बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
अपार धन की प्राप्ति हेतु कामिका एकादशी को कराएँ श्री लक्ष्मी-विष्णु जी का विष्णुसहस्त्रनाम-फ्री, रजिस्टर करें
Myjyotish

अपार धन की प्राप्ति हेतु कामिका एकादशी को कराएँ श्री लक्ष्मी-विष्णु जी का विष्णुसहस्त्रनाम-फ्री, रजिस्टर करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

उफान पर कालिंदी: तटवर्ती 40 गांव में अलर्ट, मथुरा में पोइया घाट पर यमुना लाल निशान पर

ताजनगरी में कालिंदी उफान पर है। जिला प्रशासन ने 40 तटवर्ती गांव में अलर्ट जारी किया है। निचले इलाकों में बसे लोगों को नदी किनारों पर जाने की मनाही है। बाढ़ नियंत्रण व राजस्व टीमों को तैयार रहने के निर्देश हैं। दिल्ली की तरफ से आ रहे पानी पर प्रशासन की नजर है।
रुनकता, अकबरा, सिकंदरा, कैलाश, दयालबाग के मनोहपुर, खासपुर, बसई मुस्तकिल समेत 12 से अधिक गांव में खेत पानी में डूब गए हैं। 40 गांव नदी तलहटी में बसे हैं। निचले इलाकों में पानी भरने से स्थानीय लोगों की धड़कने तेज हो गई हैं। जिला प्रशासन ने इन इलाकों के लोगों से नदी की ओर नहीं जाने की अपील करते हुए एहतियात बरतने को कहा है। रुनकता से फतेहाबाद तक यमुना डूब क्षेत्र में 40 से अधिक गांव शामिल हैं जिनमें सबसे पहले बाढ़ का पानी घुसता है।
मथुरा में पोइया घाट पर यमुना लाल निशान पर पहुंच गई है। गोकुल बैराज से आगरा की तरफ यमुना में डिस्चार्ज बढ़ाया जा रहा है। रविवार शाम चार बजे तक गोकुल से यमुना में 42,295 क्यूसेक पानी चल रहा है। उधर, हरियाणा स्थित ताजेवाला (हथिनीकुंड) बैराज से 15876 और ओखला बैराज से यमुना में 41674 क्यूसेक पानी डिस्चार्ज हो रहा है। इधर, बाढ़ नियंत्रण कक्ष की रिपोर्ट के मुताबिक रविवार शाम चार बजे वॉटर वर्क्स पर यमुना का जलस्तर 489.4 फीट पहुंच गया है। शनिवार को यह 487.1 फीट था। इसमें दो फीट से अधिक बढ़ोतरी दर्ज की गई है। अगले 24 घंटे में जलस्तर दो फीट और बढ़कर 491.4 फुट तक पहुंचने के आसार हैं। जवाहर पुल पर यमुना का लाल निशान (लो फ्लड लेवल) 495 फीट है।
 
... और पढ़ें
बल्केश्वर में पार्वती घाट की सीढ़ियां डूबीं बल्केश्वर में पार्वती घाट की सीढ़ियां डूबीं

मिर्जापुर में अमित शाहः अनुप्रिया पटेल बोलीं- गृहमंत्री ने बदल दिया देश का भूगोल, विंध्य विश्वविद्यालय की मांग की

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और सीएम योगी आदित्यनाथ मंगलवार को मिर्जापुर पहुंचे। राजकीय इंटर कॉलेज में आयोजित जनसभा में स्वागत करते हुए  केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग राज्य मंत्री एवं स्थानीय सांसद अनुप्रिया पटेल ने कहा कि गृहमंत्री ने भारत के इतिहास के साथ-साथ भूगोल को ही बदल दिया। गृहमंत्री बनने के बाद  भारत की सीमा को सुरक्षित करने के लिए कार्य किया। अटल टनल इसका जीता जागता उदाहरण है।

उन्होंने पांच अगस्त को अन्न महोत्सव के आयोजन की घोषणा की जिसमें एक करोड़ लोगों को नि:शुल्क खाद्यान्न दिया जाएगा। मिर्जापुर की सांसद ने कहा कि प्रधानमंत्री के निर्देशन में भारत बदल रहा है। वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का स्नेह जनपद को मिलता रहा है। वो कई मौके पर जिले में आए। हर बार उन्होंने कुछ न कुछ दिया।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि एक अगस्त का दिन स्वर्णाक्षरों में लिखा जाएगा। विंध्य कॉरिडोर निर्माण से दर्शनार्थियों की संख्या बढ़ेगी। उन्होंने मेडिकल परीक्षा में पिछड़ा वर्ग के 27 प्रतिशत कोटा को आरक्षित करने का निर्णय करने के लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद दिया। साथ ही प्रतापगढ़ मेडिकल कॉलेज का नामकरण डा. सोनेलाल पटेल के नाम पर करने के लिए सीएम योगी  के प्रति आभार जताया। उन्होंने विंध्य विश्वविद्यालय की भी मांग की।
... और पढ़ें

यूपी बोर्ड : परिणाम से संतुष्ट नहीं तो हेल्प डेस्क में करें शिकायत, ई-मेल और फोन नंबर जारी

यूपी बोर्ड के हाईस्कूल और इंटरमीडिएट का परिणाम जारी होने के बाद अगर कोई विद्यार्थी संतुष्ट नहीं हैं और परीक्षा फल को लेकर कोई समस्या है तो वह अपनी शिकायत हेल्प डेस्क में दर्ज करा सकता है। इसके लिए उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद ने क्षेत्रीय कार्यालायवार और मुख्य कार्यालय प्रयागराज के लिए विशेष रूप से निर्मित ईमेल और फोन नंबर जारी किए हैं।

परीक्षार्थी ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह से अपना प्रार्थनापत्र क्षेत्रीय कार्यालयों और मुख्य कार्यालय में उपलब्ध करा सकते हैं। विद्यार्थियों को उसी क्षेत्रीय कार्यालय में शिकायत दर्ज करानी है, जिस कार्यालय के तहत उनका जनपद है। छात्र-छात्राएं हेल्प डेस्क के संबंधित फोन नंबर पर संपर्क करके अपने कार्य की प्रगति और उसके नियमानुसार निराकरण के बारे में जानकारी भी प्राप्त कर सकते हैं। विद्यार्थियों को अपने प्रार्थना पत्र में अपना नाम, कक्षा, अनुक्रमांक, जनपद का नाम आदि विवरण अनिवार्य रूप से अंकित करना है।

किस क्षेत्रीय कार्यालय के तहत कौन से जिले
प्रयागराज कार्यालय - लखनऊ, हरदोई, सीतापुर, लखीमपु, खीरी, उन्नाव, रायबरेली, कानपुर नगर, कानपुर देहात, फर्रुखाबाद, कन्नौज, इटावा, औरैया, झांसी, बांदा, महोबा, जालौन, ललितपुर, चित्रकूट, हमीरपुर, प्रयागराज, कौशाम्बी, फतेहपुर, प्रतापगढ़।

वाराणसी कार्यालय - सुल्तानपुर, फैजाबाद, बाराबंकी, अंबेडकरनगर, अमेठी, आजमगढ़, मऊ, बलिया, जौनपुर, गाजीपुर, वाराणसी, चंदौली, भदोही, मिर्जापुर, सोनभद्र।
 
मेरठ कार्यालय - आगरा, फिरोजाबाद, मैनपुरी, मथुरा, एटा, अलीगढ़, हाथरस, कासगंज, बुलंदशहर, गाजियाबाद, गौतमबुद्ध नगर, मेरठ, बागपत, हापुड़, मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, शामली।
 
बरेली कार्यालय - मुरादाबाद, अमरोहा, बिजनौर, रामपुर, संभल, बरेली, बदायूं, शाहजहांपुर, पीलीभीत।
 
गोरखपुर कार्यालय - बहराइच, श्रावस्ती, गोंडा, बलरामपुर, बस्ती, संत कबीरनगर, सिद्धार्थनगर, गोरखपुर, महाराजगंज, देवरिया, कुशीनगर।
... और पढ़ें

तस्वीरों में देखेंः काशी में खतरे के निशान की ओर बढ़ने लगी गंगा, बदला घाटों का नजारा, शवदाह स्थल जलमग्न

वाराणसी में गंगा के जलस्तर में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। गंगा का जलस्तर अब खतरे के निशान की ओर बढ़ने लगा है। इससे जहां घाटों का संपर्क आपस में टूट गया है, वहीं हरिश्चंद्र और मणिकर्णिका घाट पर शवदाह स्थल भी बदल दिए गए हैं। केंद्रीय जल आयोग के अनुसार पहाड़ों पर हो रही तेज बरसात के कारण मिर्जापुर, बनारस, गाजीपुर और बलिया में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। पूर्वांचल के जिलों में आठ सेंटीमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ोत्तरी हो रही है। रविवार सुबह गंगा का जलस्तर 64.36 मीटर दर्ज किया गया।

पिछले 24  घंटे में गंगा के जलस्तर में 1.32 मीटर की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई।  बढ़ते जलस्तर को देखते हुए जिला प्रशासन ने जल पुलिस और एनडीआरएफ के जवानों को भी अलर्ट मोड पर रखा है। इधर, गंगा के उफान को देखते हुए वरुणा नदी के किनारे रहने वाले लोगों की चिंताओं को बढ़ा दिया है। जिसके चलते वरुणा के तटवर्ती इलाकों में रहने वाले लोगों ने बारिश के बचाव के लिए अभी से तैयारियां शुरू कर दी हैं। वरुणा के तटवर्ती क्षेत्रों में नक्खीघाट, सरैयां, अमरपुर मड़िया, शैलपुत्री आदि इलाकों में बाढ़ का पानी घरों में चला जाता है।
... और पढ़ें

मिर्जापुरः गृहमंत्री अमित शाह ने विपक्षियों पर चलाया सियासी तीर, कहा- भाजपा वोट बैंक की राजनीति से नहीं डरती

गंगा का जलस्तर अब खतरे के निशान की ओर
मिर्जापुर में जनसभा को संबोधित करते हुए गृहमंत्री अमित शाह ने पूरे प्रदेश के विकास पर एक सिरे से सरकार की उपलब्धियां गिनानीं शुरू की तो विपक्षी दलों और अखिलेश- मायावती तक को उन्होंने कठघरे में खड़ा कर सियासी तीर चलाए। अमित शाह ने मंच से कहा- क्यों राममंदिर नहीं बना, ब्रज का विकास क्यों नहीं हुआ, चित्रकूट धाम में भगवान श्रीराम ने 11 साल से ज्यादा बिताए उसका भी विकास नहीं हुआ, क्यों मां विंध्यवासिनी का कॉरिडोर नहीं बनाया गया। क्योंकि आप वोट बैंक की राजनीति से डरते थे, लेकिन भाजपा वोट बैंक की राजनीति से नहीं डरती। रविवार को मिर्जापुर के जीआईसी ग्राउंड में आयोजित जनसभा में गृह मंत्री पूरे रौब में दिखे। 

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने नीट व मेडिकल की प्रवेश की सीटों के अंदर ओबीसी को 27 प्रतिशत, गरीब के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण की घोषणा की है। जबकि राष्ट्रीय पार्टियां ओबीसी के मतदाताओं, पिछड़ों का वोट बैंक की तरह इस्तेमाल करती रहीं, उनके कल्याण के बारे में नहीं सोचा। अब मोदी सरकार अन्य जातियों के बच्चों के आरक्षण के बारे में भी विचार कर रही है।

उन्होंने कहा कि अखिलेश व बुआ 15 साल का हिसाब लाओ। जितना काम आपने किया होगा उससे कहीं ज्यादा योगी सरकार में चार साल में हो गया। गृहमंत्री ने कहा कि मिर्जापुर, चंदौली, सोनभद्र नक्सल मुक्त हो गए हैं। 1574 करोड़ की माफियाओं की संपत्ति जब्त हुई। उन्होंने वर्ष 2022 में योगी सरकार के लिए जनता का आशीर्वाद मांगा।

इससे पूर्व केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने विंध्यवासिनी मंदिर में दर्शन करने के बाद विंध्य कॉरिडोर के शिलान्यास का भूमि पूजन किया। इसके बाद कॉरिडोर के मॉडल के बारे में अधिकारियों से जानकारी प्राप्त की। बाद में जनसभा स्थल पर विंध्य कॉरिडोर के 128 करोड़ की लागत वाले प्रथम फेज का शिलान्यास व 16 करोड़ की लागत वाले दो रोपवे का लोकार्पण किया। 
... और पढ़ें

प्रयागराज : ढाई साल से पार्किंग में खड़ी हैं दो कारें, गाड़ी की आधी कीमत के बराबर हुआ किराया

सिविल लाइंस में बने मल्टीलेवल पार्किंग में करीब ढाई साल से खड़े दो कारों का पार्किंग शुल्क कार की आधी कीमत के बराबर पहुंच गया है। कई बार पार्किंग का ठेका बदल जाने के कारण कार का रसीद, रिकॉर्ड और टोकन भी गायब हो गया है। अब एक शख्स ने दावा किया है कि यह दोनों कारें उसकी हैं लेकिन उसने इसका बकाया ढाई लाख देने से साफ मना कर दिया है। पार्किंग ठेकेदार का आरोप है कि कथित कार मालिक ने कार का बकाया मांगने पर धमकी दी है। पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है।

मल्टीलेवल पार्किंग में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। एक शख्स ने कोरोना महामारी की पहली लहर के दौरान 2019 में पार्किंग में अपनी दो कारें खड़ी कर दी थीं और 100-100 रुपये की दो रसीदें भी दोनों कारों की कटवाई थीं। इसके बाद उस शख्स का पता नहीं चला। दोनों कारों पर धूल की मोटी परत जम गई है। कार जमा करने के रिकार्ड भी ठेकेदार के पास नहीं हैं। अब कार मालिक के द्वारा इसके कागजात दिखाने पर ही पता चल सकेगा कि आखिरकार इसका मालिक कौन है। अजीब बात यह है कि दोनों कारों पर नंबर भी नहीं है और रजिस्ट्रेशन प्लेट भी गायब है। ठेकेदार ने इसकी जानकारी ट्रैफिक पुलिस को दी है और बकाया दिलाने की गुहार लगाई है।

... और पढ़ें

प्रतापगढ़ : भारत माता की जय के जयकारे के साथ शहीद रितेश पाल के शव का अंतिम संस्कार, घाट पर उमड़ी भारी भीड़

आगरा में गरजे सतीश मिश्रा: भाजपा धर्म की ठेकेदारी करती है, सरकार में ब्राह्मण और अनुसूचित जाति के लोगों का उत्पीड़न

बहुजन समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सतीशचंद्र मिश्रा ने कहा कि ब्राह्मण और अनुसूचित जाति के लोगों को एकजुटता की जरूरत है। भाजपा की सरकार में इन दोनों वर्गों का उत्पीड़न बढ़ गया है। भाजपा ने राम को कमाई का जरिया बना लिया है। बसपा सरकार ने अयोध्या, मथुरा और वाराणसी में विकास कार्य कराए थे। 
आरबीएस कॉलेज के ऑडिटोरियम में रविवार को आयोजित बसपा के प्रबुद्ध सम्मेलन में मुख्य अतिथि मिश्रा ने कहा कि भाजपा सरकार धर्म की ठेकेदारी करती है। उन्होंने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर के नाम पर करोड़ों रुपये इकट्ठा किए, लेकिन अयोध्या में विकास नहीं कराया। उनकी सरकार में अयोध्या, मथुरा व वाराणसी में विकास हुआ। 
उन्होंने ब्राह्मण उत्पीड़न की घटनाओं का सिलसिलेवार जिक्र किया। कहा कि बिकरू कांड में 100 से ज्यादा ब्राह्मणों को फर्जी फंसाया। खुशी दुबे के हाथों की मेहंदी भी नहीं छूटी थी कि उसे जेल में डाल दिया गया। भाजपा सरकार में ब्राह्मण मंत्रियों की स्थिति गुलदस्ते जैसी है, वह केवल दिखाने के लिए हैं। मिश्रा ने कहा कि सन 2007 से 2012 की सरकार याद करिए। बहनजी ने ब्राह्मणों को आगे बढ़ाने का काम किया था, उसका उदाहरण मैं खुद हूं। अब आप एक हो जाइए। आप भगवान परशुराम के वंशज हैं। ब्राह्मण समाज हमेशा बसपा के साथ रही है और बसपा ने उन्हें सम्मान दिया है। 

भाजपा सरकार पर किए प्रहार
बसपा नेता ने कहा कि जो लोग धर्म के नाम पर वोट मांग रहे हैं वह अपना धर्म बताएं। जब मैं अयोध्या में गया था, तब बीजेपी ने तमाम सवाल खड़े कर दिए थे, क्या केवल भाजपा के लोग अयोध्या जा सकते हैं, इन लोगों ने ठेका ले रखा है, वहां कौन दर्शन करेगा, कौन चंदा लेगा और उसके बाद कौन उनके नाम से वोट लेगा। 

किसानों और अपराधों का मुद्दा उठाया
मिश्रा ने कहा कि उत्तर प्रदेश का किसान सड़कों पर पड़ा है। काले कानून को वापस लेने की मांग कर रहे हैं, लेकिन सरकार एक नहीं सुन रही है। अगर यह तीनों कानून लागू हुए तो किसानों के पास एक फुट जमीन नहीं बचेगी। यूपी में अपराधों का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा है। सम्मेलन में कोऑर्डिनेटर गोरेलाल, जिलाध्यक्ष विमल वर्मा ने व्यवस्थाएं संभालीं। 

मथुरा में बसपा का प्रबुद्ध सम्मेलन: ब्रज में बोले सतीश मिश्र- मंदिरों पर कब्जा कर रही भाजपा, ब्राह्मणों का हो रहा उत्पीड़न
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन