लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Bahraich News ›   bahraich

Bahraich News: सिजेरियन प्रसव के लिए अब सिर्फ पांच सीएचसी का सहारा

Lucknow Bureau लखनऊ ब्यूरो
Updated Tue, 29 Nov 2022 11:33 PM IST
bahraich
विज्ञापन
बहराइच। आयुष्मान कार्ड के माध्यम से सिजेरियन प्रसव की सुविधा पा रही गर्भवती महिलाओं को सरकार ने करारा झटका दिया है। अब इसका भुगतान कार्ड से नहीं होगा। ऐसे में सबसे ज्यादा दिक्कत निजी अस्पतालों में सिजेरियन प्रसव कराने में आएगी क्योंकि यहां भारीभरकम खर्च आता है। ऐसे में खर्च वहन कर सकने में असमर्थ लोगों के लिए अब सरकारी अस्पताल ही सहारा हैं। मेडिकल कॉलेज में इसकी सुविधा जरूर है, लेकिन सबसे ज्यादा दिक्कत ग्रामीण क्षेत्रों में होगी। दअरसल, 14 सीएचसी में से सिर्फ पांच में ही सिजेरियन प्रसव की सुविधा है।

जिले में आठ निजी अस्पतालों में आयुष्मान कार्ड के माध्यम से लोगों का इलाज किया जा रहा है। इनमें से पांच अस्पतालों में सिजेरियन प्रसव की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। इन निजी अस्पतालों में हर दिन 30 से 35 सिजेरियन प्रसव आयुष्मान कार्ड के माध्यम से किए जा रहे थे। अब आयुष्मान कार्ड से सिजेरियन प्रसव का भुगतान बंद कर दिया गया है। जिले में आयुष्मान कार्ड धारकों की संख्या चार लाख 65 हजार है। इनमें से लगभग दो लाख महिलाएं आयुष्मान कार्ड धारक हैं।

निजी अस्पतालों में सिजेरियन का खर्च 30 से 35 हजार रुपये के बीच आता है। इसमें ऑपरेशन शुल्क, दवाओं का खर्च, रूम चार्ज व चिकित्सक का शुल्क शामिल है। हालांकि, नर्सिंग होम के स्तर के हिसाब से यह शुल्क दस हजार रुपये तक बढ़ भी सकता है।
जिला मुख्यालय पर सिजेरियन की सुविधा मेडिकल कॉलेज में उपलब्ध है। यहां सभी सुविधाएं लगभग निशुल्क उपलब्ध कराई जाती हैं। वहीं, ग्रामीण क्षेत्र में हालात ज्यादा अच्छे नहीं हैं। जिले में संचालित 14 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में से अब तक मात्र कैसरगंज, मोतीपुर, पयागपुर, नानपारा व महसी में ही सिजेरियन की सुविधा उपलब्ध है। जनपद के अन्य ब्लॉकों के आयुष्मान कार्ड धारक अब भी निजी अस्पतालों पर ही निर्भर हैं। बड़ी रकम खर्च कर सिजेरियन की सुविधा ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को काफी परेशान करेगी।
सिजेरियन प्रसव के लिए मेडिकल कॉलेज व पांच सीएचसी केंद्रों पर सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं। ग्रामीण क्षेत्र में निवास करने वाली किसी भी गर्भवती को सिजेरियन की आवश्यकता पड़ने पर पास के केंद्र पर पहुंचाया जा सकता है। मेडिकल कॉलेज भी लाया जा सकता है।
- डॉ. एसके सिंह, सीएमओ।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00