ऑस्ट्रेलिया: आग बुझाने में दमकलकर्मी की मौत, 19 महीने के बेटे को दिया वीरता पुरस्कार

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, सिडनी Published by: Sneha Baluni Updated Fri, 03 Jan 2020 08:37 AM IST
ज्योफ्री के बेटे हार्वी कीटन को वीरता पुरस्कार देते आयुक्त
ज्योफ्री के बेटे हार्वी कीटन को वीरता पुरस्कार देते आयुक्त - फोटो : Twitter NSW
विज्ञापन
ख़बर सुनें
ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी भयानक आग को बुझाते हुए पिछले हफ्ते तीन दमकलकर्मियों क मौत हो गई थी। इसमें से एक ज्योफ्री कीटन भी थे। इस बहादुरी के लिए गुरुवार को उनके अंतिम संस्कार के बाद उनके 19 महीने के बेटे हार्वी कीटन को सर्वोच्च सेवा मेडल से सम्मानित किया गया। इस दौरान हार्वी ने रूरल फायर सर्विस (आरएफएस) की ड्रेस पहनी हुई थी।
विज्ञापन


न्यू साउथ वेल्स के रॉयल फायर सर्विस आयुक्त क्रेग फिजसिमॉन्स ने हार्वे की शर्ट पर मेडल लगाया। अंतिम फायर में मौजूद दमकलकर्मियों ने ज्योफ्री को सलामी दी। इसके बाद उनके पार्थिव शरीर को सिडनी के कब्रिस्तान में दफन कर दिया गया। 32 साल के कीटन की पिछले महीने उस समय मौत हो गई थी जब उनकी गाड़ी पर जलता हुआ पेड़ गिर गया था।

आलोचना के बाद अंतिम संस्कार में पहुंचे प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन दमकलकर्मी ज्योफ्री के अंतिम संस्कार में शामिल हुए। आग पर बेहतर कार्रवाई न करने को लेकर मॉरिसन की काफी आलोचना की गई थी। दरअसल, वह अपने परिवार के साथ छुट्टी मनाने के लिए हवाई चले गए थे। हालांकि सामाजिक कार्यकर्ता और दमकलकर्मियों के बढ़ते दबाव के कारण वह वापस आ गए। 

न्यूजीलैंड के ग्लेशियरों पर मंडराया खतरा

ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग के कारण पड़ोसी देश न्यूजीलैंड के ग्लेशियरों की बर्फ भी इसकी चपेट में आकर पीली पड़ने के कारण उसके तेजी से पिघलने का खतरा पैदा हो गया है। न्यूसाउथ वेल्स से विक्टोरिया राज्यों के बीच 200 से ज्यादा स्थानों पर भयानक आग लगी होने के चलते गुरुवार को आपातकाल घोषित कर दिया गया है। साथ ही कई कस्बों व शहरों से लोगों को जबरन निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने का काम शुरू कर दिया गया है। करीब 50 हजार लोगों को बिना बिजली और बिना पेयजल सप्लाई के रहना पड़ रहा है।

पेट्रोल पंपों और सुपरमार्केटों पर लगी लंबी लाइनें

न्यूसाउथ वेल्स और विक्टोरिया में जगह-जगह सुपरमार्केटों और पेट्रोल पंपों पर लंबी लाइनें लग गई हैं। लोग आग से बचाव के लिए लंबे समय तक बंकरों में छिपे रहने या वाहनों में सवार होकर दूर जाने के लिए पेट्रोल के साथ ही दूध-ब्रैड आदि का स्टॉक जमा करने में जुट गए हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00