Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Meerut ›   bulandshahr clash West UP circumstances Can worsen

बुलंदशहर बवाल के बाद बिगड़ सकते हैं वेस्ट यूपी के हालात, बेहद खतरनाक हैं खुफिया इनपुट

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, मेरठ Updated Tue, 04 Dec 2018 04:51 AM IST
bulandshahr clash West UP circumstances Can worsen
- फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें
वेस्ट यूपी में गोकशी की वारदात कभी भी माहौल को बिगाड़ सकती हैं। यहां गोकशी की वारदात के बाद सांप्रदायिक तनाव की स्थिति बन जाती है। मेरठ, मुजफ्फरनगर, शामली, सहारनपुर और बागपत समेत कई जनपदों में माहौल खराब करने की साजिश भी हो चुकी है। 
विज्ञापन


खुफिया विभाग कई बार शासन को इनपुट भेज चुका कि वेस्ट यूपी में जिलों में गोकशी जैसे मुद्दों से बवाल कराने की प्लानिंग चल रही है। इसको लेकर पुलिस प्रशासन अलर्ट है। इसके बावजूद बुलंदशहर जिले में बवाल हो गया। 


गोकशी पर सांप्रदायिक माहौल बनाकर वेस्ट को सुलगाने की गहरी साजिश है। 2019 चुनाव से पहले वेस्ट यूपी में बवाल हो सकता है, गोकशी विस्फोटक करा सकती है। इसको लेकर खुफिया विभाग शासन को इनपुट कई बार भेज चुका है। 

मेरठ, मुजफ्फरनगर, शामली, सहारनपुर समेत कई जिलों में गोकशी पर हिंदू संगठन और दूसरे समुदाय के लोग आमने सामने आए। कई बार स्थिति ऐसी बनी कि गोकशी को लेकर पथराव, वाहनों में तोड़फोड़ व आगजनी की घटना हो चुकी है। 

पुलिस पर फायरिंग तक हो चुकी है। मेरठ में खासतौर पर लिसाड़ीगेट, ब्रह्मपुरी, सरधना, सरूरपुर, किठौर, भावनपुर,जानी, इंचौली, दौराला, खरखौदा और मुंडाली में गोकशी सांप्रदायिक तनाव की स्थिति बनवा चुकी है। 

गोकशी पर भड़कता जनाक्रोश 
गोकशी को लेकर जल्द ही जनाक्रोश भड़कता है। दादरी में घर में गोमांस मिलने के शक में इखलाक को पीट पीटकर मार डाला। उसको लेकर दादरी में बवाल हुआ था। गाजियाबाद व नोएडा में गोकशी बवाल करा चुकी है। 

वेस्ट यूपी में दंगा भड़काने की कई बार साजिश हुई, गनीमत रही कि पुलिस प्रशासन से स्थिति को संभाला। मेरठ, बुलंदशहर, हापुड़ समेत कई जनपदों में रोजाना गोकशी को लेकर तनाव की स्थिति होती है। 

पीएम तक दे चुके हिदायत  

वेस्ट यूपी में गोकशी पर मारपीट, पथराव और आगजनी की घटना होती है, इसकी जानकारी पुलिस के आला अधिकारियों को मालूम है। गोकशी के शक में दूसरे समुदाय के लोगों पर हमला होने की घटना पर पीएम नरेंद्र मोदी आपत्ति जता चुके हैं। 

कई बार प्रधानमंत्री ने मंच से बोला है कि हिंदू संगठन या फिर किसी भी दल को कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं है। भाजपा कार्यकर्ता को कई बार पीएम हिदायत भी दे चुके हैं।

गोकशी सुनते ही जुटी भीड़
गोकशी होने की खबर लगते ही लोगों की भीड़ उमड़ती है। कई संगठनों के लोग थानों में घेराव करते हैं। तीखे तेवर और हल्ला मचाकर माहौल बनाने की कोशिश होती है। पुलिस भी हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं के सामने बेबस नजर आती है। सत्ताधारी नेता भी पुलिस पर बेवजह दबाव बनाना मानों उनकी आदत बन गई है। पुलिस प्रशासन के अधिकारी मानते हैं कि गोकशी वेस्ट यूपी के जिलों में बखेड़ा करा सकती है। 

खुफिया इनपुट बेहद खतरनाक 
पुलिस सूत्रों के मुताबिक खुफिया विभाग का इनपुट बेहद खतरनाक हैं। मेरठ, बुलंदशहर और मुजफ्फरनगर में सर्वाधिक गोकशी की घटना हुई हैं। इतना नहीं गोतस्कर पुलिस पर सीधा हमला बोलते हैं। कई बार पुलिस की जान तक बची है। सूत्रों की माने तो वेस्ट यूपी में सबसे ज्यादा खतरनाक गोकशी की घटनाएं है। जिसको लेकर माहौल खराब कराया जा सकता है।
 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00