Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Siddharthnagar ›   controversy over appointment as a assistant professor of arun kumar brother of basic education minister satish chandra dwivedi in ews quota

यूपी: शिक्षा मंत्री के भाई को कमजोर आर्थिक वर्ग के कोटे से बना दिया असिस्टेंट प्रोफेसर, विपक्ष ने खड़े किए सवाल

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, सिद्धार्थनगर Published by: Vikas Kumar Updated Sun, 23 May 2021 10:56 PM IST

सार

सिद्धार्थ विश्वविद्यालय के अनुसार, नियुक्ति के लिए 150 लोगों ने आवेदन किया था। उनमें मेरिट के आधार पर अरुण कुमार दूसरे स्थान पर थे, जबकि साक्षात्कार, शैक्षणिक व अन्य अंकों के आधार पर प्रथम स्थान पर पहुंच गए। इस कारण उनका चयन किया गया। 
बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री सतीश चंद्र द्विवेदी के भाई अरुण कुमार
बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री सतीश चंद्र द्विवेदी के भाई अरुण कुमार - फोटो : amar ujala
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

उत्तर प्रदेश के बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री सतीश चंद्र द्विवेदी के भाई अरुण कुमार को आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) कोटे में असिस्टेंट प्रोफेसर पद पर मिली नियुक्ति विवाद में घिर गई है। कपिलवस्तु के सिद्धार्थ विश्वविद्यालय के मनोविज्ञान विभाग में मिली नियुक्ति की आलोचना करते हुए अरुण के ईडब्ल्यूएस प्रमाणपत्र की जांच की मांग की है।

विज्ञापन


सिद्धार्थ विश्वविद्यालय के अनुसार, नियुक्ति के लिए 150 लोगों ने आवेदन किया था। उनमें मेरिट के आधार पर अरुण कुमार दूसरे स्थान पर थे, जबकि साक्षात्कार, शैक्षणिक व अन्य अंकों के आधार पर प्रथम स्थान पर पहुंच गए। इस कारण उनका चयन किया गया। इस नियुक्ति के लिए शनिवार को सोशल मीडिया पर कई लोगों ने अरुण को बधाई दी। इसके बाद से ही वह विपक्ष के निशाने पर आ गए। आप सांसद संजय सिंह, पूर्व आईपीएस अमिताभ ठाकुर व उनकी पत्नी आरटीआई कार्यकर्ता डॉ. नूतन ठाकुर समेत प्रदेश के कई विपक्षी नेताओं ने उनकी नियुक्ति पर सवाल खड़े कर दिए। 


नूतन ठाकुर ने राज्यपाल समेत अन्य को भेजे  शिकायती पत्र में आरोप लगाया गया कि डॉ. अरुण कुमार शिक्षा मंत्री के भाई होने के साथ ही राजस्थान की वनस्थली विद्यापीठ के मनोविज्ञान विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर थे। ऐसे में उन्हें ईडब्लूएस प्रमाणपत्र मिलना प्रथमदृष्टया जांच का विषय है। उधर, कुलपति प्रो. सुरेंद्र दुबे के अनुसार, ईडब्ल्यूएस प्रमाणपत्र के आधार पर नियुक्ति हुई है। प्रमाणपत्र फर्जी होगा तो नियुक्ति निरस्त की जाएगी।
 
प्रशासन ने सही बताया ईडब्ल्यूएस प्रमाण पत्र
जिला प्रशासन ने अरुण के ईडब्ल्यूएस प्रमाण पत्र को सही ठहराया है। इटावा के तहसीलदार अरविंद कुमार के अनुसार, सामान्य वर्ग के आवेदक की वार्षिक आय आठ लाख रुपये से कम हो, शहरी क्षेत्र में उसका 1000 वर्गफुट से अधिक क्षेत्रफल का मकान न हो और उसके नाम पांच एकड़ से कम जमीन हो तो उसे ईडब्ल्यूएस कोटे में प्रमाण पत्र जारी किया जा सकता है।

बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. सतीश चंद्र द्विवेदी के भाई अरुण कुमार का ईडब्ल्यूएस प्रमाण पत्र पर्याप्त दस्तावेज के आधार पर बनाया गया है। यदि किसी की शिकायत आएगी तो जांच कराई जाएगी। - दीपक मीणा, जिलाधिकारी, सिद्धार्थनगर

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00