Video वायरल मामले में अतुल पर बढ़ाई गंभीर धारा, ताबड़तोड़ दबिश

अमर उजाला ब्यूरो/ मेरठ Updated Wed, 08 Nov 2017 12:36 PM IST
सपा नेता अतुल प्रधान
सपा नेता अतुल प्रधान
विज्ञापन
ख़बर सुनें
विवादित वीडियो वायरल होने के बाद सपा नेता अतुल प्रधान की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं। पुलिस ने अतुल प्रधान की गिरफ्तारी के लिए सोमवार को दूसरे दिन भी शास्त्रीनगर स्थित आवास और उसके गांव में दबिश दी। पुलिस वापस लौटी ही थी कि अतुल के आवास पर मीटिंग की जानकारी हुई। पुलिस ने दोबारा से घेराबंदी कर ली। शाम को अतुल प्रधान की कार को पुलिस ने साकेत चौकी के पास रोक लिया। कार में सवार तीन युवकों को थाने भेज दिया। रात में अतुल प्रधान की लोकेशन बागपत में बताई गई है। दिन में अतुल की पत्नी और पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष सीमा प्रधान इस मसले को लेकर एसएसपी से मिलने पहुंची तो एसएसपी ने उनकी सिफारिश मानने से इंकार कर दिया। 
विज्ञापन


मखदूमपुर मेले में तीन नवंबर को भाषण के दौरान बागपत निवासी सुमित गुर्जर का एनकाउंटर करने वाले इंस्पेक्टर के टुकड़े करने, एक बिरादरी पर निशाना साधने, डीजीपी के लिए अपशब्द की वीडियो वायरल होने के बाद सपा नेता अतुल प्रधान पर रविवार को हस्तिानपुर थाने में मुकदमा दर्ज करा दिया गया था। रविवार को ही अतुल प्रधान ने कमिश्नरी के सामने चौधरी चरण सिंह पार्क में सैकड़ों लोगों के साथ बिना अनुमति धरना दिया और सुमित गुर्जर एनकाउंटर मसले पर सैकड़ों की भीड़ जुटाई। सिविल लाइन थाने में अतुल प्रधान समेत 18 के खिलाफ नामजद और 150 अज्ञात के खिलाफ धारा 144 के उलंघन में सिविल लाइन थाने में मुकदमा हुआ था। सोमवार को सिविल लाइन थाने में दर्ज मुकदमें में अतुल प्रधान पर धारा 188 के साथ 504, 506, 147, 353 और 7 क्रमिनल लॉ एक्ट के तहत भी धारा बढ़ा दी। 


पढ़ें : लखनऊ तक पहुंचा Video, अतुल की तलाश में ताबड़तोड़ दबिश

सोमवार को एसएसपी के निर्देश पर एसपी सिटी मानसिंह चौहान, सीओ कोतवाली, सीओ सिविल लाइन ने कई थानों की फोर्स के साथ दबिश दी। कुछ बाद सूचना मिली कि अतुल घर पर बैठक कर रहा है, पुलिस पहुंची तो वहां कुछ नहीं मिला। शाम को सिविल लाइन पुलिस ने साकेत चौकी के पास घेराबंदी कर अतुल प्रधान की कार को रोक लिया। कार पर अतुल प्रधान लिखा था और सपा का झंडा लगा हुआ था। कागजात नहीं दिखाने पर पुलिस कार को थाने ले गई और सीज कर दिया। सपा नेता की गिरफ्तारी के लिए उसके गांव गड़ीना और बागपत में भी पुलिस भेजी गई। एलआईयू की टीम भी गोपनीय तरीके से जुटी रही। एसपी सिटी ने बताया कि रविवार रात को अतुल प्रधान के घर से दस युवकों को हिरासत में लिया गया था, जिनके खिलाफ सिविल लाइन पुलिस ने शांतिभंग में रिपोट दर्ज कर कोर्ट में पेश किया। रात तक अतुल की गिरफ्तारी की कोशिश की जा रही थी।

उधर, अतुल प्रधान की पत्नी सीमा प्रधान हिरासत में लिये गये युवकों को छुड़ाने एसएसपी के पास पहुंची। एसएसपी ने कानून व्यवस्था का हवाला देते हुए युवकों को छोड़ने से मना कर दिया। एसएसपी ने साफ कहा कि कानून कोई खेल नहीं है, जो मर्जी कुछ भी बोल जाये। अतुल की गिरफ्तारी हर हाल में होगी।

दर्ज मुकदमें में जांच के बाद धारा बढ़ाई

एसएसपी मंजिल सैनी दहल
एसएसपी मंजिल सैनी दहल
एसएसपी मंजिल सैनी दहल ने बताया कि अतुल प्रधान के खिलाफ सिविल लाइन थाने में रविवार को दर्ज मुकदमें में जांच के बाद धारा बढ़ाई गई है। गिरफ्तारी के लिए दबिश जा दी है। अतुल प्रधान की गाड़ी की घेराबंदी गई थी, लेकिन कार में वह नहीं था। जल्द पुलिस सपा नेता को गिरफ्तार कर लेगी।
           
मुकदमा हो खत्म, वरना करेंगे आंदोलन
सुमित गुर्जर एनकाउंटर के मामले में मेरठ कमिश्नरी चौराहे पर धरना प्रदर्शन करने पर दर्ज किए गए मुकदमे को वापस करने की मांग की। सोमवार को कलक्ट्रेट पर पहुंचकर मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन डीएम को सौंपा। चेतावनी दी कि झूठा मुकदमा खत्म नहीं किया गया तो आंदोलन किया जाएगा। भाकियू जिलाध्यक्ष प्रताप गुर्जर और सपा नेता बिल्लू प्रधान के नेतृत्व में काफी लोग कलक्ट्रेट पर पहुंचे। उनका कहना है कि सुमित का परिवार और सर्वसमाज के लोगों ने न्याय के लिए रविवार को मेरठ कमिश्नरी चौराहे पर धरना-प्रदर्शन किया, जो शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हुआ, लेकिन मेरठ पुलिस ने सपा नेता अतुल प्रधान सहित कुछ नेताओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर दिया है। जो पूरी तरह से गलत है।

पढ़ें : सपा नेता अतुल प्रधान के विवादित बोल, इंस्पेक्टर के बीच से दो टुकड़े कर देंगे

फर्जी मुकदमों से डरने वाले नहीं : अतुल
सपा नेता अतुल प्रधान चिरचिटा गांव में पहुंचे। उनका कहना है कि पीड़ित परिवार को इंसाफ दिलाना उनका एकमात्र उद्देश्य है। इसके लिए लगातार संघर्ष किया जाएगा। मेरठ कमिश्नरी चौराहे पर धरना प्रदर्शन करने पर पुलिस ने उन पर फर्जी मुकदमा दर्ज किया है। इससे वे डरने वाले नहीं है। उन्होंने पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने के लिए आगे की रणनीति बनाई। उनका कहना है कि गांव-गांव जाकर लोगों को जागरूक किया जाएगा। निकाय चुनाव होने तक यदि सुमित के परिवार को न्याय नहीं मिला तो चुनाव के बाद भूख हड़ताल शुरू कर दी जाएगी।

शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें

https://www.facebook.com/AuNewsMeerut/
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00