लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   World ›   H1B Visa : Recommendation to approve H 1B visa for US, now awaiting For President Joe Bidens approval

H1B Visa : एच-1बी वीजा पर अमेरिका की मुहर लगाने की सिफारिश मंजूर, अब राष्ट्रपति बाइडन की 'हां' का इंतजार

एजेंसी, वाशिंगटन। Published by: योगेश साहू Updated Sat, 01 Oct 2022 05:05 AM IST
सार

H1B Visa : एच-1बी वीजा पाने या उसके नवीनीकरण की प्रतीक्षा वाले बड़ी संख्या में लोग अनिश्चितता में घिरे हैं। दरअसल, भारत जैसे देशों में उनके वीजा की अर्जियां लंबित हैं और वहां मौजूदा समय में प्रतीक्षा का समय एक साल से अधिक है।

एच-1बी वीजा
एच-1बी वीजा - फोटो : iStock
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

H1B Visa : राष्ट्रपति के एक आयोग ने अमेरिका में एच-1बी वीजा पर मुहर लगाने की सिफारिश सर्वसम्मति से पारित कर दी है। यह सिफारिशें एशियाई अमेरिकी और प्रशांत द्वीप वासियों पर लागू होंगे। जो बाइडन की मंजूरी मिलते ही भारतीयों समेत हजारों पेशेवरों को इससे बड़ी राहत मिलेगी।



एच-1बी एक गैर-अप्रवासी वीजा है, जिससे अमेरिकी कंपनियों को खास विशेषज्ञता वाले पेशेवरों में विदेशी कामगारों की भर्ती करने की अनुमति मिलती है। प्रौद्योगिकी कंपनियां भारत और चीन जैसे देशों से हर साल हजारों कर्मचारियों को भर्ती करने के लिए इस पर निर्भर रहती हैं। 


मौजूदा प्रक्रिया के तहत किसी भी शख्स को अमेरिकी कंपनी में नौकरी के लिए अपने देश में अमेरिकी वाणिज्यदूत या दूतावास में वीजा आवेदन की जरूरत होती है। मौजूदा फैसला हवाई मूल के लोगों तथा एशियाई-अमेरिकी व प्रशांत द्वीप वासियों को लेकर व्हाइट हाउस की बैठक में राष्ट्रपति के सलाहकार आयोग ने लिया। 

दूर होगी अनिश्चितता
एच-1बी वीजा पाने या उसके नवीनीकरण की प्रतीक्षा वाले बड़ी संख्या में लोग अनिश्चितता में घिरे हैं। दरअसल, भारत जैसे देशों में उनके वीजा की अर्जियां लंबित हैं और वहां मौजूदा समय में प्रतीक्षा का समय एक साल से अधिक है। ऐसे में नए फैसले के लागू होने पर भारतीयों को काफी लाभ मिलेगा। भारत में अभी वीजा मिलने की प्रतीक्षा अवधि 844 दिन की है। इसलिए उनके वीजा पर मुहर न लग पाने के कारण वे फंस जाते हैं। 

वीजाधारकों की मजबूरी बताई
आयोग के सदस्य और भारतवंशी जैन भुटोरिया ने एच-1बी वीजा पर मुहर की सिफारिश की थी। उन्होंने बैठक में आयोग सदस्यों से कहा, हमारी आव्रजन प्रक्रिया के अनुसार एच-1बी वीजा धारकों को अमेरिका में रहने और हमारी अर्थव्यवस्था, नवोन्मेष तथा आर्थिक विकास में योगदान देने का मौका दिया जाता है।

उन्होंने जोर देकर कहा, कई बार एच-1बी वीजा धारकों को अपने परिवारों से अलग होने के लिए विवश होना पड़ता है। वे उनके अभिभावकों के गंभीर हालत में होने पर भी स्वदेश नहीं जा पाते हैं क्योंकि उन्हें डर होता है कि कहीं उनके देश में वीजा अर्जी अटकी न रह जाए।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00