आखिरी सोमवार पर छलका आस्था -भक्ति और विश्वास का संगम

अमर उजाला नेटवर्क, प्रयागराज Published by: अमर उजाला लोकल ब्यूरो Updated Tue, 04 Aug 2020 02:48 AM IST
prayagraj news
prayagraj news - फोटो : prayagraj
विज्ञापन
ख़बर सुनें
सावन के पांचवें और आखिरी सोमवार पर संगम से लेकर शहर के शिवालयों तक देवाधिदेव महादेव की महिमा का बखान किया गया। त्रिवेणी संगम पर पुण्य की डुबकी केसाथ ही रेती पर कोरोना से मुक्ति और विश्व शांति के लिए अनुष्ठान किए गए। तटों पर दीपदान के साथ ही अन्न, वस्त्र दान की होड़ मची रही।
विज्ञापन


उधर, शिवालयों में पूजन, जलाभिषेक और आरती कर भक्तों ने बाबा से लोक मंगल की कामना की। कोरोना संक्रमण की वजह से पुलिस ने संगम जाने वाले मार्गों पर सुबह ही बैरिकेडिंग कर दी। बावजूद इसके बड़ी संख्या में लोग त्रिवेणी केतट पर पहुंचे और आखिरी सोमवार पर पुण्य की डुबकी लगाई। महिलाएं स्नान के साथ ही जगह-जगह हल्दी-चंदन केटीके लगाकर अर्घ्य देती रहीं। कोई रेती पर शिव की प्रतिमाएं बना रहा था , तो कोई रामलला के निर्विघ्न भूमि पूजन के लिए अनुष्ठान कर रहा था।

prayagraj news
prayagraj news - फोटो : prayagraj
दशाश्वमेध घाट पर सुबह से ही स्नानार्थियों की भीड़ लगने लगी, लेकिन एसडीआरएफ और पुलिस केजवान दूरी बनाकर लोगों को पूजा-अनुष्ठान की सलाह देते रहे। सरस्वती घाट पर भी डुबकी लगती रही। यहां यमुना तट पर स्थित मनकामेश्वर महादेव मंदिर में सुबह सात बजे से ही भक्तों की भीड़ लग गई। भीड़ को देखते हुए पुलिस केजवानों ने दूरी बनाकर लाइन लगवा दी।

prayagraj news
prayagraj news - फोटो : prayagraj
थर्मल स्क्रीनिंग के बाद बारी-बारी से श्रद्धालु मंदिर में प्रवेश करते रहे। भक्तों ने दूरी बनाकर बाबा का दर्शन पूजन किया। पुजारी श्रीधरानंद ने बताया कि आखिरी सोमवार होने की वजह से श्रद्धालुओं में दिन भर उत्साह बना रहा। इस दिन बाबा का भांग से शृंगार किया गया। इसी तरह दशाश्वमेध घाट स्थित दशाश्वमेधेश्वर महादेव मंदिर में भी दिन भर बेलपत्र, धतूरा,मदार और कनैल के फूलों से बाबा का पूजन-अर्चन होता रहा।

prayagraj news
prayagraj news - फोटो : prayagraj
अरैल स्थित सोमेश्वर महादेव में रंग-बिरंगे फूलों से झांकी सजाई गई। शाम को पुष्प शृंगार के बाद पुजारी राजेंद्र पुरी और सोनू पुरी महाराज ने आरती उतारी। दारागंज में गंगा तट पर स्थित नागवासुकि मंदिर व बालसन चौराहा स्थित भरद्वाजेश्वर महादेव मंदिर, पड़िला महादेव व तक्षक तीर्थ में श्रद्धालुओं ने हाजिरी लगाई।

संगम पर तीर्थपुरोहितों की चौकियों पर सोमवार को श्रद्धालुओं ने स्नान के साथ ही अयोध्या में रामलला के निर्विघ्न भूमि पूजन के लिए अनुष्ठान किए। जगह-जगह अनुष्ठान होते रहे। भक्तों ने संगम की मिट्टी और गंगा जल से अयोध्या में रामलला के जल्द मंदिर निर्माण के लिए पूजा की। 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00