Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Rampur ›   abdullah azam khan said up assembly election will be people versus government i will give azam khan message when time comes

जेल से बाहर आए अब्दुल्ला बोले: यह चुनाव अवाम बनाम सरकार होगा, आजम खां का संदेश वक्त आने पर दूंगा

संवाद न्यूज एजेंसी, रामपुर Published by: Vikas Kumar Updated Sun, 16 Jan 2022 07:56 PM IST

सार

सीतापुर जेल से जुड़े मीडिया के सवाल पर अब्दुल्ला आजम का दर्द छलक उठा। उन्होंने कहा कि आज भी मेरे बेगुनाह वालिद वहां आठ बाई आठ की तन्हा बैरक में बंद हैं, इससे ज्यादा ज्यादती और क्या हो सकती है।
अब्दुल्ला आजम खां
अब्दुल्ला आजम खां - फोटो : amar ujala
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

सपा सांसद आजम खां के साथ करीब 23 माह सीतापुर जेल में काटने के बाद शनिवार देर रात रामपुर पहुंचे उनके बेटे अब्दुल्ला आजम ने कहा कि यह विधानसभा चुनाव अवाम बनाम सरकार होगा। महंगाई, बेरोजगारी बढ़ी है और कानून व्यवस्था की स्थिति बद से बदतर हो गई है। लोग परेशान हैं, उनके साथ अन्याय हुआ है। 

विज्ञापन


जमानत पर रिहाई मिलने के बाद अब्दुल्ला आजम देर रात में ही मीडिया से मुखातिब हुए। इस दौरान जेल से आजम खां द्वारा जेल से दिए गए संदेश के बाबत पूछने पर उन्होंने कहा कि आजम खां का अवाम के नाम संदेश वक्त आने पर दूंगा। भाजपा पर तंज कसते हुए कहा कि एक कहावत है कि डूबती हुई नाव से सब भागते हैं, वो हो रहा है।   


सरकार और नौकरशाही पर मनमानी का आरोप लगाते हुए अब्दुल्ला आजम ने कहा कि जितना जुल्म हो सकता था और जितनी तकलीफ दी जा सकती थी मुझे और मेरे परिवार को, मेरी मां को, मेरे वालिद को, दी गई है। कोरोना होने के बाद उनके इलाज में देरी की गई। आज भी मेरे वालिद को वहां जान का खतरा है। 

सवालिया अंदाज में बोले, आप बताओ चित्रकूट जेल में जो हुआ, यूपी की बाकी जेलों में क्या हो रहा है। यूपी के थानों में क्या नहीं हो रहा, किससे छुपा है। कितनी कस्टोडियल डेथ हो गईं। गोरखपुर में एक व्यापारी को कैसे मार दिया। लखनऊ में एक इंजीनियर को कैसे मार दिया और उन्नाव की बेटी को कैसे जला दिया गया। ऐसा नहीं है कि दुनिया देख नहीं रही है। बताइए आप अगर मैं गलत कह रहा हूं तो।
 
अब्दुल्ला आजम ने कहा कि सिर्फ हमारे लिए भैंस चोरी और बकरी चोरी में बंद करने के लिए पुलिस है, जबकि पुलिस के इंस्पेक्टर गैंगरेप में पकड़े जाते हैं। उन्होंने कहा कि यह चुनाव अवाम बनाम सरकार होगा।
 

छलका अब्दुल्ला का दर्द, बोले-आठ बाई आठ की तन्हा बैरक में मेरे बेगुनाह वालिद आज भी बंद हैं

सीतापुर जेल से जुड़े मीडिया के सवाल पर अब्दुल्ला आजम का दर्द छलक उठा। उन्होंने कहा कि आज भी मेरे बेगुनाह वालिद वहां आठ बाई आठ की तन्हा बैरक में बंद हैं, इससे ज्यादा ज्यादती और क्या हो सकती है।

उन्होंने कहा कि आपको क्या लगता है कि जेल में हमारा समय कैसे कटा होगा। आठ बाई दस की कोठरी, जिस पर दो फीट का टायर और आठ बाई आठ की तन्हाई बैरक है। ऐसे मुकदमे में जिसमें 7 लोग एंटीसिपेटरी बेल (अग्रिम जमानत) पर बाहर हैं और एक अकेले आजम खां साहब जेल में हैं। 

बता दें कि अब्दुल्ला आजम के खिलाफ जिले भर के अलग-अलग थानों में 45 मुकदमे दर्ज किए गए थे। इनमें से दो मामले उनकी नामजदगी झूठी पाए जाने पर खारिज हो गए थे, जबकि 43 मुकदमे कोर्ट में ट्रायल के लिए पहुंचे थे। इन सभी मामलों में कोर्ट से जमानत मिलने के बाद सीतापुर जेल से रिहा होकर अब्दुल्ला आजम शनिवार देर रात रामपुर पहुंचे।

आचार संहिता और कोविड प्रोटोकॉल के नाम पर शोषण का लगाया आरोप

आजम ने कहा कि आचार संहिता और कोविड प्रोटोकॉल के नाम पर ऐसे शोषण किया जा रहा है कि लोग घर तक नहीं आ सकते। कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने पर भी लोगों को मिलने नहीं दिया जाता। 

उन्होंने कहा कि मैं तो जेल से निकला था, मैंने किसी से आने को नहीं कहा था। कोई अगर मुझे मोहब्बत से लेने आता है तो मैं मोहब्बत को नहीं रोक सकता। मेरी खुशनसीबी है कि मुझे प्यार करने वाले सीतापुर तक आए। न तो कोई काफिला था, न कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन हुआ। गाड़ी में चार आदमी मास्क लगाए हुए थे बस लेकिन पुलिस को कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन नजर आता है।

अपने घर के आसपास पुलिस मुस्तैदी देख अब्दुल्ला ने तुनक मिजाजी से पुलिस कर्मियों से कहा, यह तो घर है मेरा, अब घर जाने से पहले भी गाड़ी रोक दी जाएगी। सब प्रोटोकॉल विपक्ष के लिए है, ये कहां का इंसाफ है, कैसा लोकतंत्र है। कहा कि कुछ भी कर सकते हैं, पुलिस वाले हैं। कितने बेगुनाहों को मार दिया और कितने ही बेगुनाहों जेल भेज दिया।

पुलिस पर तंज कसते हुए खाना खाने की इजाजत मांगी। कहा कि भाई खाना खा लें घर जाकर। आप कहो तो वह भी न खाएं। रामपुर के डीएम रहे और मुरादाबाद के मौजूदा मंडलायुक्त पर कटाक्ष करते हुए पुलिस से कहा, कह दो कमिश्नर साहब ने मना कर दिया है।

मंगलवार को पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ कर सकते हैं बैठक

अब्दुल्ला आजम खां की जमानत पर जेल से रिहाई की तैयारी देख जहां तमाम उनके समर्थक व सपा कार्यकर्ता सीतापुर तक पहुंच गए, वहीं शनिवार देर रात रामपुर में उनकी सक्रियता बनी रही।

रामपुर में देर रात उन्होंने कुछ समय मीडिया से बात की और समर्थकों व कार्यकर्ताओं से मुलाकात की लेकिन रविवार दिन में वह पूरी तरह रिजर्व रहे। इस दौरान उनके घर तक पहुंचे मीडिया वालों को बातचीत का मौका नहीं मिला तो कार्यकर्ताओं की उनके साथ आधिकारिक बैठक की उम्मीद भी हकीकत नहीं बनी। इस बीच रामपुर ही नहीं कई और जिलों के कार्यकर्ता भी उनसे मुलाकात और बातचीत की उम्मीद में उनके घर तक पहुंचे थे।

पारिवारिक सूत्रों ने दोपहर में उनके दिल्ली चले जाने की बात कही है। चर्चा है कि वहां से वह दिल्ली जाएंगे। मंगलवार को रामपुर में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ विस्तार से मुलाकात और आधिकारिक बैठक कर सकते हैं। इस बैठक में चुनावी योजना पर चर्चा भी संभावित है।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00