लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Budaun News ›   jail

Budaun News: जिला जेल से पचास महिला-पुरुष कैदी बरेली जेल ट्रांसफर

Bareily Bureau बरेली ब्यूरो
Updated Mon, 05 Dec 2022 05:30 AM IST
लि कारागार बदायूं।  संवाद
लि कारागार बदायूं। संवाद - फोटो : BADAUN
विज्ञापन
संवाद न्यूज एजेंसी

बदायूं। बदायूं जेल से पचास कैदियों को बरेली की दोनों जेलों में शिफ्ट किया गया है। इसकी कई दिनों से तैयारियां चल रहीं थीं। इनमें 27 पुरुष कैदियों को केंद्रीय कारागार प्रथम और 23 महिला कैदियों को केंद्रीय कारागार द्वितीय में शिफ्ट किया गया है। इससे सजायाफ्ता कैदियों की संख्या जरूर कम हुई है लेकिन विचाराधीन कैदियों की संख्या बढ़ने से जेल के भार पर असर नहीं पड़ा है।
जेल में 529 कैदियों/बंदियों को रखने की क्षमता है। इस समय1438 कैदी व बंदी जेल में हैं। यह क्षमता का करीब तीन गुना है। यह क्रम कई वर्षों से चला आ रहा है लेकिन इन बंदियों/कैदियों की संख्या कम नहीं हुई। जेल प्रशासन भी लगातार सजायाफ्ता कैदियों को यहां से दूसरी जेलों में शिफ्ट करता आ रहा है। छह माह पहले करीब डेढ़ सौ कैदियों को दूसरे जिलों की जेलों में ट्रांसफर किया गया था। उस दौरान जेल में करीब 14 सौ बंदी/कैदी थे। तब से जेल से दो बार कैदियों को शिफ्ट किया जा चुका है। हाल ही में 27 पुरुष कैदियों को बरेली की केंद्रीय कारागार प्रथम में शिफ्ट किया। उसी दौरान 23 महिला कैदियों को बरेली की केंद्रीय कारागार द्वितीय में ट्रांसफर किया गया। अभी भी जेल में करीब 200 सजायाफ्ता कैदी हैं। इनमें 60 कैदी ऐसे हैं, जिन्हें आजीवन कारावास की सजा हो चुकी है। जेल प्रशासन ने इनकी भी सूची बनाना शुरू कर दी है। जल्द ही इन्हें भी दूसरी जेल में ट्रांसफर कर दिया जाएगा।

------
नई जेल बनने से मिलेगी राहत
जिले में नई जेल बनाने का प्रोजेक्ट अधूरा पड़ा है। इसके लिए काफी जमीन खरीदी जा चुकी है लेकिन दो बैनामों का मामला न्यायालय में विचाराधीन हैं। इससे नई जेल निर्माण पर ब्रेक लगा हुआ है। इन मामलों के सुलझने पर नई जेल का निर्माण शुरू होगा। तभी जेल प्रशासन को कुछ राहत मिलेगी।
------
इस समय जेल में क्षमता से तीन गुना ज्यादा बंदी व कैदी हैं। अभी पचास सजायाफ्ता कैदियों को बरेली की दोनों जेलों में ट्रांसफर किया गया है। अभी नई जेल का निर्माण नहीं हुआ है। इस वजह से दिक्कतें आती हैं। नई जेल बनने के बाद समस्या खत्म होगी।
- रणंजय सिंह, जेलर
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00