विज्ञापन
Home ›   Video ›   India News ›   supreme court given historical judgement on live in relationship

‘लिव- इन पार्टनर से सहमति से संबंध बनाना रेप नहीं’

वीडियो डेस्क, अमर उजाला डॉट कॉम Published by: यशवीर सिंह Updated Thu, 03 Jan 2019 01:18 PM IST

लिव- इन पार्टनर को लेकर देश की शीर्ष अदालत ने एक बड़ा फैसला सुनाया। अदालत ने साफ किया कि ऐसे मामले में ये महत्वपूर्ण है महिला और पुरुष के बीच बने संबंध सहमति से हैं या नहीं। सहमति से बने संबंधों को दुष्कर्म के दायरे में नहीं लाया जा सकता।
 

विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00