अपराजिता: 16 मिनट और 2.40 किमी..दौड़ ये बाधा पार करने निकल पड़ीं वीरांगनाएं

शैली भल्ला, अमर उजाला, कानपुर Published by: प्रभापुंज मिश्रा Updated Sun, 13 Dec 2020 01:10 PM IST
बेटी के साथ दिव्या
बेटी के साथ दिव्या - फोटो : amar ujala
विज्ञापन
ख़बर सुनें
दुखोें का पहाड़ सिर पर है.. तो क्या, तुम तो अपराजिता हो। जिम्मेदारियों का बोझ कंधों पर है... तो क्या, तुम तो अपराजिता हो। तुमने तो बड़े से बड़ा दुख हंसते-हंसते सहा है, तुम्हारी इस हिम्मत से तो हारा जहां है। ऐसी ही हिम्मत दिखाई है बिकरू कांड में शहीद हुए पुलिसकर्मियों की पत्नियों ने। दुख की घड़ी में भी इन विधवाओं ने अपने पति के अधूरे सपनों को पूरा करने की ठानी है।
विज्ञापन


शहीद एसआई अनूप कुमार सिंह की पत्नी नीतू सिंह, आरक्षी सुल्तान सिंह की पत्नी उर्मिला सिंह और राहुल कुमार की पत्नी दिव्या ने एसआई पद के लिए आवेदन किया है। हालांकि इनके सामने भी आम अभ्यर्थियों की तरह लिखित और शारीरिक परीक्षा पास करने की चुनौती है लेकिन इन्होंने हिम्मत नहीं हारी है। छोटे-छोटे बच्चों को घर पर छोड़कर सवेरे-सवेरे निकल पड़ती हैं दौड़ लगाने ताकि शारीरिक परीक्षा की बाधा को पार कर सकें।


 

बेटे के साथ उर्मिला सिंह
बेटे के साथ उर्मिला सिंह - फोटो : amar ujala
जो सपने बच्चों के लिए पति ने देखे उन्हें मैं पूरा करूंगी : नीतू सिंह
हर दिन उन्होंने बस यही सपना देखा, बेटी को डॉक्टर बनाऊंगा और बेटे को क्रिकेटर बनाऊंगा। बस अब उनके सपने को पूरा करना ही मकसद है। उसके लिए मुझे चाहे कितनी भी बाधाओं से क्यों न गुजरना पड़े। ये कहते हुए शहीद एसआई अनूप की पत्नी नीतू सिंह का गला भर गया। अपनी ससुराल इलाहाबाद में रह रहीं नीतू कहती हैं इस घटना के बाद से सब कुछ बिखर गया है।

आंखों में आंसू होते हैं, लेकिन बच्चों के लिए सामान्य रहती हूं। बेटा पांच साल का और बेटी 10 साल की है। बेटी तो समझती है, लेकिन बेटा अक्सर कहता है कि पापा नहीं आए। बेटे के सवाल झकझोर देते हैं। ऐसे में फिजिकल टेस्ट पार करना बेहद मुश्किल है, लेकिन अगर सरकार की यही मंशा है तो नौकरी पाने, बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए खुद को तैयार करूंगी। 

संघर्षों का दौर शुरू हो गया, खुद को तैयार कर रही हूं:  उर्मिला सिंह
आरक्षी सुल्तान सिंह की पत्नी उर्मिला कहती हैं कि जीवन में संघर्ष का दौर शुरू हो गया है, लेकिन अब हर संघर्ष के लिए तैयार हूं। खुद तो तैयार हो रही हूं और अपनी पांच साल की बेटी को भी धीरे-धीरे इसके लिए तैयार कर रही हूं। फिजिकल टेस्ट पास करने के लिए रोजाना सुबह दौड़ने जाती हूं। मानसिक मजबूती पर भी ध्यान दे रही हूं। उर्मिला का मायका उरई में है और झांसी में ससुराल है। कहती हैं कि पहले कभी नौकरी नहीं की न ही कभी फिटनेस पर ध्यान दिया। सरकार ने अपने सारे वायदे निभाए हैं, लेकिन अगर भर्ती में भी थोड़ी छूट दे दें तो अच्छा होगा। 

 

बेटे के साथ नीतू सिंह
बेटे के साथ नीतू सिंह - फोटो : amar ujala
सात माह की बच्ची को दूध पिलाकर रोज जाती हूं दौड़ने : दिव्या
सात महीने की बेटी है। पति जब शहीद हुए थे तो वह महज दो माह की थी। मेरी पीड़ा और मानसिक अवसाद को कोई नहीं समझ सकता। लेकिन यह जानती हूं कि जो कुछ करना है खुद करना है। यह कहते हुए शहीद राहुल की पत्नी दिव्या फोन पर ही फफक पड़ीं। अपनी ससुराल दिल्ली में रह रहीं दिव्या कहती हैं कि बेटी दूध पीती है, खुद भी पूरी तरह से स्वस्थ नहीं हूं। फिर भी फिजिकल टेस्ट पास करने का जुनून है।

इसलिए रोजाना दौड़ने जाती हूं। बेटी को दूध पिलाकर पार्क में दौड़ने जाती हूं। पैरों में सूजन आ जाती है। कभी-कभी तो बेटी को भी गोद में उठाना मुश्किल हो जाता है। बहुत रोना आता है, लेकिन बेटी के भविष्य के लिए एक बार फिर से नए जोश से उठ जाती हूं। 13 महीने की शादी में पति के साथ मुश्किल से दो-तीन महीने ही रह पाई थीं। उनका सपना एसआई बनने का था, मैं उसे पूरा करूंगी। दिव्या का मायका गाजियाबाद में है। 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00