बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW
विज्ञापन
विज्ञापन
साप्ताहिक राशिफल 16 से 22 मई : धनु राशि समेत इन तीन राशियों के लिए बहुत ख़ास होगा ये सप्ताह, जानें भाग्यफल
Myjyotish

साप्ताहिक राशिफल 16 से 22 मई : धनु राशि समेत इन तीन राशियों के लिए बहुत ख़ास होगा ये सप्ताह, जानें भाग्यफल

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

Pratapgarh : एनएसयूआई के पूर्व जिलाध्यक्ष की लाठी-डंडे से पीट- पीटकर नृशंस हत्या

कंधई थाना क्षेत्र के वारीखुर्द में बृहस्पतिवार की रात रुपये के लेनदेन में राष्ट्रीय छात्र संगठन कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष निर्मल पांडेय (35) की लाठी-डंडे से पीटकर व फावड़े से प्रहार कर नृशंस हत्या कर दी गई। हत्यारों ने बीच-बचाव करने वाले उसके साथी सुलतानपुर निवासी अनुराग सिंह (28) को भी पीटकर अधमरा कर दिया। शुक्रवार की सुबह पूर्व अध्यक्ष की हत्या की खबर मिलते ही पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने घायल युवक को उपचार के लिए जिला अस्पताल और  शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।  

घटना की जानकारी मिलते ही कांग्रेसी नेताओं का पोस्टमार्टम हाउस पर जमघट लगा गया। कई थानों की फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे एएसपी पूर्वी सुरेंद्र प्रसाद ने हत्यारोपियों की तलाश में पुलिस की तीन टीमें गठित की हैं। कंधई थाना क्षेत्र के भदौना रठवत निवासी निर्मल पांडेय सुलतानपुर के धम्मौर में अपनी चिकित्सक पत्नी सुषमा के साथ रहता था। वर्तमान समय में एमए की पढ़ाई कर रहा था। बृहस्पतिवार की रात वह अपने साथी अनुराग सिंह निवासी लाल डिग्गी नगर कोतवाली सुलतानपुर के साथ बाइक लेकर शीतला सरोज से मिलने वारीखुर्द आया था। सभी शीतला सरोज के घर में रुककर बातचीत कर रहे थे।

रात करीब 12.30 बजे निर्मल व अनुराग घर जाने के लिए निकल रहे थे। तभी चिटफंड कंपनी में जमा कराए रुपये के लेनदेन को लेकर उनके बीच विवाद होने लगा। बात बढ़ने पर शीतला प्रसाद व उसके साथियों ने लाठी-डंडे से निर्मल व अनुराग पर हमला बोल दिया। कुछ लोगों ने निर्मल के ऊपर फावड़े से प्रहार किया। जिससे उसकी घटनास्थल पर ही मौत हो गई। जबकि अनुराग अधमरा हो गया। शोर-शराबा सुनकर वारीखुर्द सरोज बस्ती के लोग भी आ गए। शीतला ने अपने घर से करीब सौ मीटर दूर गेहूं के खेत में दोनों को मरा समझकर फेंक दिया। इसके बाद शीतला अपने परिजनों व साथियों के साथ भाग निकला।

शुक्रवार सुबह निर्मल की हत्या की खबर मिलते ही पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में कंधई पुलिस मौके पर पहुंची और छानबीन के बाद मृत निर्मल के शव को पोस्टमार्टम और अनुराग को उपचार के लिए जिला अस्पताल भेजा। कुछ ही देर में एएसपी पूर्वी सुरेंद्र प्रसाद, सीओ रानीगंज अतुल अंजान त्रिपाठी देवसरा, पट्टी व रानीगंज की फोर्स लेकर मौके पर पहुंचे। छानबीन के बाद एएसपी ने बताया कि हत्यारोपियों की तलाश में तीन टीमें गठित की र्गइं हैं। कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया है। मृतक के भाई की तहरीर पर पुलिस ने शीतला सरोज समेत अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

घटनास्थल पर पहुंची फोरेंसिक टीम ने की खोजबीन, लाठी डंडों को कब्जे में लिया

एनएसयूआई के पूर्व जिलाध्यक्ष निर्मल पांडेय की हत्या की खबर मिलने के बाद छानबीन में जुटे पुलिस अफसरों ने फोरेंसिक टीम को मौके पर बुलाया। गेहूं के खेत से लेकर शीतला सरोज के घर तक टीम साक्ष्य खोजती रही। शीतला के घर के भीतर लाठी डंडे मिले। पुलिस के मुताबिक शीतला के घर के भीतर शराब की बोतल भी मिली। जांच में यह भी सामने आया कि घटना के पहले लोगों ने शराब पी थी। शराब की खाली बोतल को भी पुलिस ने कब्जे में ले लिया।

मरने का अनुराग ने किया नाटक, तब बची जान

कंधई के वारीखुर्द में शीतला प्रसाद सरोज ने रुपये के लेनदेन में निर्मल पांडेय व उसके साथी अनुराग सिंह को लाठी-डंडे से पहले पीटा। निर्मल के ऊपर फावड़े से भी हमला किया। पिटाई से दम तोड़ चुके निर्मल व अधमरा हो चुके अनुराग को हत्यारोपियों ने गेहूं के खेत में फेेंक दिया। अनुराग ने बताया कि खेत में फेंकने के बाद सभी वापस लौट रहे थे। तभी किसी ने कहा कि दोनों जिंदा है कि मर गए हैं। फिर से जांच कर लो कि सांस चल रही है कि नहीं। यह सुनते ही दो लोग लौटे और उसकी सांस चेक करने लगे। घायल अनुराग उनकी बात सुनकर अपनी सांसे रोक ली। अनुराग को आरोपियों ने हिलाया डुलाया भी मगर वह मरने का नाटक करता रहा। जिसके चलते उसकी जान बची। हालांकि हत्यारोपियों के जाने के बाद वह बेहोश हो गया। होश आया भी तो अंधेरा होने के चलते दर्द से कराहते हुए गेहूं के खेत में पड़ा रहा। उजाला होने पर उसने निर्मल के भाई को फोन कर घटना की जानकारी दी। जिसके बाद पुलिस को घटना की जानकारी हो सकी।

रात में ही घरों से भाग निकले सरोज बस्ती के पुरुष,  महिलाओं ने साध रखी थी चुप्पी

कंधई के वारीखुर्द में एनएसयूआई के पूर्व जिलाध्यक्ष निर्मल पांडेय की लाठी-डंडे से पीटकर हत्या करने वाले शीतला प्रसाद व उसके साथी रात में ही घरों से भाग निकले। शुक्रवार की सुबह सरोज बस्ती में कोई भी पुरुष नहीं मिला। छानबीन में जुटी पुलिस घरों पर मौजूद महिलाओं से घटना की बाबत छानबीन करने लगे मगर सभी चुप्पी साध रखी थी। घटना की जानकारी बस्ती के लोगों को हो गई थी। पुलिस की कार्रवाई से बचने के लिए पुरुषों ने रात में ही घर छोड़ दिया। आरोपियों तक पहुंचने में जुटी मोबाइल नंबर के जरिए उन तक पहुंचने में प्रयासरत दिखी।
... और पढ़ें

कोरोना का कहर जारी, छह माह बाद सीडीओ समेत मिले एक साथ 73 मरीज

कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। दिनों दिन संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ता ही जा रहा है। पांच माह बाद स्वास्थ्य विभाग की जांच में फिर 24 घंटे के अंदर जिले के मुख्य विकास अधिकारी समेत 73 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने की पुष्टि सीएमओ ने की है। इनमें शहर के जैन गली के रहने वाले एक ही परिवार के 11 लोग भी शामिल हैं। मोबाइल कंपनी के पांच कर्मचारी, तीन रेलकर्मी और एक यात्री भी कोरोना की गिरफ्त में आए हैं।

जिले में कोरोना संक्रमण का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा है। शुक्रवार को 24 घंटे के भीतर जिले में 73 कोरोना संक्रमित मरीज स्वास्थ्य विभाग के जांच में पाए गए। इनमें शहर के जैनगली में रहने वाले एक ही परिवार के 11 सदस्य जांच में कोरोना संक्रमित मिले हैं। हालांकि पूरे परिवार को होम आइसोलेशन में स्वास्थ्य विभाग रखवा दिया है। प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक का पूरा परिवार भी कोरोना की जद में आ गया है। शिक्षक कहां के रहने वाले हैं इसके बारे में स्वास्थ्य विभाग जानकारी देने से कतरा रहा है। कंपनी गार्डेन मीराभवन मार्ग पर मोबाइल कंपनी का कार्यालय है। कंपनी में काम करने वाले पांच कर्मचारी भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। रेलवे स्टेशन पर हुई जांच में चीफ पीडब्लूआई अवधेश पाल व उनकी पत्नी जांच में कोरोना संक्रमित मिले हैं। टीएसआई मनोश शुक्ला, पृथ्वीगंज स्टेशन मास्टर सुभान सिंह व उसके पिता की रिपोर्ट कोरोना संक्रमित आई है।

नई दिल्ली से आई पद्मावत एक्सप्रेस के 55 यात्रियों की कोरोना जांच की गई। इनमें एक यात्री संक्रमित पाया गया। इसी ट्रेन से आए दो रेलवे कर्मचारी भी जांच में संक्रमित मिले थे। उधर, कुंडा में स्वास्थ्य विभाग की टीम के जांच में नौ लोग कोरोना संक्रमित मिले हैं। इनमे कुंडा के उचे गांव का बालक, बेंती की महिला, परमीपुर के युवक, सराय स्वामी बाबागंज के युवक बरई कुंडा के युवक, महेश्वरी नगर कुंडा का किशोर, दशरथपुर कुंडा की महिला , मिया का पुरवा का युवक वहीं बेलखरनाथ सीएचसी में जांच में चार लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। जिले में कुल 73 मरीज संक्रमित मिले हैं। महिला अस्पताल के एलटू अस्पताल में संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 27 हो गई है। प्रयागराज में 24 तो लखनऊ में बेल्हा के चार मरीज भर्ती हैं। जिले में एक्टिव केस की संख्या 308 हो गई है। अबतक 78 मरीज इलाज के दौरान दम भी तोड़ चुके हैं।
... और पढ़ें

Prayagraj : दो बहनों को अगवा करने से हलाकान रही पुलिस

गड़वारा में दो सगी बहनों को चार पहिया सवार चार लड़कों द्वारा अगवा करने की खबर से पुलिस महकमे में हड़कंप मचा रहा। हालांकि देर शाम दोनों बहनों को उनके मकान के करीब से ही पुलिस ने बरामद कर लिया। उनकी करतूत से नाराज पुलिस ने उनका शांति भंग में चालान कर दिया।

बृहस्पतिवार दोपहर डायल 112 को सूचना मिली कि दो सगी बहनों का गड़वारा पुलिस चौकी क्षेत्र से कार सवार चार युवकों ने अगवा कर लिया है। उन्हें शहर के किसी मकान में बंद किया हुआ है। लड़कियों को अगवा करने की जानकारी मिलने के बाद पुलिस के होश उड़ गए। सीओ सिटी अभय पांडेय व स्वाट टीम लड़कियों की खोजबीन करती रही।

शाम तक दोनों बहनों का कोई सुराग नहीं लगा। हालांकि देर शाम सीओ सिटी अभय पांडेय ने दोनों बहनों को उनके घर के करीब एक मकान से बरामद कर लिया। पुलिस ने सलमा व खुशबू पुत्री हलीम निवासी पूरे ईश्वरनाथ से पूछताछ के बाद हिरासत में ले लिया। पूछताछ में यह बात सामने आई कि उनके द्वारा ही पुलिस को फर्जी सूचना दी गई थी। महिला थानाध्यक्ष ने दोनों बहनों का शांति भंग में चालान कर दिया।
... और पढ़ें

आशिक के मना करने पर प्रेमिका ने कर ली शादी, दोनों पक्षों की ओर से निकल गए असलहे और फिर...

आशिक के मना करने पर प्रेमिका ने शुक्रवार को शादी कर ली। प्रेमिका की शादी होते देख प्रेमी युवक अपने साथियों के साथ विरोध करने लगा। दोनों पक्षो ने असलहा निकाल कर जमकर बवाल काटा। हालांकि पुलिस के आने की खबर सुनकर मामला शांत हो गया।

कंधई थाना क्षेत्र के गांगपाती गांव शुक्रवार को एक युवती की शादी थी। शादी होने की जानकारी होने पर एक युवक  विवाह स्थल पहुचकर स्वयं को दुल्हन का आशिक होने का दावा करने लगा। इसकी जानकारी होने युवती के पक्ष के लोगों ने विरोध किया। विरोध होते देख युवक पुलिस से शिकायत की बात करने लगा।

मामला बढ़ने पर दोनों ओर से दो युवक असलहा लेकर एक दूसरे से भिड़ गए। दोनों पक्ष के बीच जमकर झड़प हुई। बारात आने के बाद देर रात 2 बजे तक हंगामा होता रहा। हालांकि बाद में दुल्हन ने युवक की प्रेमिका होने से साफ इंकार कर दिया।  दुल्हन के मना करने पर खुद को युवती का आशिक बताने वाला युवक शांत हो गया। काफी देर हुए हंगामे के बाद पुलिस आने की बात सुनकर विवाह का कार्यक्रम शुरू हो सका।
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

प्रतापगढ़ : संपत्ति के लिए बेटे ने सो रहे पिता को कुल्हाड़ी से काट डाला 

कंधई इलाके के नरसिंहपुर गांव में संपत्ति के लिए बेटे ने सो रहे पिता को कुल्हाड़ी से काट डाला। सुबह चारपाई पर खून से सनी लाश देखकर परिजनों में कोहराम मच गया। खबर पाकर पहुंची पुलिस ने पूछताछ के बाद आरोपी बेटे को हिरासत में ले लिया। 

कंधई थाना क्षेत्र के नरसिंहपुर निवासी रामसूरत वर्मा (70) शनिवार की रात पट्टी-चिलबिला मुख्य मार्ग के दक्षिण तरफ स्थित अपने मकान के बाहर चारपाई पर सो रहा था। रविवार की सुबह काफी देर बाद भी रामसूरत सोकर नहीं उठा तो परिजन उसकी चारपाई के पास पहुंचे। चादर हटाते ही लोग चीख पड़े। चारपाई पर रामसूरत का खून से लथपथ शव पड़ा था। उसके सिर पर धारदार हथियार से कई प्रहार किए गए थे। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस छानबीन करने लगी। इस दौरान यह प्रकाश में  आया कि बड़ा बेटा रामशिरोमणि पिता रामसूरत से नाराज चल रहा था।

कुछ जमीन रामसूरत ने बेच दी थी। जिसके रुपये के लिए वह अक्सर पिता से विवाद करता रहता था। पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया। मौके पर पहुंचे अपर पुलिस अधीक्षक पूर्वी सुरेंद्र प्रसाद द्विवेदी ने बताया कि मृतक की हत्या उसके बड़े बेटे रामशिरोमणि ने बिक्री की गई जमीन के रुपयों के लिए की है। मृतक अपने छोटे बेटे के साथ रहता था। रामशिरोमणि को आशंका थी कि पिता रुपये छोटे बेटे को दे देगा। इसी के चलते उसने पिता को कुल्हाड़ी से प्रहार कर मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

रामसूरत ने 14 लाख में बेची थी जमीन

कंधई थाना क्षेत्र के नरसिंहपुर निवासी रामसूरत ने दो सप्ताह पूर्व गांव के ही सुनील प्रजापति को पट्टी-चिलबिला मार्ग से लगी हुई जमीन करीब 14 लाख रुपये में बेची थी। इस रुपये को लेकर बड़े बेटे रामशिरोमणि से उसका विवाद चल रहा था। पुलिस के मुताबिक, रामशिरोमणि वर्मा लगातार रुपये की मांग कर रहा था, मगर रामसूरत रुपये देने से इनकार कर रहा था। इससे खार खाकर उसने पिता की हत्या कर दी। 
... और पढ़ें

प्रतापगढ़ : पंचायत चुनाव भी नहीं जीत सका देश को विदेशमंत्री देने वाला राजघराना 

कालाकांकर राजघराने को जिला पंचायत सदस्य के चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा है। पूर्व विदेश मंत्री स्व. राजा दिनेश सिंह की पौत्री और प्रतापगढ़ से तीन बार सांसद रहीं रत्ना सिंह की बेटी तनुश्री को जिला पंचायत सदस्य के चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा है। भाजपा समर्थित प्रत्याशी तनुश्री को कांग्रेस समर्थित प्रत्याशी गीता द्विवेद्वी ने एकतरफा मुकाबले में भारी अंतर से पराजित किया है। तनुश्री की हार से रामपुर खास विधानसभा में जमीन तलाश रहे भाजपाइयों को करारा झटका लगा है। 

कालाकांकर राजघराने से जुड़े स्व. राजा दिनेश सिंह प्रतापगढ़ से कई बार सांसद चुने गए। वह देश के विदेशमंत्री भी रहे। देश की राजनीति में भी उनका बड़ा नाम था। उनके निधन के बाद उनकी बेटी राजकुमारी रत्ना सिंह राजनीति में उतरीं। वह कांग्रेस से तीन बार जिले की सांसद रहीं। कुछ दिनों पहले रत्ना सिंह ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया। इसके बाद से कालाकांकर राजघराना रामपुर खास में अपनी जमीन तैयार करने में लगा था। रत्ना सिंह के बेटे भुवन्यु सिंह भी रामपुर खास में लगातार सक्रिय रहे।

लोगों में चर्चा है कि वह विधानसभा चुनाव में यहां से भाजपा से दावेदारी कर सकते हैं। इस बीच जिला पंचायत सदस्य के चुनाव में ही कालाकांकर राजघराने ने कांग्रेस के गढ़ में ताल ठोंक दी। पूर्व सांसद रत्ना  सिंह की बेटी तनुश्री को भाजपा ने सांगीपुर द्वितीय से जिला पंचायत सदस्य का प्रत्याशी घोषित कर दिया। इसके बाद कालाकांकर राजघराने ने तनुश्री की सियासी पारी शुरू करने के लिए पूरी ताकत झोंक दी। लाव-लश्कर के साथ नामांकन किया गया। चुनाव-प्रचार में भाजपाइयों ने पूरी जान लगा दी। जिला पंचायत का चुनाव कालाकांकर राजघराने के लिए प्रतिष्ठा का प्रश्न बन गया। पूर्व सांसद रत्ना सिंह, उनके बेटे भुवन्यु सिंह समेत भाजपा नेताओं ने तनुश्री को जिताने के लिए दिन-रात एक कर दिया।

मतदान के दिन भी भाजपाई सक्रिय रहे। लेकिन रविवार सुबह मतगणना शुरू होते ही तनुश्री की सियासी पारी डगमगाने लगी। गिनती के दौरान हर राउंड में वह लगातार पिछड़ती चली गईं। तीन राउंड की मतगणना के बाद ही साफ हो गया कि तनुश्री को सियासी पारी की शुरुआत में ही हार का सामना करना पड़ेगा। कांग्रेस समर्थित प्रत्याशी गीता द्विवेद्वी ने उन्हें करारी शिकस्त दी। भाजपा समर्थित तनुश्री को लगभग सात हजार मतों से हार का सामना करना पड़ा। एकतरफा मुकाबले में कांग्रेस प्रत्याशी की जीत से कांग्रेसियों में खुशी की लहर दौड़ गई। जबकि कालाकांकर राजघराने समेत रामपुर खास में भाजपा खेमे में मायूसी छा गई। 

और अपने ही गढ़ में हारी कांग्रेस 

जिला पंचायत के चुनाव में कांग्रेस को अपने गढ़ में ही हार का सामना करना पड़ा है। रामपुर खास विधानसभा के लालगंज ब्लाक जिला पंचायत की तीनों सीटों पर कांग्रेस का सूपड़ा साफ हो गया। यह हार दिग्गज कांग्रेसी नेता प्रमोद तिवारी व विधायक मोना के लिए भी तगड़ा झटका है। हालांकि सांगीपुर व संग्रामगढ़ ब्लाक में कांग्रेस का दबदबा कायम दिखा।

रामपुर खास चार दशकों से कांग्रेस का गढ़ रहा है। यहां से दिग्गज कांग्रेसी नेता प्रमोद तिवारी लगातार विधायक बनते रहे। उनके राज्यसभा सदस्य बनने के बाद बेटी मोना मिश्रा ने विरासत संभाली। मोना भी दो बार से लगातार विधायक हैं। कांग्रेस के गढ़ में जिला पंचायत की सीट पर सबकी नजर थी। सांगीपुर में चार में से तीन सीटें जीतकर कांग्रेस ने अपना दबदबा कायम रखा। उधर, रामपुर-संग्रामगढ़ ब्लाक में तीन में दो सीटों पर कांग्रेस के जिला पंचायत सदस्य एकतरफा जीत दर्ज करने में कामयाब रहे, लेकिन लालगंज ब्लाक की जिला पंचायत की तीन सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशियों को हार का सामना करना पड़ा है। लालगंज की तीन सीटों में से दो पर सपा समर्थित प्रत्याशी विजयी रहे, जबकि एक सीट भाजपा के हाथ में चली गई। 

चुनाव जीते, हार गए जिंदगी की जंग 

मतदान के बाद जिंदगी की जंग हारने वाले प्रधान पद के प्रत्याशी को जीत मिली है। वह अपनी जीत देखने और प्रमाण पत्र लेने के लिए दुनिया में नहीं रहे। रामपुर-संग्रामगढ़ विकास खंड के प्रतापरुद्रपुर ग्राम पंचायत की सामान्य सीट पर हरिकेश बहादुर उर्फ सिंधी सिंह ने नामांकन पत्र दाखिल किया था। मतदान के दिन तक उन्होंने बूथ से लेकर गांव तक जमकर मेहनत की। मतदान के चार दिन बाद अचानक उनकी तबीयत बिगड़ गई। प्रधान पद के प्रत्याशी स्व. सिंधी सिंह के निधन के बाद परिजनों में मातम पसर गया और कोई भी मतगणना में नहीं गया। उनके समर्थक मतगणना कराने पहुंचे। मतगणना के बाद आखिरकार जिंदगी की जंग हार जाने वाले सिंधी सिंह को जीत मिली, लेकिन खुशियां मनाने वाला कोई नहीं था। उनके  निधन से परिजन व समर्थक गहरे शोक में हैं। असमय जिंदगी की जंग हारने वाले सिंधी सिंह के नाम जीत दर्ज होने की क्षेत्र में दिनभर चर्चा होती रही।
... और पढ़ें

प्रतापगढ़ : ग्राम पंचायत के महज 82, ग्राम प्रधान 128 और बीडीसी सदस्य के 56 पदों पर परिणाम घोषित

पूर्व सांसद राजकुमारी रत्ना सिंह की पुत्री तनुश्री।
जिले में रविवार को भारी अव्यवस्था के बीच पंचायत चुनाव की मतगणना प्रारंभ हुई। जिसके कारण देर रात तक अधिकांश प्रधान, बीडीसी सदस्य के नतीजे नहीं आ सके थे। जिला पंचायत सदस्य पद की मतगणना पूरी नहीं हो सकी थी। कई मतगणना केंद्रों पर करीब दो घंटे विलंब से मतों की गिनती प्रारंभ हुई। मतगणना परिसर के बाहर जमा भीड़ को पुलिस लगातार दौड़ाती रही। कई जगह पुलिस से लोगों की तीखी झड़प भी हुई। देर शाम तक ग्राम प्रधान के 1193 पदों के सापेक्ष केवल 128, बीडीसी सदस्य के 1434 केे सापेक्ष 56 और ग्राम पंचायत सदस्य के 82 परिणाम ही घोषित हो सके थे।

जिले के 17 ब्लाकों के मतगणना केंद्रों पर रविवार की सुबह जोनल मजिस्ट्रेट व आरओ की देखरेख में ग्राम पंचायत सदस्य, ग्राम प्रधान, बीडीसी सदस्य और जिला पंचायत सदस्य पद के मतों की गणना प्रारंभ हुई। मंगरौरा, रामपुर संग्रामगढ़, बाबागंज, सदर, मानधाता, कुंडा मतगणना केंद्रों पर विलंब से मतगणना प्रारंभ हुई। मंगरौरा ब्लाक में प्रत्याशियों के शोरशराबे पर सुबह नौ बजे मतगणना प्रारंभ हो सकी। सांगीपुर व सदर मतगणना केंद्र के बाहर खड़े समर्थकों को पुलिस ने लाठियां पटककर दूर तक खदेड़ा। लक्ष्मणपुर मतगणना केंद्र पर ढाई घंटे बाद मतों की गिनती शुरू हो सकी।

पहले चरण के गांवों की काउंटिंग करने में मतगणना कर्मचारियों को काफी समय लगा। इसे लेकर प्रत्याशी व उनके अभिकर्ताओं से नोकझोंक होती रही। पहले राउंड में ही तीन बज गए। जिसके चलते दूसरे राउंड वाले प्रत्याशी व अभिकर्ता परिसर के बाहर डटे रहे। पुलिस सभी को बार-बार भगाती रही। जिलाधिकारी डा. नितिन बंसल पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर लगातार मतगणना केंद्रों का जायजा लेते रहे। आरओ समेत जोनल मजिस्ट्रेट को पारदर्शी तरीके से मतगणना कराने के लिए निर्देश देते रहे। सुरक्षा व्यवस्था में लगे पुलिसकर्मियों को बेवजह प्रत्याशियों व एजेंटों को मतगणना केंद्र के भीतर प्रवेश न करने का आदेश दिया। जीतने वाले प्रत्याशियों को समर्थक खुशी में उन्हें फूल-मालाओं से लाद दे रहे थे।
 

तीन वोट से जीत हासिल कर प्रधान बनीं शीला मिश्रा

प्रतापगढ़। सदर विकासखंड की नौबस्ता ग्राम पंचायत की मतगणना के दौरान कर्मचारियों के सामने मुश्किल आ खड़ी हुई। दो चक्रों में होने वाली मतगणना के बाद शीला मिश्रा तीन मतों से प्रधान निर्वाचित हुईं। इसके विरोध में दूसरे प्रत्याशी पुनर्मतगणना के लिए एआरओ पर दबाव बनाने लगे। हंगामे की खबर पर आरओ व एसडीएम सदर मोहनलाल गुप्ता मौके पर पहुंचे। उन्होंने अवैध मतों को फिर से चेक किया। इसके बाद शीला मिश्रा को तीन मतों से विजयी घोषित कर दिया।
... और पढ़ें

पिटाई से आक्रोशित स्वास्थ्यकर्मियों ने ठप किया इलाज, तड़पकर पांच मरीजों की मौत

जिला अस्पताल में शुक्रवार सुबह मरीज के इलाज को लेकर तीमारदारों ने स्वास्थ्यकर्मियों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। इससे अस्पताल में अफरातफरी मच गई। घटना से आक्रोशित स्वास्थ्य कर्मचारियों ने इलाज ठपकर इमरजेंसी में ताला जड़ दिया और डॉक्टरों के साथ वहीं धरने पर बैठ गए। खबर पाकर मौके पर पुलिस पहुंची लेकिन स्वास्थ्य कर्मचारी मानने के लिए तैयार नहीं थे। तकरीबन पांच घंटे बाद सुरक्षा के लिए अतिरिक्त व्यवस्था होने तथा सीडीओ के आश्वासन पर स्वास्थ्य कर्मचारियों ने धरना समाप्त किया। उधर, पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। लेकिन, हड़ताल के दौरान पांच मरीजों ने तड़प-तड़पकर दम तोड़ दिया।

जिला अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में बृहस्पतिवार की रात उपचार के लिए कंधई थाना क्षेत्र के रहने वाले पूर्व डीजीसी शचींद्र प्रताप सिंह की पत्नी को भर्ती कराया गया था। शुक्रवार की सुबह इलाज को लेकर शचींद्र प्रताप और स्वास्थ्य कर्मचारियों के बीच किसी बात को लेकर कहासुनी हो गई। स्वास्थ्य कर्मचारियों का आरोप है कि दूसरे मरीजों की देखभाल के लिए चले जाने से नाराज होकर महिला मरीज के साथ मौजूद तीमारदारों ने फार्मासिस्ट राकेश यादव तथा वार्ड ब्वाय जयप्रकाश यादव पर हमला बोल दिया। मारपीट में वार्ड ब्वाय जयप्रकाश का सिर फट गया। साथ ही राकेश को भी गंभीर चोटें आईं।

जान बचाने के लिए वार्ड ब्वाय डॉक्टर के कक्ष में भागा तो हमलावर वहां भी पहुंच गए और उसे जमकर लात-घूंसे मारे। शोरशराबा सुनकर अन्य स्वास्थ्य कर्मचारी भी वहां आ गए तो हमलावर बाहर निकल गए। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने दो आरोपियों को हिरासत में ले लिया। लेकिन, घटना से आक्रोशित कर्मचारियों ने इमरजेंसी गेट के चैनल पर ताला जड़ दिया। इससे वार्ड में भर्ती मरीज तथा तीमारदार सहमे रहे। नाराज चिकित्सकों समेत स्वास्थ्यकर्मियों ने हड़ताल की घोषणा करते हुए कामकाज ठप कर दिया और परिसर में ही धरने पर बैठ गए।

थोड़ी ही देर में सीएमएस डा.पीपी पांडेय समेत दूसरे डॉक्टर तथा स्वास्थ्य कर्मचारी भी अस्पताल पहुंच गए। स्वास्थ्य कर्मचारियों का कहना था कि आए दिन उनके साथ मारपीट की घटनाएं हो रही हैं और प्रशासन आश्वासन के बाद भी सुरक्षा व्यवस्था उपलब्ध नहीं करा पा रहा है। अब बिना सुरक्षा के डॉक्टर मरीजों का उपचार नहीं करेंगे। करीब पांच घंटे तक सभी धरने पर बैठे रहे। इस बीच अस्पताल पहुंचे एसडीएम सदर मोहनलाल गुप्ता तथा सीओ सिटी अभय पांडेय समझाने का प्रयास करते रहे, लेकिन स्वास्थ्य कर्मचारी मानने के लिए तैयार नहीं थे।

तकरीबन 11 बजे सीडीओ अश्वनी पांडेय तथा अपर पुलिस अधीक्षक पूर्वी सुरेंद्र प्रसाद द्विवेदी भी अस्पताल पहुंचे। उन्होंने बातचीत कर डॉक्टरों को भरोसा दिलाया कि इमरजेंसी गेट पर 24 घंटे सिपाही समेत दरोगा मौजूद रहेंगे। तब जाकर स्वास्थ्य कर्मचारियों ने धरना खत्म किया। बारह बजे के बाद फिर इमरजेंसी में डॉक्टर मरीजों का इलाज करने लगे। तब जाकर जिला प्रशासन ने राहत की सांस ली। अपर पुलिस अधीक्षक पूर्वी सुरेंद्र प्रसाद ने बताया कि स्वास्थ्यकर्मी की तहरीर पर मुकदमा दर्ज करते हुए आरोपी जितेंद्र प्रताप सिंह तथा तुषार सिंह निवासी ईशनपुर थाना कंधई को गिरफ्तार कर लिया गया है। तीसरे आरोपी की तलाश की जा रही है।
... और पढ़ें

बेल्हा देवी मंदिर के पुजारी समेत पांच लोगों की मौत

कोरोना की दूसरी लहर लोगों की जान पर भारी पड़ रही है। सोमवार को 24 घंटे के भीतर बेल्हा देवी मंदिर के पुजारी और कुंडा के एक व्यापारी समेत पांच लोगों की संक्रमण के चलते मौत हो गई। सदर विधायक राजकुमार पाल समेत 554 लोग संक्रमित मिले हैं। ज्यादा संक्रमितों को होम आइसोलेट करा दिया गया है। जिले में अब संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 9676 पहुंच गई है। इनमें 7029 लोग रिकवर हो गए हैं। वर्तमान में 2561 एक्टिव केस हैं। अब तक 90 लोगों की मौत हो चुकी है।

सोमवार को 24 घंटे के भीतर सदर विधायक समेत 554 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। वहीं शहर में स्थित बेल्हा देवी मंदिर के पुजारी, कुंडा के एक अधिवक्ता और एक व्यापारी को सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। तीनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उन्होंने दम तोड़ दिया। व्यापारी की मौत एलटू अस्पताल में हुई है। उधर, कोरोना संक्रमित बिहार ब्लाक में तैनात एक लिपिक और मानधाता ब्लाक के एक ग्राम पंचायत अधिकारी की भी मौत हो गई।

शहर और आसपास के गांवों को मिलाकर 22 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। सुखपाल नगर में चार, मानधाता में दो, रानीगंज में तीन व पट्टी में एक युवक कोरोना संक्रमित मिला है। कुंडा में 11 लोगों की रिपोर्ट पाजिटिव आई है। इस समय एलटू अस्पताल में 36 और अन्य अस्पतालों में 44 मरीज भर्ती है। वहीं 2481 कोरोना संक्रमित होम आइसोलेशन में हैं। सोमवार को मरीजों की संख्या ने पिछले सारे रिकार्ड तोड़ दिए। जिले में एक साथ इतने मरीज पहली बार मिले हैं।

बीस से अधिक कोरोना संदिग्धों की मौत
जिला अस्पताल के साथ सीएचसी, पीएचसी में आए कोरोना के 20 से अधिक संदिग्ध मरीजों की मौत हो गई। मरने वालों में ज्यादातर लोगों को सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। चिकित्सक भी यह मान रहे हैं कि कोरोना के चलते लोगों की मौतें हुई हैं, लेकिन बिना जांच रिपोर्ट के वे इसकी पुष्टि नहीं कर रहे हैं।

दिखावा बनी है आरटीपीसीआर जांच मशीन
जिले में भले ही आरटीपीसीआर जांच मशीन आ गई है, मगर इसके बाद भी मरीजों का सैंपल लेकर जांच के लिए लखनऊ या फिर प्रयागराज भेजा जा रहा है। चार से पांच दिन बाद रिपोर्ट आ रही है। इस बीच मरीज कई लोगों के संपर्क में आते हैं। जिससे संक्रमण फैल रहा है।

बेलखरनाथ के लैब टेक्नीशियन से दबंगों ने की अभद्रता
बेलखरनाथधाम सीएचसी में सोमवार सुबह दस बजे के करीब सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में उस समय अफरातफरी मच गई, जब कोविड-19 की जांच कराने आए दो युवक लैब टेक्नीशियन दिलीप गुप्ता से मारपीट पर आमादा हो गए। दोनों युवक पट्टी कोतवाली क्षेत्र के गजरिया गांव के बताए जा रहे हैं। ब्लाक कार्यक्रम प्रबंधक लोकेश श्रीवास्तव ने तत्काल चौकी प्रभारी दीवानगंज को फोन पर मामले की जानकारी दी। मौके पर पहुंची पुलिस दोनों युवकों को समझाने का प्रयास करती रही, लेकिन वे लैब टेक्नीशियन से गालीगलौज करते रहे। इस पर पुलिस दोनों को चौकी उठा ले गई।
... और पढ़ें

पेट के बल लेटने से दूर हो सकती है ऑक्सीजन की कमी

कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच उपचार में ऑक्सीजन की कमी की समस्या सबसे अधिक आ रही है। शरीर में ऑक्सीजन की कमी होने के कारण कई संक्रमितों को अस्पताल ले जाने की जरूरत पड़ रही है। समय पर ऑक्सीजन न मिलने के कारण लोगों की सांसें भी थम जा रही हैं। ऑक्सीजन की कमी को पेट के बल लेटकर भी दूर किया जा सकता है।

सांस लेने में दिक्कत महसूस करने वाले बहुत से लोग होम आइसोलेशन में उपचार कर रहे हैं। उनको ऑक्सीजन की कमी के चलते दिक्कत हो रही है। जिला अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सक मनोज खत्री के अनुसार होम आइसोलेशन में रह रहे मरीज अपने सोने की पोजीशन में थोड़ा बदलाव कर ऑक्सीजन की कमी को दूर कर सकते हैं। पेट के बल लेटने से ऑक्सीजन की कमी को दूर किया जा सकता है। इसके लिए केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने पोस्टर भी जारी किया है। जिसमें लोगों को तरीके बताए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग लोगों को जागरूक कर रहा है। ऑक्सीजन की कमी होने पर लोगों को स्वास्थ्य विभाग की गाइडलाइन का अनुपालन कर कमी को दूर करना चाहिए।

कोरोना पॉजिटिव के लिए चार तरीके फायदेमंद
संक्रमित मरीजों के लिए नींद की चार स्थितियां महत्वपूर्ण है। इनमें 30 मिनट से लेकर 2 घंटे तक पेट के बल सोने, 30 मिनट से 2 घंटे तक बायीं व दायीं ओर करवट और 30 मिनट से लेकर 2 घंटे तक दोनों पैर सीधे कर पीठ को किसी जगह टिकाकर बैठने की सलाह दी गई है।

इन बातों का रखें ख्याल
- खाने के एक घंटे तक पेट के बल सोने से परहेज करें
- पेट के बल जितनी देर आसानी से सो सकते हैं, उतना ही प्रयास करें

ऐसे लोग पेट के बल सोने से बचें
-गर्भावस्था के दौरान
-गंभीर हृदय रोग में
- स्पाइन, फीमर एवं पेल्विक फ्रैक्चर की स्थिति में

पेट के बल लेटने के लिए तकियों की जरूरत
कोरोना पॉजिटिव को सांस लेने में दिक्कत होने या ऑक्सीजन लेवल 94 से कम होने पर पेट के बल सोने की सलाह दी गई है। इसके लिए सबसे पहले पेट के बल लेटें। एक या दो तकिया सीने के नीचे रख लें। दो तकिया पैर के टखने के नीचे रखें। इस तरह 30 मिनट से लेकर 2 घंटे तक सो सकते हैं। चिकित्सक मनोज खत्री के अनुसार होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों के तापमान, ऑक्सीजन के स्तर, ब्लड प्रेशर एवं शुगर की नियमित जांच होनी चाहिए।
... और पढ़ें

प्रतापगढ़ में बारह वर्षीय बालिका को घर में बुलाकर किया दुष्कर्म 

आसपुर देवसरा इलाके के एक गांव में पड़ोसी युवक ने 12 वर्षीय बालिका को बहाने से घर बुलाकर उसके मुंह में कपड़ा ठूंसकर  दुराचार किया। घटना के बाद वह बालिका को धमकी देते हुए फरार हो गया। बच्ची की हालत बिगड़ने पर परिजनों को घटना की जानकारी हुई। परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। पुलिस ने आरोपी को पकड़ने के लिए दबिश दी, लेकिन वह फरार मिला। उसके परिवारीजन भी घर में ताला लगाकर गायब हैं। सूचना पर एएसपी पूर्वी बालिका का बयान दर्ज करने पहुंचे। 

दुराचार की शिकार बालिका ने पुलिस को तहरीर देकर बताया कि पड़ोसी सूरज ने दस दिन पूर्व उसे अपने घर में बुलाया। उससे घर के अंदर से बिस्तर लाने के लिए कहा। जैसे ही वह कमरे में गई कि पीछे से आए सूरज ने उसके मुंह में कपड़ा ठूंस  दिया। इसके बाद धमकाकर उसके साथ दुराचार किया। आरोपी ने उसकी और उसके माता-पिता की हत्या की धमकी दी।

सहमी बालिका ने घर में किसी को घटना की जानकारी नहीं दी। कुछ दिनों बाद उसकी हालत बिगड़ने पर परिजनों को घटना की जानकारी हुई। बुधवार को परिजन उसे लेकर आसपुर देवसरा थाने पहुंचे और पुलिस को तहरीर दी। पुलिस ने किशोरी की तहरीर पर आरोपी सूरज के खिलाफ केस दर्ज कर लिया। उसकी तलाश में दबिश दी गई, लेकिन वह फरार मिला। उसके परिजन भी फरार हैं। घटना की सूचना पाकर अपर पुलिस अधीक्षक सुरेंद्र द्विवेदी गांव पहुंचे और पीड़िता का बयान दर्ज किया। एएसपी ने बताया कि रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है।आरोपी युवक की तलाश की जा रही है।
... और पढ़ें

कुंडा में पंचायत चुनाव में बवाल करने में 50 लोग गिरफ्तार

सोमवार को मतदान के दौरान बूथों पर मारपीट के साथ ही बूथ लूटने, मतपेटियों में पानी डालने और मतपत्रों को जलाने की घटना में पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है। बुधवार को पुलिस ने 50 आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। 15 आरोपियों के पास से लूटे गए दो बैलेट बॉक्स व फटे मतपत्र भी बरामद किए गए हैं।

कुंडा कोतवाली के अघिया गांव में मतदान के दौरान कुछ लोगों ने मारपीट करते हुए मतपेटिका में पानी डाल दिया था। इसके चलते वहां का मतदान प्रभावित हुआ। इस दौरान प्रत्याशी व उसके समर्थकों से मारपीट की गई थी। पीड़ित अमर कुमार की तहरीर पर पुलिस ने गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया था।  बुधवार को सात लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया। बाघराय थाने के त्रिलोकपुर में मतदान केंद्र पर तोड़फोड़, मारपीट, लूटपाट करने वाले 15 लोगों को गिरफ्तार किया गया। पकड़े गए लोगों के पास से 2 बैलेट बाक्स, फटे मतपत्र, चुनाव संबंधित कागजात, घटना में प्रयोग की गई स्कार्पियो गाड़ी, मोटर साइकिल बरामद कब्जे में ली गई।

इसी प्रकार नवाबगंज थाना क्षेत्र के बरियावां में मतपेटी लूटकर ग्रामीणों ने मतपत्रों को निकालकर जला दिया था। इस दौरान पीठासीन अधिकारी से मारपीट की गई थी। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर चार महिलाओं समेत नौ लोगों को गिरफ्तार कर लिया। संग्रामगढ़ थाना क्षेत्र के पुरैली मकदूमपुर व बिजलीपुर बनगढ़वा में मतदान कर्मियों से मारपीट कर मतपेटी व मतपत्र लूटने वाले 19 लोगों को गिरफ्तार किया गया। पूरैली मकदूमपुर मतदान केंद्र पर मारपीट कर मतपत्र, मतपेटी लूटी गई थी। बुधवार को इन सभी का चालान करते हुए जेल भेज दिया। 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us