लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Sambhal ›   Scam: More money sent to the account of favorite laborers

घपला : चहेते मजदूरों के खाते में भेज दी अधिक धनराशि

Moradabad  Bureau मुरादाबाद ब्यूरो
Updated Sun, 02 Oct 2022 02:03 AM IST
सार

पवांसा ब्लॉक की ग्राम पंचायत निबौरा में मनरेगा के कार्यों में घपलेबाजी सामने आई है।रोजगार सेवक और मनरेगा के तकनीकी सहायक ने अपने चहेते मजदूरों के खातों में फर्जी तरीके से कम कार्य के बदले अधिक कार्य दिखाकर धनराशि भेज दी।ब्लॉक स्तरीय अधिकारियों की टीम ने जांच कर रिपोर्ट बीडीओ को सौंप दी है।

Scam: More money sent to the account of favorite laborers
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

संभल। पवांसा ब्लॉक की ग्राम पंचायत निबौरा में मनरेगा के कार्यों में घपलेबाजी सामने आई है। रोजगार सेवक और मनरेगा के तकनीकी सहायक ने अपने चहेते मजदूरों के खातों में फर्जी तरीके से कम कार्य के बदले अधिक कार्य दिखाकर धनराशि भेज दी। ब्लॉक स्तरीय अधिकारियों की टीम ने जांच कर रिपोर्ट बीडीओ को सौंप दी है।

ग्रामीणों ने 27 जुलाई को बीडीओ से शिकायत की थी कि मनरेगा के कार्यों में धांधली की जा रही है। जांच अधिकारी एडीओ कॉपरेटिव अनिल कुमार ने जांच रिपोर्ट में बताया है कि झब्बालाल के खेत से रुदायन वाली सड़क तक कच्चे मार्ग और रनवीर के खेत से देवेंद्र के खेत तक मिट्टी का कार्य में रोजगार सेवक के द्वारा मनरेगा के मजदूरों के द्वारा किए गए कार्य के बाद हस्ताक्षर और अंगूठे का निशान नहीं लगाया गया। रोजगार सेवक खुद ही हस्ताक्षर और अंगूठा का निशान लगाकर जसवीर, कैलाश, भजनलाल और महेंद्र के खाते में 14 दिन की धनराशि भेज रहे हैं।

रामा देवी के खाते में भी 14-14 दिन की दो बार धनराशि भेजी गई है। रोजगार सेवक शकील अहमद के द्वारा मनरेगा के मजदूरों से तीन गुना कार्य कराया जाता है, जबकि मजदूरों को इसकी कोई जानकारी नहीं है। बिना काम किए अधिक कार्य का पैसा फर्जी तरीके से अपने ही लोगों के खाते में डाल कर सांठगांठ कर ली जाती है। कई मनरेगा मजदूर ऐसे भी हैं, जो घर बैठे ही खाते में धनराशि पा लेते हैं। रोजगार सेवक और तकनीकी सहायक ने 800 मीटर की सड़क में दो स्टीमेट बना दिए हैं। यह नियमों के विरुद्ध कार्य किया गया है। मनरेगा सहायक तकनीकी गौरव कुमार भी इस मामले में दोषी पाए गए हैं।
वर्जन
निबौरा में रोजगार सेवक के द्वारा कार्य को लेकर हुई शिकायत की जांच एडीओ कॉपरेटिव से कराई गई है। एक ही रास्ते के दो एस्टीमेट बने हैं, जो तकनीकी कारणों से हो गया है। धनराशि दो बार नहीं निकाली गई है। रोजगार सेवक और तकनीकी सहायक के खिलाफ जांच के आधार पर सोमवार को कार्रवाई की जाएगी। रिजवान हुसैन, खंड विकास अधिकारी, पवांसा।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00