लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Saharanpur ›   Paddy, maize and urad crops damaged due to rain

बारिश का कहर जारी: खेतों में भरा पानी, धान, मक्का और उड़द की फसल को नुकसान

अमर उजाला ब्यूरो, सहारनपुर Published by: मेरठ ब्यूरो Updated Sat, 24 Sep 2022 05:07 PM IST
सार

लगातार हो रही बारिश से खेतों में पानी जमा हो गया है। ऐसे में धान की फसल को नुकसान होने की आशंका है। पढ़िए पूरा अपडेट।

धान की फसल को नुकसान।
धान की फसल को नुकसान। - फोटो : amar ujala
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

सहारनपुर जिले में पिछले दो-तीन दिन से रुक-रुककर हो रही बारिश से धान की फसल को नुकसान होने की आशंका पैदा हो गई है। खेतों में बारिश का पानी जमा हो गया है। हवा चलने के बाद कई स्थानों पर धान की फसल गिर गई। मक्का और उड़द की फसलों को भी नुकसान हुआ है। चिलकाना में उफान पर आईं नदियों का पानी खेतों में भर गया है।



साढ़ौली कदीम में किसान अवनीश कुमार, सुखदेव, प्रमोद कुमार, योगेंद्र कुमार और सुखपाल का कहना है कि खेतों में उनकी मक्का, उड़द एवं धान की फसल तैयार खड़ी है। यदि बारिश नहीं रुकी तो फसलें बरबाद हो जाएंगी।


बड़गांव क्षेत्र के किसानों शिवकुमार सिंह, सुरेंद्र सिंह, जनेश, नरेंद्र अरुण आदि का कहना है बारिश के साथ आई हवा से उनकी धान की फसल नीचे गिर गई है। अगर बारिश नहीं रुकी तो हालात और खराब होंगे।

यह भी पढ़ें: अनोखा मामला: महिला से छेड़छाड़ करने का ऐसा अंजाम, आरोपी पर टूट पड़ा पालतू कुत्ता, नोंचकर किया ये हाल, तस्वीरें

गागलहेड़ी क्षेत्र के बीरम सिंह यादव, सगीर अहमद, राम सिंह आदि किसानों ने बताया की अभी धान की फसल तैयार हो गई है। अब पानी की आवश्यकता नहीं है। किसानों ने बताया कि मौसम साफ होने की वजह से मक्का और उड़द की फसल की बुवाई हो चुकी थी लेकिन बारिश ने पानी फेर दिया।

चिलकाना क्षेत्र से गुजर रही मसखरा नदी का पानी खादर क्षेत्र में आने से धान की फसल डूबने के कगार पर है। गांव नथमलपुर, धौलाहेड़ी, पाजबांगर, दानतपुर, दौलतपुर, रावणपुर, बहादरा, डिंडोली खेड़ा, सुलतानपुर के जंगल में ज्यादा मात्रा में पानी भरा हुआ है।

यह भी पढ़ें: Agniveer Bharti 2022: निराश चेहरा, हाथों में जूते और कंधों पर बैग, अग्निवीर बनने पहुंचे थे युवा पर...

गांव नथमलपुर के चौधरी मारूफ, रावणपुर के रामकुमार सैनी, धौलाहेड़ी के अरविंद कुमार ने बताया कि खादर क्षेत्र में नदी का ज्यादा पानी आने की संभावना बढ़ गई है। चोवा बढ़ने से खेतों में लगातार पानी भरा रहेगा। यमुना में भी पानी धीरे-धीरे बढ़ रहा है। बूढ़ी यमुना नदी का पानी गांव पंचकुंआ, नारायणपुर, दूधगढ़, टापू माजरी, टोडरपुर भूखड़ी के खेतों में भर गया है।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00