तेजी से घट रहा गंगा का जलस्तर

Varanasi Bureau वाराणसी ब्यूरो
Updated Tue, 24 Sep 2019 11:15 PM IST
ganga river flood
विज्ञापन
ख़बर सुनें
सीतामढ़ी। गंगा के जलस्तर में लगातार घटाव हो रहा है। जलस्तर में कमी से तटीय लोगों ने राहत की सांस ली है। बाढ़ का पानी कम हो जाने से प्रभावित क्षेत्रों के लोगों की मुश्किलें कम होने लगी हैं, लेकिन रास्तों और खेतों पर जमे पानी से लोग अब भी परेशान हैं।
विज्ञापन

गंगा के जलस्तर में लगभग डेढ़ मीटर की कमी हो चुकी है। साथ ही जलस्तर में दो सेंटीमीटर प्रति घंटे की कमी दर्ज की जा रही है। इस वर्ष गंगा का जलस्तर 80.470 मीटर तक पहुंच गया था। इससे तटीय क्षेत्रों के कई बस्तियों में बाढ़ का पानी घुस गया था, जिससे गंगा किनारे के लोगों की मुश्किलें बढ़ती जा रही थीं। बस्तियों में बाढ़ का पानी जाने से सामान्य जन जीवन पर प्रभाव पड़ने लगा था। इटहरा और कलिक मवैया के दो परिवारों के आशियाने में पानी भर गया था, जिससे दोनो परिवारों को सुरक्षित स्थानों पर शरण लेनी पड़ी। मंगलवार को दोपहर दो बजे गंगा का जलस्तर 78.950 मीटर पर आ गया था। सीतामढ़ी के गंगा घाट पर पानी अभी भी हिलोरे मार रहा है। उधर पक्के घाट से सटे उड़िया बाबा आश्रम के पास निर्माणाधीन संस्कृत विद्यालय का दक्षिणी और उत्तरी हिस्सा पानी में अभी भी डूबा हुआ है। छेछुआ और भुर्रा में कटान अभी भी जारी है। गंगा के बाढ़ के साथ जलीय जंतु भी गंगा घाटों पर देखे जा रहे हैं।

गंगा में दिखा घड़ियाल, लोग सहमे
सीतामढ़ी/कौलापुर। गंगा की बाढ़ में खतरनाक जलीय जंतु भी दिखने लगे हैं। मंगलवार को बारीपुर में गंगा घाट पर घड़ियाल देखा गया। जानकारी मिलने के बाद घाट पर लोगों की भीड़ जमा हो गई। सुबह कुछ नाविक मछली पकड़ने गंगा में गए थे। जैसे ही नाव से वह आगे बढ़ने लगे तभी नाविकों को अहसास हुआ कि पानी में कुछ हलचल हो रही है। जब नाव को रोककर उन्होंने ध्यान से देखा तो सबके होश उड़ गए। नाव से कुछ ही दूरी पर एक विशालकाय घड़ियाल मौजूद था। आनन फानन में आसपास के अन्य नाविकों को बुलाया गया। लोगों ने इस घड़ियाल को भगाने का प्रयास किया, लेकिन उसके बाद वह बिलकुल गंगा के किनारे आकर रुक गया और काफी समय तक वहीं रहा। गौरतलब है कि बारीपुर गांव में गंगा के किनारे बड़ी संख्या ग्रामीण रहते हैं। ऐसे में इस विशालकाय घड़ियाल की दस्तक से लोग दहशत में हैं। ग्रामीणों का कहना है कि आबादी के इतने नजदीक घड़ियाल का होना लोगों के लिए मुसीबत बन सकता है। जबकि वन महकमा इससे बेखबर था।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00