लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttarakhand ›   Udham Singh Nagar ›   Others.

पराली जलाने पर रोक का आदेश तुगलकी फरमान : विर्क

Haldwani Bureau हल्द्वानी ब्यूरो
Updated Thu, 06 Oct 2022 12:30 AM IST
तजिंदर विर्क, राष्ट्रीय अध्यक्ष, तराई किसान संगठन।
तजिंदर विर्क, राष्ट्रीय अध्यक्ष, तराई किसान संगठन। - फोटो : RUDRAPUR
विज्ञापन
ख़बर सुनें
रुद्रपुर। तराई किसान संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष तजिंदर सिंह विर्क ने डीएम के पराली जलाने पर रोक के आदेश को तुगलकी फरमान करार दिया है। विर्क ने कहा कि यह अत्याचार है। पराली को लेकर देश का किसान लगातार संघर्ष करता रहा है।

उन्होंने कहा कि किसानों के संघर्ष के बाद सुप्रीम कोर्ट में इस पर सुनवाई हुई और सुप्रीम कोर्ट ने यह कहा कि प्रदूषण के लिए सिर्फ किसान को ही दोषी नहीं माना जा सकता। किसान के पराली के अवशेषों से मात्र 10 प्रतिशत प्रदूषण होता है जबकि उद्योग व अन्य संसाधनों से इससे कई गुना अधिक प्रदूषण हवा में फैल रहा है। इसको लेकर सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकारों को क्षतिपूर्ति के निर्देश भी दिए लेकिन सरकारों ने पराली के अवशेषों के प्रबंधन के लिए कोई व्यवस्था नहीं की।

विर्क ने कहा कि जिला प्रशासन को किसानों की पराली का धुआं तो नजर आ रहा है लेकिन सिडकुल व अन्य उद्योगों से निकल रहा जहर नजर नहीं आ रहा। विर्क ने कहा कि यदि सरकार व प्रशासन पराली नहीं जलाने के आदेश दे रहा है तो किसानों को प्रति एकड़ पांच हजार रुपये अनुदान राशि दे। संवाद

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00