बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव
Myjyotish

बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

उत्तराखंड में कोरोना: शुक्रवार को मिले 14 नए संक्रमित, दो मरीजों की हुई मौत

उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में 14 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं। वहीं, दो मरीजों की मौत हुई है। जबकि 23 मरीजों को ठीक होने के बाद घर भेजा गया। सक्रिय मामलों की संख्या 238 पहुंच गई है। जबकि गुरुवार को प्रदेश में 249 सक्रिय मामले थे।  

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार, शुक्रवार को 16039 सैंपलों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। सात जिलों अल्मोड़ा, बागेश्वर, चमोली, पिथौरागढ़, रुद्रप्रयाग, ऊधमसिंह नगर और उत्तरकाशी में एक भी संक्रमित मरीज नहीं मिला है। वहीं, चंपावत और हरिद्वार में दो-दो, देहरादून और नैनीताल में चार-चार, पौड़ी और टिहरी में एक-एक संक्रमित मरीज मिला है।

उत्तराखंड: स्वास्थ्य मंत्री ने किया एलान, पहाड़ों में निजी अस्पताल खोलने पर अनुदान देगी सरकार

प्रदेश में अब तक कोरोना के कुल संक्रमितों की संख्या 343459 हो गई है। इनमें से 329738 लोग ठीक हो चुके हैं। प्रदेश में कोरोना के चलते अब तक कुल 7393 लोगों की जान जा चुकी है। प्रदेश की रिकवरी दर 96.01 प्रतिशत और संक्रमण दर 0.09 प्रतिशत दर्ज की गई है। 

देहरादून में 100 फीसदी लोगों को लगी वैक्सीन की पहली डोज
देहरादून में कोरोना टीकाकरण में तेजी आई है। शुक्रवार तक 100 फीसदी लोगों को वैक्सीन की पहली डोज लग चुकी है। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. दिनेश चौहान ने इसकी जानकारी दी। 
... और पढ़ें
कोरोना वायरस की जांच (प्रतीकात्मक तस्वीर) कोरोना वायरस की जांच (प्रतीकात्मक तस्वीर)

उत्तराखंड कैबिनेट: तीन लाख कर्मचारी और पेंशनरों को 11 फीसदी डीए का तोहफा, पढ़ें अन्य फैसले...

उत्तराखंड मंत्रिमंडल ने राजकीय व सार्वजनिक उपक्रमों, बोर्डों व निगमों के तीन लाख से अधिक कर्मचारी-पेंशनरों व पारिवारिक पेंशनरों को 11 प्रतिशत महंगाई भत्ता देने का फैसला किया है। वित्त विभाग ने इस संबंध में शासनादेश भी जारी कर दिया है।

शुक्रवार को राज्य सचिवालय में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में नजूल भूमि के वैध पट्टों के नवीनीकरण और फ्री होल्ड करने और नए पट्टों का आवंटन करने के लिए अध्यादेश को मंजूरी दी गई। शासकीय प्रवक्ता सुबोध उनियाल ने बताया कि कैबिनेट में 29 प्रस्तावों पर चर्चा हुई, जिनमें से तीन मामले स्थगित किए गए और दो को मुख्यमंत्री के विवेक पर छोड़ा गया है।

शुक्रवार को कैबिनेट ने इधर डीए का फैसला लिया, उधर वित्त विभाग ने शासनादेश जार कर दिया। राज्य कर्मचारियों, पेंशनरों, सहायता प्राप्त शिक्षण एवं प्राविधिक शिक्षण संस्थाओं शहरी निकायों के नियमित व पूर्णकालिक कर्मचारियों, वर्कचार्ज कर्मचारियों को एक जुलाई से 11 प्रतिशत महंगाई भत्ता (डीए) का भुगतान होगा। इस पर 1800 करोड़ रुपये का सालाना खर्च आएगा। वहीं, कैबिनेट ने नजूल भूमि प्रबंधन व्यवस्थापन एवं निस्तारण अध्यादेश 2021 को भी मंजूरी दे दी है। इसके तहत नगरीय क्षेत्रों में नए पट्टों का आवंटन हो सकेगा। पुराने वैध और अवैध पट्टों का नवीनीकरण और उन्हें फ्री होल्ड किया जा सकेगा।

यूपी आवास विकास परिषद की संपत्ति पर लगी रोक हटी
कैबिनेट ने उत्तराखंड में यूपी आवास विकास परिषद की परिसंपत्तियों, कॉलोनियों, भूखंडों के दाखिल खारिज, निर्माण, खरीद फरोख्त पर लगी रोक को हटा दिया है। सात दिसंबर 2006 को तत्कालीन एनडी तिवारी सरकार ने यह रोक लगाई थी।

श्रीनगर नगर निगम, लोहाघाट को नगर पालिका का दर्जा
कैबिनेट ने श्रीनगर नगर पालिका को नगर निगम और लोहाघाट नगर पंचायत को नगर पालिका का दर्जा देने का फैसला किया है। ऊधमसिंह नगर की नगला को नगर पालिका व टिहरी जिले के नरेंद्रनगर में स्थित तपोवन को भी नगर पंचायत बनाने के प्रस्ताव पर मुहर लगी।

पुलिस कांस्टेबलों को शत-प्रतिशत पदोन्नति
कैबिनेट ने पुलिस कांस्टेबल से हेड कांस्टेबल बनने के लिए रैंकर्स परीक्षा को समाप्त कर दिया है और सौ प्रतिशत पदोन्नति से करने का निर्णय लिया है।
... और पढ़ें

UPSC Result: नैनीताल की शैलजा पांडे 61वीं रैंक हासिल कर बनीं आईएएस, इन होनहारों ने भी पाई सफलता

संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षा का परिणाम घोषित हो गया है। नैनीताल की शैलजा पांडे की 61वीं रैंक आई है। शैलजा पांडे ऊर्जा निगम के मुख्य अभियंता दीप चंद्र पांडे और बीडी पांडेय अस्पताल नैनीताल में डॉक्टर शोभा पांडेय की बेटी हैं। शैलजा ने हाईस्कूल और इंटर की परीक्षा में जिला टॉप किया था। वर्तमान में वह इंडियन ऑडिट एंड अकाउंट सर्विस (आईएएएस) की अहमदाबाद में ट्रेनिंग ले रही हैं।

दीप चंद्र पांडे ने बताया कि शैलजा की सिविल सेवा की परीक्षा में ऑल इंडिया में 61 वीं रैंक आई है। शैलजा ने एनआईटी हमीरपुर से इलेक्ट्रिक एंड इलेक्ट्रानिक्स में इंजीनियरिंग किया। इंडियन ऑडिट एंड अकाउंट सर्विस में सलेक्शन होने के बाद वह अहमदाबाद में प्रशिक्षण ले रही हैं। उन्होंने सेंटमेरी कान्वेंट स्कूल नैनीताल से 2011 में हाईस्कूल और 2013 में इंटरमीडिएट की परीक्षा पास की। दोनों ही परीक्षाओं में वह टॉपर रहीं और विद्यालय के रोल ऑफ मेरिट लिस्ट में उसका नाम दर्ज है। मूल रूप से मझेड़ा (प्रेमपुर) गरमपानी, नैनीताल निवासी शैलजा का परिवार वर्तमान में लोअर डांडा कंपाउंड जू रोड नैनीताल में रहता है। दीप चंद्र पांडेय के बेटे यथार्थ पांडे ने भी इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रानिक्स से इंजीनियरिंग की है। 

अनुशासन, आत्मविश्वास की बदौलत पाई सफलता
शैलजा ने बताया कि लगन, मेहनत, अनुशासन, आत्मविश्वास की बदौलत ही उन्होंने सफलता पाई है। उन्होंने कहा कि प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे युवाओं में सबसे पहले आत्मविश्वास जरूरी है। आप जिस क्षेत्र की तैयारी कर रहे हैं उस पर अपना खास फोकस रहना चाहिए। लगातार पढ़ाई जरूरी है लेकिन तय करना चाहिए कि क्या पढ़ें और कैसे पढें। विषय वस्तु पर ध्यान केंद्रित करें। पूरी पढ़ाई और प्रतियोगी परीक्षा के दौरान अनुशासित रहना जरूरी है। मेरी सफलता के पीछे माता-पिता, नानी रेवती लोहनी, नाना स्व. पूरन चंद्र लोहनी और मौसी हेमा लोहनी का भी आशीर्वाद है।
... और पढ़ें

अंतरराष्ट्रीय सेब महोत्सव 2021: उत्तराखंड में पहली बार हुआ आयोजन, हर्षिल घाटी के किसानों ने किया विरोध, तस्वीरें...

शुक्रवार को देहरादून के रेंजर ग्राउंड में मुख्यमंत्री ने पहली बार आयोजित अंतरराष्ट्रीय सेब महोत्सव का उद्घाटन किया। सीएम ने कहा कि प्रदेश में उद्योगों के साथ ही बागवानी के विकास के लिए अनुकूल नीति बनाई जाएगी। सेब उत्पादन बढ़ाने के लिए प्रदेश में नए बगीचे लगाए जा रहे हैं। उन्होंने कृषि और बागवानी विश्वविद्यालयों के वैज्ञानिकों से राज्य की भौगोलिक परिस्थिति के अनुकूल बागवानी विकास के लिए शोध व अनुसंधान विशेष ध्यान देने की अपेक्षा की है। वहीं, अंतरराष्ट्रीय सेब महोत्सव के विरोध में हर्षिल घाटी के आठ गांवों के किसान सड़क पर उतर आए हैं। 

अंतरराष्ट्रीय सेब महोत्सव 2021: गुणवत्ता में कश्मीर और हिमाचल से कम नहीं उत्तराखंड का सेब

मुख्यमंत्री ने कहा कि वन एप्पल नो डॉक्टर की बात सेब पौष्टिकता के महत्व को बताता है। उत्तराखंड के सेब देश दुनिया में पहचान बने इस पर ध्यान देने की जरूरत है। राज्य में नई तकनीकी के बल पर सेब के उन्नत किस्म के पेड़ लगाने से हम जम्मू कश्मीर व हिमाचल से अच्छी क्वालिटी का सेब उत्पादन कर निर्यातक बनें। इस दिशा में समेकित प्रयासों की जरूरत है। इससे पहले मुख्यमंत्री ने महोत्सव में उत्तराखंड, हिमाचल और जम्मू कश्मीर के किसानों की ओर से लगाई गई सेब व उससे तैयार विभिन्न उत्पादों और कृषि उपकरणों की प्रदर्शनी का अवलोकन किया। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड मौसम: बारिश के बाद बदरीनाथ-केदारनाथ की चोटियों पर हुई बर्फबारी, यमुनोत्री हाईवे अवरुद्ध

अंतरराष्ट्रीय सेब महोत्सव
उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में अब सुबह-शाम ठंड का अहसास होने लगा है। इन दिनों मौसम सुहावना हो गया है। धूप और बादलों की लुका-छिपी भी आए दिन दिख रही है। वहीं शुक्रवार को देहरादून में बादल छाए रहे।

ऊंची चोटियों पर बर्फबारी
केदारनाथ और बदरीनाथ में बारिश के बाद शुक्रवार तड़के ऊंची चोटियों पर बर्फबारी हुई है। यहां नीलकंठ, उर्वशी, नर-नारायण और माणा पर्वत चोटियों पर बर्फबारी हुई है। जिससे बदरीनाथ में अब कड़ाके की सर्दी पड़ने लगी है। यमुनोत्री धाम के ऊपर बंदरपूंछ, सप्त ऋषिकुंड, कालिंदी टाॅप पर भी बर्फबारी हुई है।

यमुनोत्री हाईवे अवरुद्ध
उत्तरकाशी जिले में बारिश का सिलसिला जारी है। यमुनोत्री हाईवे कल्याणी के पास भूस्खलन से अवरुद्ध हो गया है और गंगोत्री हाईवे पर यातायात सुचारू है। वहीं नौगांव-पौंटी-राजगढी मोटर मार्ग पर जगह-जगह मलबा आने और भू-धंसाव के कारण सड़क गुरुवार रात से बंद है।

देहरादून: बारिश के बीच बड़ी संख्या में मसूरी पहुंचे पर्यटक, भूस्खलन ने बढ़ाई परेशानी, लगा जाम, तस्वीरें...

दिल्ली-यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर बना पुश्ता ढहा
विगत दो दिनों से क्षेत्र में लगातार हो रही बारिश के चलते देहरादून जिले के कालसी तहसील मुख्यालय के निकट गुरुवार की देर शाम दिल्ली-यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर बना पुश्ता ढह गया। जिससे मार्ग लगभग पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया है। दोपहिया वाहन चालक तथा हल्का वाहन चालक जोखिम पूर्ण परिस्थितियों में यहां से वाहन निकालने को मजबूर हैं। उपरोक्त राष्ट्रीय राजमार्ग दिल्ली से यमुनोत्री को जोड़ने के अतिरिक्त देहरादून को चकराता, त्यूणी सहित समस्त जौनसार बावर क्षेत्र के अतिरिक्त हिमाचल प्रदेश, रवाई जौनपुर, मसूरी आदि क्षेत्रों को भी जोड़ता है।

झड़कुला में चार घंटे बंद रहा बदरीनाथ हाईवे
जोशीमठ। बदरीनाथ हाईवे शुक्रवार को जोशीमठ के समीप झड़कुला में करीब चार घंटे तक बंद रहा। यहां चट्टान से बड़े-बड़े बोल्डर छिटककर हाईवे पर आ गए। गनीमत रही कि इस दौरान यहां वाहनों की आवाजाही नहीं हो रही थी, जिससे बड़ी दुर्घटना होने से बच गई। हाईवे बंद होने से यहां सड़क के दोनों ओर वाहनों की लंबी लाइन लग गई। सुबह करीब पांच बजे हाईवे बंद हुआ था। इस दौरान यात्रियों के साथ स्थानीय लोगों के वाहन भी हाईवे पर फंसे रहे। स्कूल जाने वाले छात्र-छात्राओं को भी परेशानी उठानी पड़ी। छात्र-छात्राएं जोखिम उठाकर पत्थरों के ऊपर से चलकर स्कूल पहुंचे। एनएच की जेसीबी ने सुबह करीब नौ बजे हाईवे खोला, जिसके बाद यात्रियों ने राहत की सांस ली। 
... और पढ़ें

अंतरराष्ट्रीय सेब महोत्सव 2021: गुणवत्ता में कश्मीर और हिमाचल से कम नहीं उत्तराखंड का सेब

सेब के उत्पादन में भले ही उत्तराखंड जम्मू कश्मीर और हिमाचल से पीछे है, लेकिन गुणवत्ता के मामले में यहां का सेब कम नहीं है। प्रदेश के सेब उत्पादक किसान चाहते हैं कि दोनों राज्यों की तर्ज पर सरकार सेब की ब्रांडिंग व मार्केटिंग को बढ़ावा देने के साथ ही अच्छी किस्म के पौधे और किसानों को पैदावार करने का प्रशिक्षण दिया जाए। 

नैनीताल जिले के मुक्तेश्वर के किसान देवेंद्र सिंह बिष्ट का कहना है कि पहले उत्तराखंड में सेब उत्पादन के प्रति ध्यान नहीं दिया गया, लेकिन अब एप्पल मिशन के बाद इस दिशा में अच्छा काम हुआ है। प्रदेश का सेब गुणवत्ता में हिमाचल और जम्मू कश्मीर से पीछे नहीं है। ब्रांडिंग और मार्केटिंग को बढ़ावा देने की जरूरत है। बिष्ट का कहना है कि अप्रैल 2021 में उन्होंने कोविड काल में सेब का बगीचा तैयार इटली से लाए गए रूट स्टॉक तकनीक से 250 पौधे लगाए। अब पांच-छह माह में भी सेब की फसल तैयार हुआ हुई। बार 258 बॉक्स सेब तैयार हुआ है। जो चार लाख में बिका है। 

नैनीताल के गोपाल सिंह रेकुनी का कहना है कि प्रदेश में भी अच्छी गुणवत्ता का सेब उत्पादित किया जा रहा है। पहले हमने सेब उत्पादन बढ़ाने की तरफ ध्यान नहीं दिया। पिछले चार पांच सालों में सेब उत्पादन पर काम हो रहा है। 

चमोली जिले के जोशीमठ से आए नरेंद्र सिंह बिष्ट का कहना है कि उत्तराखंड की पहचान आर्गेनिक है। किसान सेब पर ज्यादा रसायनिक दवाईयों का इस्तेमाल नहीं करते हैं। सरकार को सेब की ब्रांडिग और पैकेजिंग के लिए किसानों को प्रोत्साहन देना चाहिए। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड: काशीपुर विधायक हरभजन सिंह चीमा को हाईकोर्ट से राहत, चुनाव याचिका खारिज

उत्तराखंड बोर्ड परीक्षा 2022: परीक्षा फार्म जमा करने की तिथि पांच अक्तूबर तक बढ़ी

उत्तराखंड में कोविड की वजह से उत्तराखंड बोर्ड की वर्ष 2022 की 10वीं और 12वीं की परीक्षा के आवेदन फार्म जमा करने की तिथि में बदलाव किया गया है। अब तय एवं विलंब शुल्क के साथ पांच अक्तूबर तक फार्म जमा किए जा सकेंगे। शासन की ओर से इस संबंध में आदेश जारी किया गया है। 

शिक्षा सचिव की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि प्रदेश में कोविड एवं लॉकडाउन की वजह से वर्ष 2021 की बोर्ड परीक्षाओं का रिजल्ट दो महीने देरी से 31 जुलाई 2021 तक घोषित किया गया। जिसे देखते हुए छात्र हित में उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद की वर्ष 2022 की हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट की परीक्षा के संस्थागत एवं व्यक्तिगत छात्र-छात्राओं के आवेदन की तिथि में बदलाव किया गया है।

आदेश में कहा गया है कि खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय में 25 सितंबर के बजाय पांच अक्तूबर तक 10वीं और 12वीं के फार्म जमा किए जा सकेंगे। जबकि खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय से इन्हें 11 अक्तूबर तक सीईओ कार्यालय में जमा कराया जाएगा। मुख्य शिक्षा अधिकारी कार्यालय से इन परीक्षा फार्म को उत्तराखंड बोर्ड कार्यालय में 12 अक्तूबर तक जमा कराया जाएगा। 
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X