लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   World ›   Soldiers seize control of state broadcaster in Burkina Faso and announce coup

Burkina Faso: बुर्किना फासो में एक बार फिर तख्तापलट, सुबह से ही सुनाई देने लगी थी गोलियां चलने की आवाजें

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, बुर्किना फासो Published by: Jeet Kumar Updated Sat, 01 Oct 2022 04:37 AM IST
सार

यह अभी पता नहीं चल पाया कि लेफ्टिनेंट कर्नल पॉल हेनरी सैंडाओगो डामिबा पश्चिम अफ्रीकी देश में थे या नहीं। हालांकि फेसबुक पर सरकार ने एक बयान जारी कर लोगों से शांत रहने का आग्रह किया गया है। 

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर - फोटो : iStock
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

बुर्किना फासो में एक बार फिर तख्तापलट हो गया है, यहां की सेना के एक दर्जन से अधिक सदस्यों ने शुक्रवार की देर रात सरकारी टेलीविजन पर कब्जा कर लिया। देश में फरवरी में ही पहले ही सैन्य तख्तापलट के जरिये राष्ट्रपति को पद से हटा दिया गया था और राष्ट्रपति का कार्यभार संभाल रहे लेफ्टिनेंट कर्नल पॉल हेनरी सैंडाओगो डामिबा का अभी कुछ पता नहीं है।



यह अभी पता नहीं चल पाया कि लेफ्टिनेंट कर्नल पॉल हेनरी सैंडाओगो डामिबा पश्चिम अफ्रीकी देश में थे या नहीं। हालांकि फेसबुक पर सरकार ने एक बयान जारी कर लोगों से शांत रहने का आग्रह किया गया है। 

तख्तापलट का नेतृत्व करने वाले डामिबा ने पिछले हफ्ते देश के राष्ट्रपति के तौर पर न्यूयॉर्क की यात्रा की थी और संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित किया था। अपने संबोधन में डामिबा ने जनवरी में किए गए तख्तापलट को देश के अस्तित्व के लिये जरूरी बताते हुए उसका बचाव किया था। उन्होंने कहा कि यह अंतराष्ट्रीय समुदाय के लिये शायद निंदनीय हो।

नौ माह में दूसरी बार तख्तापलट, सत्ता से हटे हेनरी डामिबा
बुर्किना फासो में सैनिकों ने शुक्रवार देर रात सरकारी प्रसारणकर्ता को अपने नियंत्रण में ले लिया और सैन्य तख्तापलट करको राष्ट्रपति बने लेफ्टिनेंट कर्नल पॉल हेनरी सैंडाओगो डामिबा को महज नौ माह बाद ही सत्ता से बेदखल करने की घोषणा की।


सैन्य प्रवक्ता ने कहा कि कैप्टन इब्राहिम त्राओरे इस्लामिक चरमपंथ से जूझ रहे पश्चिम अफ्रीकी देश के नए राष्ट्राध्यक्ष हैं। डामिबा और उनके सहयोगियों ने महज नौ महीने पहले ही लोकतांत्रिक रूप से निर्वाचित राष्ट्रपति को सत्ता से बाहर कर दिया था और वह देश को अधिक सुरक्षित बनाने का वादा करके सत्ता में आए थे। 

हालांकि, हिंसा का दौर जारी रहा तथा हाल के महीनों में उनके नेतृत्व को लेकर असंतोष की आवाज बुलंद होने लगी थीं। कैप्टन किस्वेंदसिदा फारुक अजारिया सोरघो ने कहा, बिगड़ते सुरक्षा हालात में हमने सुरक्षा मुद्दों के बदलाव पर ध्यान केंद्रित करने का बार-बार प्रयास किया है। सैनिकों ने विश्व बिरादरी से वादा किया है कि वे अपनी प्रतिबद्धताओं का सम्मान करेंगे। उन्होंने देशवासियों से शांति से काम पर ध्यान केंद्रित करने का अनुरोध किया।
विज्ञापन

महासभा से लौटे थे राष्ट्रपति
डामिबा बुर्किना फासो के राष्ट्राध्यक्ष के तौर पर न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित कर हाल में लौटे थे। हालांकि, तनाव महीनों से बढ़ रहा है। डामिबा ने अपने भाषण में जनवरी में हुए तख्तापलट का बचाव करते हुए इसे देश को बचाए रखने का मुद्दा बताया था।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00