Hindi News ›   World ›   British hostage taker demanding Pakisatan scientists Aafia Siddiqui release shot dead in US

अमेरिका: पाक वैज्ञानिक की रिहाई की मांग करने वाला ब्रिटिश नागरिक मारा गया, यहूदी पूजा स्थल में बंधक बनाए गए लोग रिहा

पीटीआई, कोलीविले (अमेरिका) Published by: Jeet Kumar Updated Mon, 17 Jan 2022 01:32 AM IST

सार

एफबीआई ने एक बयान में कहा कि इस बात के कोई संकेत नहीं मिले हैं कि इस घटना में कोई और भी संलिप्त था। अकरम को आतंकी गतिविधि के आरोप में कैद आफिया सिद्दीकी को रिहा किए जाने की मांग करते सुना गया था।
मारा गया लोगों को बंधक बनाने वाला...
मारा गया लोगों को बंधक बनाने वाला... - फोटो : ani
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

अमेरिका के टेक्सास में यहूदियों के एक पूजा स्थल में बंधक बनाए गए चार लोगों को छुड़ाने के लिए कई घंटे चले पुलिस ऑपरेशन के बाद रिहा करा लिया गया। इस दौरान किसी बंधक को कोई चोट नहीं आई, वहीं इस दौरान सुरक्षाबलों ने संदिग्ध को मार गिराया। जिसकी पहचान ब्रिटिश नागरिक मलिक फैसल अकरम के रूप में हुई है। वह पाकिस्तानी वैज्ञानिक आफिया सिद्दीकी की रिहाई की मांग कर रहा था। ब्रिटेन के काउंटर टेररिज्म पुलिसिंग के अधिकारियों ने टेक्सास के यहूदी मंदिर हमले के मामले में दो किशोरों को गिरफ्तार किया है।

विज्ञापन


बाइडन ने आतंकवादी घटना करार दिया
अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने इसे आतंकवादी घटना करार दिया है। एफबीआई ने एक बयान में कहा कि इस बात के कोई संकेत नहीं मिले हैं कि इस घटना में कोई और भी संलिप्त था। हालांकि पुलिस आफिया के भाई से पूछताछ करेगी। अकरम को आतंकी गतिविधि के आरोप में कैद आफिया सिद्दीकी को रिहा किए जाने की मांग करते सुना गया था, जिसके अलकायदा आतंकवादी समूह से संबंध होने का संदेह है।


ब्रिटेन के ‘फॉरेन, कॉमनवेल्थ एंड डेवल्पमेंट ऑफिस’ (एफसीडीओ) ने बताया कि उसे ‘‘टेक्सास में ब्रिटिश नागरिक की मौत की जानकारी है और वह स्थानीय प्राधिकारियों के संपर्क में है।’’ 

सिद्दीकी को रिहा करने की मांग कर रहा था अकरम
एफबीआई और पुलिस के प्रवक्ता ने यह बताने से इनकार किया कि अकरम किसकी गोली से मारा गया या उसने खुद को गोली मार ली। इसके बाद गतिरोध समाप्त हो गया। संदिग्ध व्यक्ति को घटना की सोशल मीडिया मंच पर सीधा प्रसारण के दौरान सिद्दीकी को रिहा करने की मांग करते सुना गया। पाकिस्तानी वैज्ञानिक आफिया सिद्दीकी को अफगानिस्तान में अमेरिकी सेना के अधिकारियों की हत्या के प्रयास के जुर्म में सजा सुनाई गई है।

वैज्ञानिक सिद्दीकी से बात करना चाहता था संदिग्ध
अधिकारियों ने बताया कि संदिग्ध ने यह भी कहा था कि वह वैज्ञानिक सिद्दीकी से बात करना चाहता है। एफबीआई के स्पेशल एजेंट इंचार्ज मैट डेसारनो ने बताया कि व्यक्ति का लोगों को बंधक बनाने का उद्देश्य ऐसे मुद्दे पर केंद्रित था जो सीधे तौर पर यहूदी समुदाय से संबंधित नहीं था।

साथ ही उन्होंने बताया कि तत्काल इस बात के कोई संकेत नहीं मिले हैं कि व्यक्ति किसी बड़ी साजिश का हिस्सा था, लेकिन डेसारनो ने कहा कि जांच एजेंसी हर पहलू से जांच करेगी। हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि अकरम ने यहूदी पूजा स्थल को ही क्यों चुना।

हमलावर खुद को अफिया का भाई बता रहा था
हमलावर खुद को अफिया का भाई बता रहा था। हालांकि, अमेरिकन इस्लामिक रिलेशन काउंसिल के अध्यक्ष जॉन फ्लॉयड ने कहा कि आफिया का भाई मोहम्मद सिद्दकी ह्यूस्टन में है। उसका इस हमले से कोई संबंध नहीं है। शनिवार शाम जब सिनेगॉग में चल रहे अनुष्ठानों का फेसबुक पर सीधा प्रसारण किया जा रहा था, उसी दौरान हमलावर बंदूक लेकर वहां पहुंचा और लाइवस्ट्रीम में वह अपनी बहन और इस्लाम का बार-बार जिक्र करते हुए दिखा। इस दौरान उसने कई जगहों पर बम रखने का भी दावा किया था।

सिद्दकी फिलहाल टेक्सास की फेडरल जेल में बंद है
आफिया सिद्दीकी पेशे से न्यूरोसाइंटिस्ट थी और अफगानिस्तान में अमेरिकी सैनिकों की हत्या के प्रयास में दोषी पायी गई थी और अमेरिकी मीडिया ने उसे 'लेडी कायदा' करार दिया था। सिद्दकी फिलहाल टेक्सास फेडरल जेल में बंद है और 86 वर्ष कैद की सजा भुगत रही है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00