लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

संतकबीरनगर: कबीर की धरती पर दिखेगी CM सिटी मॉडल की झलक, बनेगा सैटेलाइट टाउन

शोभित कुमार पांडेय, संतकबीरनगर। Published by: गोरखपुर ब्यूरो Updated Wed, 05 Oct 2022 01:46 PM IST
कबीरस्थली।
1 of 5
विज्ञापन
सीएम सिटी मॉडल की झलक अब कबीर की धरती पर दिखाई देगी। क्योंकि संतकबीरनगर जिले को पीपुल ओरिएंट मास्टर प्लान के जरिए सेटेलाइट टाउन बनाने की कवायद शुरू हो गई है। यहां औद्योगिक विकास के साथ पर्यटन विकास को बढ़ावा देने का खाका तैयार किया जा रहा है।

बस्ती जिले से अलग कर वर्ष 1997 में संतकबीरनगर जिले का सृजन हुआ था। यहां की पहचान कबीर की परिनिर्वाण स्थली और बखिरा झील है। खलीलाबाद में औद्योगिक क्षेत्र भी है। बदलते दौर में यहां का विकास ठहर सा गया है। गोरखपुर से सटा जनपद होने के नाते यहां के लोगों की अपेक्षाएं भी अधिक हैं। गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस वे सिकरीगंज से होकर जिले की धनघटा तहसील से गुजरेगा। बांसी-नंदौर से खलीलाबाद होते हुए धनघटा से आंबेडकरनगर होकर लिंक एक्सप्रेस वे में सड़क मिलेगी। इससे रामजानकी मार्ग के चौड़ीकरण का रास्ता भी साफ होगा।
 
बखिरा झील।
2 of 5
गोरखपुर-लखनऊ राष्ट्रीय राजमार्ग के किनारे जनपद स्थित है, मगर अफसोस है कि जनपद का मास्टर प्लान नहीं बन पाया। जिला मुख्यालय अनियोजित तरीके से बसा है। यही वजह है कि औद्योगिक घराने की नजर यहां नहीं पड़ती। डीएम प्रेम रंजन सिंह की पहल पर प्रदेश सरकार के टाउन एंड कंट्री प्लानिंग विभाग के टाउन प्लानर हृतेश कुमार को संतकबीरनगनर जिले से संबंद्ध किया गया है। टाउन प्लानर हृतेश कुमार दस दिनों में दो बार जिले का दौरा कर चुके हैं।
विज्ञापन
संतकबीरनगर में बंद पड़ी फैक्ट्री
3 of 5
गीडा को जिले में लाने का प्रयास
गीडा का विस्तार गोरखपुर के भीटी रावत और कसरवल तक हो चुका है। जिला प्रशासन की गीडा के जिम्मेदारों से बातचीत चल रही है। गोरखपुर के कसरवल के बाद जिले की सीमा मगहर पुल से शुरू हो जाती है। ऐसे में उम्मीद है गीडा का प्रवेश भी जिले में होगा। इससे रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। जिला प्रशासन यूपीएसआईडीसी के जरिए मास्टर प्लान में लैंड यूज देकर औद्योगिक विकास को बढ़ावा देने का प्रयास कर रहा है।
 
बखिरा झील
4 of 5
रामगढ़ ताल की तर्ज पर विकसित होगी बखिरा झील
पर्यटन विकास को बढ़ावा देने के लिए डीएम का बखिरा झील व कबीर स्थली पर अधिक फोकस है। डीएम की रणनीति है कि इसकी ब्रांडिंग कर यहां पर्यटकों को लुभाने की सुविधाएं मुहैया कराई जाएं। पर्यटकों के लिए होटल, रेस्टोरेंट आदि की सुविधाएं हों, लाइटिंग सिस्टम को और मजबूत किया जाए। आमी नदी में लोगों को लुत्फ उठाने के लिए संसाधन उपलब्ध कराने की तैयारी भी चल रही है। सहजनवां से घघसरा होकर जो मार्ग बखिरा जाता है, उसी मार्ग से सीधे झील तक जाने के लिए सड़क भी बनाई जाएगी। झील के चारों तरफ पाथवे बनाए जाएंगे। बीच-बीच में दर्शक दीर्घा, नेचर टेल, मैग्रोव प्लाटेशन लगाने की योजना है। बोटिंग की सुविधा के साथ फोटोग्राफी के लिए लोकेशन चिह्नित किए जाएंगे।
 
विज्ञापन
विज्ञापन
डीएम प्रेम रंजन सिंह।
5 of 5
डीएम प्रेम रंजन सिंह ने कहा कि गोरखपुर मॉडल की तर्ज पर जिले को विकसित कराने का प्लान तैयार किया जा रहा है। संतकबीरनगर में औद्योगिक विकास के साथ बखिरा झील को विकसित किया जाएगा।
 
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00