जिले में नहीं बना है पीडियाट्रिक आईसीयू वार्ड

Allahabad Bureau इलाहाबाद ब्यूरो
Updated Mon, 31 May 2021 12:52 AM IST
pediatric ward could not be made in any hospital
विज्ञापन
ख़बर सुनें
प्रतापगढ़। कोरोना की तीसरी लहर में सबसे ज्यादा खतरा बच्चों के लिए है। मगर स्वास्थ्य विभाग के अफसर इस इससे पूरी तरह से अंजान बने हैं। अभी तक बच्चों को भर्ती कर इलाज करने के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से पीडियाट्रिक आईसीयू वार्ड तक नहीं तैयार किया गया है। बगैर पीडियाट्रिक वार्ड के ही तीसरी लहर में संक्रमित होने वाले बच्चों की जान बचाने का दावा स्वास्थ्य महकमा कर रहा है।
विज्ञापन

कोरोना की दूसरी लहर ने इस कदर कहर बरपाया कि सौ से अधिक संक्रमितों की मौत हो गई। हजार से ज्यादा संदिग्ध कोरोना पॉजिटिव मरीजों ने दम तोड़ दिया। पहली लहर से ज्यादा कोरोना संक्रमित मरीज दूसरी लहर में पाए गए थे। वहीं विशेषज्ञ ही बताते हैं कि कोरोना की तीसरी लहर इससे भी ज्यादा खतर नाक साबित हो सकती है। तीसरी लहर में सबसे ज्यादा खतरा बच्चों को है। इसके बावजूद पीएचसी और सीएचसी तो दूर जिला अस्पताल, महिला अस्पताल और एलटू में अब तक पीडियाट्रिक आईसीयू को क्रियाशील नहीं किया गया है। जिला अस्पताल हो या फिर महिला अस्पताल में आईसीयू की व्यवस्था नहीं किया गया है। महज महिला अस्पताल के एसएनसीयू के भरोसे स्वास्थ्य विभाग के अफसर कोरोना की तीसरी लहर से जंग जीतने का प्रयास कर रहे हैं। जबकि शासन ने कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर में सबसे अधिक बच्चों के संक्रमित होने की बात कही जा रही है। जिससे बचाव के लिए शासन स्तर से जिले में तैयारियां करने के निर्देश दिए गए हैं। जिला अस्पताल के सीएमएस डॉ. पीपी पांडेय सोमवार को सेवानिवृत्त हैं।

वहीं मेडिकल कॉलेज के प्रचार्य से बात की गई तो उन्होंने कहा कि जिला अस्पताल में मेडिकल कॉलेज का निर्माण कार्य प्रगति पर है। ऐसे में कुछ नया कार्य कराया नहीं जा सकता है। कार्य पूरा होने के बाद ही कुछ हो सकता है। इसके बावजूद कोरोना की तीसरी लहर में बच्चों की जान बचाने के लिए चिल्ड्रेन वार्ड को तैयार रखा गया है। सभी बेड पर ऑक्सीजन पाइप लाइन का सप्लाई करा दी गई है। यदि बच्चों को जरूरत पड़े तो तत्काल उन्हें ऑक्सीजन मुहैया कराया जा सके।
कोविड अस्पताल के वेंटिलेटर लगाने पर विचार
बच्चों के लिए जिला अस्पताल के कुपोषण पुनरवार्स केंद्र को पीडियाट्रिक आईसीयू बनाने की तैयारी की जा रही है। अत्याधुनिक बेड, वेंटिलेटर, मॉनीटर, ऑक्सीजन सिलिंडर सहित अन्य उपकरणों से सुसज्जित करने की तैयारी स्वास्थ्य महकमा करने लगा है।
कोरोना की तीसरी लहर आने के पहले ही तैयारी शुरू कर दी गई है। जिला अस्पताल के कुपोषण पुनर्वास केंद्र के साथ रानीगंज ट्रामासेंटर व कालाकांकर सीएचसी में पीडियाट्रिक आईसीयू जल्द ही बनकर तैयार हो जाएगा। -डॉक्टर एसके सिंह, डिप्टी सीएमओ।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00