लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Prayagraj News ›   necessary to inform before issuing order to take possession of property under SARFAESI Act

High Court : सरफेसी एक्ट में संपत्ति पर कब्जा लेने का आदेश जारी करने से पहले सूचित करना जरूरी नहीं

अमर उजाला नेटवर्क, प्रयागराज Published by: विनोद सिंह Updated Wed, 30 Nov 2022 10:36 PM IST
सार

याचिकाओं में गाजियाबाद व वाराणसी के  एडीएम वित्त के धारा 14 के अंतर्गत पारित आदेश को चुनौती दी गई थी। उधार लेने वाले याचियों का कहना था कि उन्हें सुनवाई का मौका दिए संपत्ति पर बलपूर्वक कब्जा लेने का आदेश जारी किया गया है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट
इलाहाबाद हाईकोर्ट - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन

विस्तार

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा है कि सरफेसी कानून की धारा 14 के अंतर्गत कार्यवाही की सूचना उधार लेने वाले को देना जरूरी नहीं है। किंतु आदेश की प्रति उसे दी जानी चाहिए। कोर्ट ने कहा सिक्योर क्रेडीटर के हितों की सुरक्षा के लिए उधार लेने वाले को उसे जबरन बेदखल कर कब्जा लेने की ऐसी सूचना दी जाए, ताकि वह वैकल्पिक व्यवस्था कर स्वयं ही अपना सामान हटा सके।



कोर्ट ने यह भी कहा जिलाधिकारी द्वारा 60 दिन के भीतर धारा 14 की कार्यवाही न करने से वह अधिकार हीन नहीं हो जाएगा। कार्यवाही व्यर्थ नहीं होगी। कोर्ट ने बेदखल कर संपत्ति पर कब्जा लेने का आदेश देने से पहले सुनवाई का अवसर न देकर नैसर्गिक न्याय का हनन करने की दलील नहीं मानी और कहा सरफेसी कानून उधार देने वालों के हितों को सुरक्षित करने के लिए बनाया गया है।



धारा 14 में संपत्ति अपने कब्जे में लेकर उधार देने वाले को सौंपने की जिलाधिकारी की कार्यवाही आदेश के पहले सुनवाई का अधिकार उधार लेने वाले को नहीं है। कोर्ट ने धारा 14 सरफेसी कानून की वैधता की चुनौती याचिकाओं को खारिज कर दिया है। यह आदेश न्यायमूर्ति सुनीता अग्रवाल तथा न्यायमूर्ति वीसी दीक्षित की खंडपीठ ने शिप्रा होटल लिमिटेड व कई अन्य की याचिकाओं को एक साथ तय करते हुए दिया है।


याचिकाओं में गाजियाबाद व वाराणसी के  एडीएम वित्त के धारा 14 के अंतर्गत पारित आदेश को चुनौती दी गई थी। उधार लेने वाले याचियों का कहना था कि उन्हें सुनवाई का मौका दिए संपत्ति पर बलपूर्वक कब्जा लेने का आदेश जारी किया गया है। जिससे उनके नैसर्गिक अधिकार का उल्लघंन किया गया है। कोर्ट ने इसे सही नहीं माना और कहा आदेश देने से पहले सूचना देना जरूरी नहीं है, लेकिन पारित आदेश की सूचना पर्याप्त समय के साथ देना जरूरी है, ताकि वे अपना सामान हटा सके और संपत्ति का कब्जा लेकर उधार देने वालों को सौंपा जा सके।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00