों के दावे भी तुरंत पानी निकासी के हैं। अमर उजाला ने ऐसी कुछ जगहों को देखा, जहां बारिश खत्म होने के 24 घंटे बाद तब सड़कों, गलियों में लबालब पानी भरा है। शहर में अवैध कॉलोनियों नहीं, बल्कि आगरा विकास प्राधिकरण द्वारा बसाए गए ट्रांसपोर्ट नगर की सड़कें पानी से 24 घंटे बाद भी भरी हुई मिलीं। 
... और पढ़ें

मैनपुरी: आकाशीय बिजली गिरने से व्यक्ति की मौत, बारिश से बचने के लिए लिया था पेड़ का सहारा

बारिश के बाद भरा पानी

फिरोजाबाद: युवती की गला रेतकर हत्या से सनसनी, शव प्लॉट में फेंका, जांच में जुटी

मथुरा: एडीजी सुरक्षा ने किया श्रीकृष्ण जन्मभूमि का निरीक्षण

ताजनगरी में राहत: आगरा में नहीं बढ़े दाम, जानिए क्या हैं आज पेट्रोल-डीजल की कीमत

आगरा में पेट्रोल के दामों में एक सप्ताह पहले कुछ पैसे का इजाफा हुआ था। लेकिन पिछले कुछ दिनों से पेट्रोल-डीजल के दाम स्थिर हैं। शुक्रवार को पेट्रोल की कीमत 98.57 रुपये प्रति और डीजल की कीमत 89.91 रुपये प्रति लीटर रही। इससे पहले सोमवार को पेट्रोल की कीमत 98.28 रुपये प्रति लीटर थी।

इन राज्यों में 100 रुपये के पार पेट्रोल का भाव
मध्यप्रदेश, राजस्थान, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, ओडिशा, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में पेट्रोल का भाव 100 रुपये पार हो चुका है। इसके अलावा महानगरों में मुंबई, हैदराबाद और बंगलूरू में पेट्रोल पहले ही 100 रुपये प्रति लीटर के आंकड़े को पार कर चुका है।    


जानिए आपके शहर में कितना है दाम
पेट्रोल-डीजल की कीमत आप एसएमएस के जरिए भी जान सकते हैं। इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार, आपको RSP और अपने शहर का कोड लिखकर 9224992249 नंबर पर भेजना होगा। हर शहर का कोड अलग-अलग है, जो आपको आईओसीएल की वेबसाइट से मिल जाएगा।

यहां चेक करें-
https://iocl.com/Products/PetrolDieselPrices.aspx
बता दें कि प्रतिदिन सुबह छह बजे पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बदलाव होता है। सुबह छह बजे से ही नई दरें लागू हो जाती हैं। पेट्रोल व डीजल के दाम में एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन और अन्य चीजें जोड़ने के बाद इसका दाम लगभग दोगुना हो जाता है।
इन्हीं मानकों के आधार पर पर पेट्रोल रेट और डीजल रेट रोज तय करने का काम तेल कंपनियां करती हैं। डीलर पेट्रोल पंप चलाने वाले लोग हैं। वे खुद को खुदरा कीमतों पर उपभोक्ताओं के अंत में करों और अपने स्वयं के मार्जिन जोड़ने के बाद पेट्रोल बेचते हैं। पेट्रोल रेट और डीजल रेट में यह कॉस्ट भी जुड़ती है।
... और पढ़ें

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण: एटा, मैनपुरी सहित पांच जिलों का नया सबसर्किल बना, जानिए क्या है बदलाव का कारण

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के सबसे पुराने कार्यालयों में से एक आगरा मंडल के 5 जिलों को मिलाकर नया सबसर्किल एटा बनाया गया है, जिसका क्षेत्र एटा, मैनपुरी, फिरोजाबाद, कासगंज और इटावा तक फैला होगा। इस सबसर्किल में 20 स्मारकों को शामिल किया गया है, जिनका संरक्षण और प्रशासनिक नियंत्रण बेहतर करने के लिए बदलाव किया गया है। 
ताजमहल, आगरा किला, सिकंदरा, एत्माद्दौला, फतेहपुर सीकरी सबसर्किल के अलावा आगरा सर्किल में नया सबसर्किल एटा बनाया गया है। इसकी जिम्मेदारी संरक्षण अंकित नामदेव को दी गई है। वह इससे पहले ताजमहल और अकबर के मकबरे में तैनात रहे हैं। 20 स्मारक उनके क्षेत्र में रहेंगे। एटा सबसर्किल का नया कार्यालय भी बनाया जाना है, जिसके लिए एटा प्रशासन से वार्ता जारी है। 

ये महत्वपूर्ण स्मारक होंगे सबसर्किल का हिस्सा
एटा का अतरंजीखेड़ा का टीला, खेड़ा वसुंधरा, बिलसर टीला, कर्नल गार्डनर का मकबरा, मलावन का पुराना मंदिर, नूह के दो टीले, सकीट किला, पुरानी मस्जिद, सोरों का सीताराम मंदिर, फिरोजाबाद में रापड़ी के चारों स्मारक फरीदुद्दीन का मकबरा, नसीरुद्दीन का मकबरा, निजामुद्दीन का मकबरा, ईदगाह शामिल है। 
 
... और पढ़ें

रुझान: शिखर छूने के लिए खेलों में करियर बढ़ा रहीं 'ताजनगरी की बेटियां', स्टेडियम में बढ़ी महिला खिलाड़ियों की संख्या

ताजनगरी की युवतियां का रुझान खेलों की ओर बढ़ा हैं। यही कारण है कि पिछले कुछ वर्षों में बैडमिंटन, एथलेटिक्स, जिमनास्टिक, बास्केटबाल, ताइक्वांडो, क्रिकेट, कबड्डी, आदि खेलों में इनकी संख्या तेजी से बढ़ रही है। एकलव्य स्पोर्ट्स स्टेडियम में तीन साल में महिला खिलाड़ियों की संख्या 410 हो गई है। 
2018-19 सत्र में स्टेडियम में 16 खेलों में महिला खिलाड़ियों की संख्या 300 के आसपास थी। यह संख्या 2019-20 में बढ़कर लगभग 410 हो गई। स्टेडियम के उप क्रीड़ा अधिकारी राम मिलन का कहना है कि कोरोना के कारण खेल गतिविधियां बंद रहीं। इसलिए सत्र 2020-21 में नए पंजीकरण नहीं हो सके। अनलॉक के बाद अभ्यास शुरू होने के साथ ही एक बार फिर महिला खिलाड़ी मैदान में पसीना बहा रही हैं। एकलव्य स्पोर्ट्स स्टेडियम के आरएसओ सुनील चंद्र जोशी का कहना है कि युवतियों का खेलों के प्रति तेजी से रुझान बढ़ रहा है। यही कारण है कि स्टेडियम में जिमनास्टिक, टीटी, बैडमिंटन में महिला खिलाड़ियों की संख्या में वृद्धि हो रही है। 

प्रेरणा बन रहीं अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी   
क्रिकेटर दीप्ती और पूनम से प्रेरित होकर युवतियां मैदान में पहुंच रही हैं। यहां सुबह और शाम दो-दो घंटे अभ्यास कर रही हैं। बैडमिंटन खिलाड़ी राधा ठाकुर कहती हैं कि वह साइना नेहवाल से काफी प्रभावित हैं। उन्हें देखकर ही वह बैडमिंटन में करियर बनाना चाहती है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us