बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

निर्जला एकादशी पर श्रद्धालुओं ने आस्था की डुबकी

Dehradun Bureau देहरादून ब्यूरो
Updated Tue, 22 Jun 2021 12:19 AM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
हरिद्वार। निर्जला एकादशी पर हजारों श्रद्धालुओं ने हरकी पैड़ी एवं आसपास घाटों पर डुबकी लगाई। श्रद्धालुओं ने स्नान के बाद दान पुण्य भी किया। महिलाओं ने स्नान कर कन्याओं को फल-फूल और शरबत इत्यादि दान किया। इसके अलावा खरबूजा-तरबूज और ककड़ी का भी दान किया।
विज्ञापन

निर्जला एकादशी के अवसर पर सोमवार की सुबह से ही गंगा घाट हर हर गंगे के जयघोष से गूंजने लगे। स्नान सोमवार की सुबह चार बजे से ही प्रारंभ हो गया है। जैसे-जैसे दिन चढ़ता रहा, वैसे वैसे हरकी पैड़ी एवं उसके आसपास घाटों पर श्रद्धालुओं की भीड़ बढ़ने लगी। स्नान के बाद श्रद्धालुओं ने सूर्य को अर्घ्य दिया। गंगा के घाटों पर भक्तों ने पुरोहितों और पंडितों से निर्जला एकादशी की कथा भी सुनी। इसके साथ घाटों पर मौजूद कन्याओं, पुरोहितों व पंडितों को दान दिया।

हरकी पैड़ी, सुभाष घाट, मालवीय घाट और शिवघाट समेत अन्य गंगा घाटों पर श्रद्धालुुओं की भीड़ नजर आई। वहीं सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस और गोताखोर भी तैनात रहे। पुराणों में निर्जला एकादशी को सबसे श्रेष्ठ माना गया है। निर्जला एकदाशी पर पुण्य प्राप्त करने के महिलाओं ने सुबह स्नान आदि कर मंदिरों में जाकर भी पूजा अर्चना की।
राहगीरों को पिलाया शरबत
निर्जला एकादशी पर कई संस्थाओं ने नगर में सोमवार को जगह-जगह पर ठंडे पानी व शरबत के प्याऊ लगाए और आते-जाते राहगीरों को ठंडा शरबत पिलाया।
कोविड नियमों की उड़ी धज्जियां
स्नान में हरकी पैड़ी एवं आसपास के घाटों में काफी संख्या में श्रद्धालु रहे। श्रद्धालुओं ने शारीरिक दूरी का पालन तो दूर अधिकतर ने मास्क तक नहीं पहना था। लगातार दो दिन स्नान में कोविड मानकों की अनदेखी से संक्रमण के फैलने का खतरा भी बना है।
समस्त जगत की पालनहार है मां गंगा : राजेंद्र दास
निर्जला एकादशी पर श्री पंच निर्मोही अणि अखाड़े में यज्ञ का आयोजन
माई सिटी रिपोर्टर
हरिद्वार। निर्जला एकादशी पर बैरागी कैंप स्थित अखिल भारतीय श्री पंच निर्मोही अणि अखाड़े में हवन यज्ञ कर विश्व कल्याण और गंगा घाट पर आरती से कोरोना महामारी के खात्मे के लिए ईश्वर से प्रार्थना की गई।
अखिल भारतीय श्री पंच निर्मोही अणि अखाड़े के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत राजेंद्र दास ने कहा कि मां गंगा जगत की पालनहार है, जो युगों युगों से मानव जाति को मोक्ष प्रदान करती चली आ रही है। गंगा पूजन और निर्जला एकादशी का व्रत रखने से व्यक्ति को सहस्त्र गुणा पुण्य फल की प्राप्ति होती है। केवल एक दिन निर्जल रहने से मनुष्य पापों से मुक्त हो जाता है। उसके बैकुंठ का मार्ग प्रशस्त होता है।
श्रीमहंत राजेंद्र दास ने कहा कि पतित पावनी मां गंगा की असीम कृपा से जल्द ही पूरे विश्व से कोरोना महामारी समाप्त होगी। तीन दिवसीय प्रवास पर हरिद्वार पहुंचे जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी अधोक्षजानंद ने कहा कि संत परंपरा सनातन संस्कृति की वाहक है। इस अवसर पर महंत रामजी दास, महंत हितेशदास, संत सेवकदास, महंत अगस्त दास, महंत संगमपुरी आदि मौजूद रहे।
भगवान विष्णु को समर्पित है निर्जला एकादशी: केशवानंद
निर्जला एकादशी पर गरीबदास परमानंद आश्रम में हुआ हवन पूजन
संवाद न्यूज एजेंसी
हरिद्वार। हिंदू परंपरा को मानने वालों के लिए एकादशी व्रत बेहद महत्वपूर्ण है, जो सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु को समर्पित है। त्रिदेवों में से एक भगवान विष्णु इस संसार की देख-रेख करते हैं। सनातन धर्म में भगवान विष्णु को प्रमुख देवता माना गया है। गरीबदास परमानंद आश्रम में निर्जला एकादशी पर आयोजित हवन पूजन में परमाध्यक्ष महंत श्री केशवानंद ने यह बात कही।
उन्होंने कहा कि हिंदू पंचांग के मुताबिक वर्ष में कुल 24 एकादशियां मनाई जाती हैं, जो प्रत्येक माह कृष्ण और शुक्ल पक्ष में पड़ती हैं। ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को सर्वोत्तम माना जाता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस व्रत की शुरुआत महाभारत काल से हुई थी। कहा जाता है कि महाबली भीमसेन ने इस व्रत को किया था। इस मौके पर हीरा सिंह, लीलावती, नरेंद्र, पूनम राठौर आदि उपस्थित थे।
लाल माता वैष्णो देवी मंदिर में शरबत-फल वितरण
हरिद्वार। ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी के अवसर पर सप्तसरोवर मार्ग स्थित लाल माता वैष्णो देवी मंदिर के संचालक भक्त दुर्गा दास के संयोजन में तीर्थ यात्रियों, संतजनों को मीठा शरबत और फल वितरित किए गए। इस दौरान राकेश सकलानी, पंडित हीरा मणि, राहुल खत्री और राज अरोड़ा मौजूद रहे। संवाद
श्री वैश्य बंधु समाज महिला विंग ने फल एवं जूस बांटा
हरिद्वार। निर्जला एकादशी पर श्री वैश्य बंधु समाज मध्य हरिद्वार की महिला विंग की सदस्यों ने संस्थापक अध्यक्ष शशि अग्रवाल के संयोजन में डाम कोठी, अग्रसेन चौक क्षेत्रों में पुलिसकर्मियों एवं गरीब असहायों को जूस और फल वितरण किए। उन्होंने कोरोना मृतकों की आत्मा की शांति के लिए गंगा में दूध अर्पण कर श्रद्धांजलि भी दी।
शशि अग्रवाल ने कहा कि निर्जला एकादशी पर संस्था प्रतिवर्ष छबील लगाकर शरबत वितरण करती है, लेकिन कोरोना नियमों की बाध्यता के चलते इस वर्ष बोतल बंद जूस व फलों का वितरण किया गया। इस मौके पर अध्यक्ष रीतू तायल, आरती अग्रवाल संस्था के संस्थापक अध्यक्ष अशोक अग्रवाल, पिंकी, ब्रजेश कंसल, मोनिका गर्ग, सीमा अग्रवाल और सुभाष अग्रवाल समेत कई लोग मौजूद रहे। संवाद

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us