बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
Home ›   Video ›   Specials ›   special story on munshi Premchandra
मुंशी प्रेमचंद

प्रेमचंद ने 1905 में जो किया वो आज के युवा नहीं कर पाते!

वीडियो डेस्क,अमर उजाला टीवी/ नई दिल्ली Updated Sun, 08 Oct 2017 10:32 AM IST

हिंदी साहित्य में यूं तो तमाम नाम हैं, लेकिन मुंशी प्रेमचंद उन नामों में ऐसा नाम है, जो हर वंचित की रहनुमाई करता है। हिंदी पढ़ने वाले किसी भी शख्स से पूछिए कि आपने किससे पढ़ा है, उसका पहला जवाब प्रेमचंद ही होगा। प्रेमचंद ने अपने जीवन में ना सिर्फ कुरीतियों पर लिखा बल्कि उसे बदलने के लिए भी खुद आगे आए।  

विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00