Hindi News ›   World ›   Amid Texas school shooting Governor Greg Abbott Gun purchase Tweet Resurfaces

Texas Shooting: गोलीबारी में बच्चों की मौत की जानकारी देने वाले गवर्नर खुद बंदूकों के समर्थक, 7 साल पहले लोगों से कहा था- और गन्स खरीदो

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, टेक्सास। Published by: देव कश्यप Updated Wed, 25 May 2022 04:32 AM IST
सार

टेक्सास में गोलीबारी की घटना की जानकारी देने वाले गवर्नर ग्रेग एबॉट बंदूकों की खरीद के बड़े समर्थक रहे हैं। ये वही गवर्नर हैं जिन्होंने सात साल पहले बंदूकों की खरीद का समर्थन करते हुए लोगों से खरीदारी बढ़ाने की अपील की थी।

Texas Governor Greg Abbott
Texas Governor Greg Abbott - फोटो : ANI
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

अमेरिका के दक्षिण मध्य क्षेत्र में स्थित टेक्सास राज्य से एक स्कूल में भीषण गोलीबारी की घटना सामने आई है। यहां मंगलवार सुबह (स्थानीय समयानुसार) एक प्राइमरी स्कूल में एक 18 साल के युवक ने 18 छात्रों समेत 21 लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी। इसकी घटना की जानकारी टेक्सास के गवर्नर ग्रेग एबॉट ने दी है। ये वही गवर्नर हैं जिन्होंने सात साल पहले बंदूकों की खरीद का समर्थन करते हुए लोगों से ज्यादा बंदूकें खरीदने की अपील की थी।



गवर्नर एबॉट का सात साल पुराना ट्वीट वायरल
टेक्सास में गोलीबारी के बीच गवर्नर एबॉट का एक सात साल पुराना ट्वीट वायरल हो रहा है। इस ट्वीट में उन्होंने सात साल पहले लोगों से बंदूक खरीदने की अपील की थी। एबॉट ने 28 अक्तूबर 2015 को एक ट्वीट में कहा था कि टेक्सास अमेरिका में बंदूक खरीद मामले में दूसरे स्थान पर है और यह कैलिफोर्निया से पीछ है। इसे लेकर मैं शर्मिंदा हूं। उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा था कि "टेक्सास वालों बंदूक खरीद मामले में तेजी लाओ"। एबॉट ने इस ट्वीट को एनआरए को टैग किया था।


क्या है एनआरए?
एनआरए यानी नेशनल राइफल एसोसिएशन ऑफ अमेरिका, देश में बंदूक रखने के अधिकार की वकालक करने वाला एक समूह है। उन्नत राइफल निशानेबाजी के लिए इसे 1871 में स्थापित किया गया था। लेकिन आधुनिक दौर में एनआरए एक प्रमुख बंदूक अधिकार लॉबिंग संगठन बन गया है, जबकि बंदूक से सुरक्षा और इसकी योग्यता सिखाने का काम जारी है।



एबॉट की अपील के बाद बंदूक खरीद में आई थी तेजी
एबॉट की इस अपील के बाद एफबीआई के अनुसार, टेक्सास में बंदूक खरीदने 10 लाख लोगों से ज्यादा लोगों ने अनुरोध दिया था, लेकिन यह संख्या अभी भी कैलिफोर्निया से पीछे था। एफबीआई के अनुसार, बंदूक खरीदने के लिए संघीय रूप से आवश्यक पृष्ठभूमि की जांच के लिए पूरे देश से जो अनुरोध आते हैं उनकी संख्या 2013 तक कम थी लेकिन एबॉट के इस अपील के बाद उसमें तेजी देखी गई थी।

गवर्नर एबॉट ने कुल 22 बंदूक कानूनों पर हस्ताक्षर किए थे
जब भी स्कूल में गोलीबारी जैसी कोई नई घटना होती है, तो टेक्सास को उन खतरों की याद आती है जो कानून पारित करने के बाद हुआ था।यह कानून राज्य के अंदर बंदूक की खरीद को सीमित करने के ठीक विपरीत था। इन कानून को गवर्नर एबॉट ने 2021 में वापस पारित किया था और इससे पूरे देश में आक्रोश फैला गया था।

गवर्नर एबॉट द्वारा कुल 22 बंदूक कानूनों पर हस्ताक्षर किए गए थे, जिसमें एक बिना अनुमति के बंदूक रखने का कानून शामिल था। इस कानून से स्पष्ट रूप से यह बयान दिया गया था कि वह दूसरे संशोधन से कितना प्यार करते हैं। ऐसे बिना अनुमति वाले बंदूक रखने के कानून के लिए टेक्सास और पांच अन्य राज्यों को 'दूसरा संशोधन अभयारण्य' माना जाता है।

एनआईसीएस प्रणाली के जरिए होती है योग्यता की जांच
नेशनल इंस्टेंट क्रिमिनल बैकग्राउंड चेक सिस्टम जिसे एनआईसीएस (NICS) के नाम से जाना जाता है। इसका उपयोग बंदूक डीलरों द्वारा यह निर्धारित करने के लिए किया जाता है। इसके जरिए यह पता लगाया जाता है कि किसी व्यक्ति को किस मामलों के आधार पर बंदूक खरीदने से अयोग्य घोषित किया जाना चाहिए, जैसे कि मानसिक स्वास्थ्य या पूर्व आपराधिक इतिहास।

बंदूक डीलरों द्वारा फोन पर या कंप्यूटर के माध्यम से अनुरोध पेश किए जाते हैं। अधिकांश प्रतिक्रियाएं कुछ ही मिनटों में वापस मिल जाती हैं। अमेरिकी सेना के एक सेवानिवृत्त अधिकारी ने अपनी कहानी साझा करते हुए कहा कि एनआईसीएस प्रणाली गलत तरीके से बंदूक खरीद की मंजूरी नहीं देता है। उन्हें भी एनआईसीएस प्रणाली द्वारा गलत तरीके से मंजूरी देने से इनकार कर दिया गया था। क्योंकि 1971 के पॉट गिरफ्तारी में निहित गलत रिकॉर्ड के बावजूद उन्होंने राइफल खरीदने के लिए अनुरोध किया था।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00