Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Varanasi ›   Krishna Janmashtami in Bhole city varanasi: Kanha will be born in house in Mohratri today

भोले की नगरी में कृष्ण जन्माष्टमी: आज मोहरात्री में घर-घर जन्मेंगे कान्हा, वाराणसी में गूंजेगी बधाई, घरों में तैयारियां पूरी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, वाराणसी Published by: गीतार्जुन गौतम Updated Mon, 30 Aug 2021 12:36 AM IST
काशी में जन्माष्टमी पर सज गए बाजार।
काशी में जन्माष्टमी पर सज गए बाजार। - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

भोले की नगरी काशी में नंदलाला के जन्मोत्सव को लेकर तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। ज्योतिष विधि-विधान के अनुसार गृहस्थ सोमवार को भगवान कृष्ण का जन्मदिन मनाएंगे। वहीं संन्यासी 31 अगस्त को बाल-गोपाल के प्राकट्य दिवस पर दर्शन करेंगे। रविवार को घरों में कृष्ण जन्माष्टमी की झांकी सजाने के लिए लोग देर शाम तक खरीदारी करते रहे। कोई उनका पोशाक पसंद कर रहा था तो कोई उनकी बांसुरी और मोर मुकुट चुनने में लगा हुआ था। शृंगार से जुड़े सामानों के साथ फूल और फल की भी खूब खरीदारी हुई।

विज्ञापन


काशी में दिखा ब्रज सा नजारा
हरे कृष्ण हरे राम संकीर्तन सोसाइटी द्वारा आयोजित तीन दिवसीय महामहोत्सव का रविवार को महमूरगंज स्थित माहेश्वरी भवन में हरे कृष्ण महामंत्र के साथ भव्य शुभारंभ किया गया। महोत्सव के अवसर पर राधा गोविंद देव, जगन्नाथ, बललदेव व सुभद्रा जी का शृंगार किया गया। झूला तो झूले रानी राधिका झूलावे नंद कुमार..., मन बस गयो नंद किशोर अब जाना नहीं कहीं और बसा लो वृंदावन में... भजनों से पूरा माहौल ब्रज जैसा लग रहा था।


अन्याय, अत्याचार और अंधकार पर विजय दिवस है जन्माष्टमी
पौराणिक कथाओं के अनुसार कृष्ण जन्माष्टमी संस्कार, संस्कृति, भारतीयता और राष्ट्रीयता का पर्व है। इस दिन अंधकार, अन्याय, अत्याचार और आतंकी भाव का शमन होता है। आज की पीढ़ी के लिए भगवान श्री कृष्ण के अवतार को अपना पथ प्रदर्शक माना जाता है। ये विचार संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. हरेराम त्रिपाठी ने कृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव के पूर्व संध्या पर व्यक्त किए।

कैसे करें भगवान को प्रसन्न
प्रो. त्रिपाठी ने बताया कि भगवान श्रीकृष्ण को प्रसन्न करने के लिए उपवास रखने के साथ विशेष पूजा-अर्चना करनी चाहिए। घर में मौजूद भगवान की प्रतिमा को पीले रंग के वस्त्र पहनाकर, धूप-दीप से वंदन करें। भगवान को पुष्प अर्पित करें, चंदन लगाएं। भगवान कृष्ण को दूध-दही, मक्खन विशेष पसंद हैं, ऐसे में इसका प्रसाद बनाएं और भगवान को अर्पित करें, सभी को वही प्रसाद दें।

संपूर्णानंद में आज मनाई जाएगी जन्माष्टमी
विश्वविद्यालय में कृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव की शुरुआत रात नौ बजे से होगी जो मध्यरात्रि 12 बजे तक चलेगा। मध्यरात्रि में परिसर स्थित मां वाग्देवी मंदिर में विश्वविद्यालय परिवार के साथ मनाया जाएगा।

सुंदरपुर स्थित मोना मेहरोत्रा और अजीत मेहरोत्रा के घर में कान्हा का जन्मदिवस धूमधाम से मनाया जाएगा। घर में झांकी सजाने के साथ भजन-कीर्तन का कार्यक्र म आयोजित है। लड्डू गोपाल को भोग लगाने के लिए मोना ने पंजीरी के लड्डू तैयार किए है।

घरों में सफाई संग रंगाई-पुताई
चितईपुर निवासी आनंदिता हर साल अपने हाथों से लड्डू गोपाल के लिए पोशाक, मोतियों की माला तैयार करती है। रविवार को उन्होंने घर में बने पूजा स्थल की साफ-सफाई कर रंगाई कर उसे झालरों से सजाया।

ओलंपिक का भी दिखेगा नजारा
कृष्ण जन्माष्टमी पर सजने वाली झांकी में ओलंपिक का नजारा भी दिखेगा। बाजारों में इस बार बाल गोपाल के लिए हॉकी और भाला भी आया है। वहीं मंदिरों व घर में इस थीम पर झांकी भी सजाने की तैयारी है।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00