लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttarakhand ›   Nainital News ›   Cancer of breast and uterus is highest among women: Dr. Lalit

महिलाओं में स्तन और गर्भाशय का कैंसर सबसे ज्यादा: डॉ. ललित

Haldwani Bureau हल्द्वानी ब्यूरो
Updated Thu, 01 Dec 2022 05:30 AM IST
हल्द्वानी के कमलुवागांजा क्षेत्र में अमर उजाला फाउंडेशन द्वारा आयोजित अपराजिता कार्यक्रम के द?
हल्द्वानी के कमलुवागांजा क्षेत्र में अमर उजाला फाउंडेशन द्वारा आयोजित अपराजिता कार्यक्रम के द?
विज्ञापन
हल्द्वानी। राज्य कैंसर संस्थान हल्द्वानी के कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ. ललित मोहन ने महिलाओं को स्तन कैंसर व गर्भाशय कैंसर के प्रति सचेत किया। बताया कि 25 में से 15 महिलाओं को यह बीमारी होती है। शुरुआत में ही इसका पता चल जाए तो बेहतर इलाज से इससे छुटकारा पाया जा सकता है।

डॉ. ललित बुधवार को अमर उजाला फाउंडेशन की ओर से ‘अपराजिता : 100 मिलियन स्माइल्स’ के तहत आयोजित जागरूकता गोष्ठी को संबोधित कर रहे थे। गोष्ठी कमलुवागांजा स्थित फुटहिल सिटी में सुनीता बोरा के आवास पर तीलू रौतेली पुरस्कार प्राप्त विद्या महतोलिया के संयोजन में हुई। डॉ. ललित ने बताया आम तौर पर 45 से 65 वर्ष की उम्र की महिलाओं में स्तन कैंसर के मामले सामने आते हैं। 30 साल की उम्र के बाद पहला बच्चा होने पर स्तन कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है। परिवार में सगी बहन, चचेरी या मौसेरी बहनों में कैंसर हो तो जैनेटिक रूप में भी इसका खतरा ज्यादा रहता है। महिलाओं को अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरुक रहना होगा। लक्षण दिखाई देने पर तुरंत अस्पताल जाकर विशेषज्ञ चिकित्सक को दिखाना जरूरी होता है।

उन्होंने बताया कि कैंसर से बचाव के लिए महिलाओं को हरी पत्तेदार सब्जी, फलों का सेवन करना चाहिए। पैकेट बंद खाने से परहेज करें। एक घंटा नियमित रूप से तेज कदमों से चलना, पसीना और थकान लगने वाला शारीरिक श्रम करना महिलाओं को कैंसर रोग से लड़ने में मदद करता है। सामाजिक कार्यकर्ता विद्या महतोलिया ने कहा कि अमर उजाला फाउंडेशन ग्रामीण क्षेत्रों में भी जागरुकता कार्यक्रम चला रहा है, यह सराहनीय कदम है।
इलाज की सुविधा
डॉ. ललित ने बताया कि स्तन कैंसर और गर्भाशय कैंसर का इलाज हल्द्वानी स्थित सुशीला तिवारी राजकीय मेडिकल कालेज में निशुल्क है। मरीज आयुष्मान कार्ड, अंत्योदय कार्ड आदि के जरिये भी लाभ ले सकता है।
...........
गर्भाशय कैंसर के लक्षण-
डॉ. ललित ने बताया कि 45 वर्ष की उम्र के बाद जब पीरियड बंद हो जाते हैं और फिर भी खून निकलने लगे तो यह गर्भाशय (बच्चेदानी के मुंह) का कैंसर का लक्षण हो सकता है। इसका इलाज सर्जरी है। ज्यादा बढ़ने पर रेडियोथैरेपी भी की जाती है। कमर के निचले हिस्से में दर्द, वजन का कम होना, भूख का खत्म होना भी इसके लक्षण हैं। गोष्ठी में महिलाओं ने कैंसर में बाल गिरने को लेकर भी सवाल पूछे। डॉक्टर ने बताया कि कैंसर से बाल नहीं गिरते लेकिन इलाज के दौरान दवाइयों से बाल गिरते हैं। बाद में बाल सामान्य रूप से वापस आ जाते हैं।
...........
स्तन कैंसर के लक्षण-
- अचानक वजन का कम होना पहला लक्षण है।
- भूख का अचानक खत्म होना।
- अचानक बहुत कमजोरी हो जाना।
- स्तन में गांठ बनना या फिर त्वचा का रंग बदलना।
........
गोष्ठी में ये मौजूद रहीं : मंजू जोशी, आशा देवी, प्रतिमा देवी, गोविंदी देवी, पुष्पा देवी, आशा पांडे, निर्मला पंत, माया बिष्ट, प्रमिला लोहनी, गीता वोहरा, गीता फर्त्याल, रेवती देवी, संगीता डांगी, अनीता जोशी, पार्वती डालाकोटी, पूजा नैनवाल, मोना गढ़िया, गीत बिष्ट, रेनू रौतेला, प्रिया रावत, अनीता धामी, पुष्पा नेगी, लीला सामंत, भागीरथी देवी, शांति दुर्गापाल, हंसी सामंत, मोहनी देवी, गोविंदी बिष्ट मौजूद रहीं।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00