अलविंदा प्रिंस फिलिप: महारानी के पति को 41 तोपों की सलामी, वेस्टमिंस्टर एबे पर 99 बार बजाई गई घंटियां 

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, लंदन Published by: सुरेंद्र जोशी Updated Sat, 10 Apr 2021 11:02 PM IST

सार

  • प्रिंस फिलिप भले ब्रिटेन के राजा नहीं कहलाए, लेकिन था पूरा सम्मान
  • दिवंगत प्रिंस का विंडसर कैसल में होगा अंतिम संस्कार
Prince Philip
Prince Philip - फोटो : social media
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के दिवंगत पति प्रिंस फिलिप को शनिवार को 41 तोपों की सलामी दी गई। वेस्टमिंस्टर एबे पर 60-60 सेकंड के लिए 99 बार घंटियां बजाई गईंं। प्रिंस फिलिप का 99 साल की उम्र में शुक्रवार को निधन हो गया। उनका अंतिम संस्कार 17 अप्रैल को लंदन के विंडसर कैसल में किया जाएगा। 
विज्ञापन


कई स्थानों पर दी गई सलामी
प्रिंस फिलिप के सम्मान में ब्रिटिश सेना ने कई स्थानों पर तोपों से फायर किए। ड्यूक ऑफ एडिनबरा को रॉयल नेवी के युद्ध पोतों ने समुद्र में भी सलामी दी। यह सिलसिला शनिवार दोपहर 12 बजे से लंदन, एडिनबरा, कार्डिफ़ और बेल्फास्ट से शुरू हुआ और रॉयल नेवी के पोतों से भी उन्हें 41 तोपों की सलामी दी गई। इसका प्रसारण टेलीविजन और इंटरनेट पर किया गया। 


17 अप्रैल तक झुका रहेगा ध्वज
दिवंगत प्रिंस के सम्मान में ब्रिटेन की सभी सरकारी इमारतों पर देश का राष्ट्र ध्वज 17 अप्रैल को अंतिम संस्कार के दिन सुबह आठ बजे तक झुका रहेगा। 

74 साल महारानी की परछाई बने रहे
प्रिंस फिलिप ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के पति के रूप में ज्यादा लोकप्रिय रहे। वे करीब 74 साल तक महारानी की परछाई बने रहे।

नहीं मिल पाया राजा का दर्जा
ब्रिटेन के शाही परिवार का उत्तराधिकार महारानी को ही मिलता है। प्रिंस फिलिप भी राजकुमार थे, उन्हें राजा का दर्जा कभी नहीं मिला। उनके सबसे बड़े बेटे प्रिंस चार्ल्स को राजगद्दी विरासत में मिली, लेकिन उन्हें कभी राजा की उपाधि भी नहीं मिली। यह उपाधि सिर्फ उन्हीं पुरुषों को मिलती है, जिनका सीधा संबंध राजपरिवार से होता है। प्रिंस फिलिप ग्रीस मूल के थे। वे वहां से ब्रिटेन आए थे। 

चार बच्चे हैं महारानी व प्रिंस के 
महारानी एलिजाबेथ द्वितीय व प्रिंस फिलिप के चार बच्चे हैं। सबसे बड़े 72 साल के प्रिंस चार्ल्स, 71 के प्रिंस एंड्रयू, 70 साल की प्रिंसेस ऐन, और 57 के प्रिंस एडवर्ड हैं। दिवंगत प्रिंस सौभाग्यशाली थे, जिन्होंने अपने आठ पोते-पोतियों और 10 परपोते व परपोतियों को गोद में खिलाया और भरापूरा शाही परिवार छोड़ कर दुनिया से अलविदा हुए। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00