विज्ञापन
Home ›   Video ›   Entertainment ›   saand ki aankh film based on chandro and prakasho

'सांड की आंख' वाली दादी ने क्यों उठा ली थी बंदूक, रोचक है कहानी

कनवर्जेंस डेस्क, अमर उजाला Published by: Asif Iqbal Updated Mon, 23 Sep 2019 07:46 PM IST

सांड की आंख फिल्म रिवॉल्वर दादी के नाम से मशहूर प्रकाशो और चंद्रो तोमर पर आधारित है। आपको बता दें कि चंद्रो और प्रकाशो दोनों देवरानी और जेठानी हैं। जिन्होंने  60 साल की उम्र में अपना निशानेबाजी में करियर शुरू किया था।
 

विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00